भोपाल : गो रूर्बन प्रस्तुत करता है ग्रामरंग गांधी भवन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 10 जनवरी 2019

भोपाल : गो रूर्बन प्रस्तुत करता है ग्रामरंग गांधी भवन

go-rurban-presents-gramrang-bhavan
भोपाल,10 जनवरी। गो रूर्बन की प्रस्तुत करता है ग्रामरंग 11 से 13 जनवरी को गांधी भवन,भोपाल,मध्य प्रदेश में ।ग्रामरंग" .....गाँव का एक सुनहरा रंग। कोयल, मल्हार, नदी, धूप छाव का देश।भारत है और रहेगा हमेशा गाँव का देश। भारत हमेशा से गाँवों का देश कहाँ जाता रहा है। किसान कृषि की बात आते ही मन सीधे गाँव की तरफ जाने को आतुर होता है। मुंडेर पर बैठी चिड़िया, खेतों लहलहाते खेत, सावन में मल्हार गाते हुए लोग, अपनी बोली में आसानी से बात कह जाना। ये सभी गांव की सुंदरता, गाँव को हमेशा जीवंत रखते है। गाँव के इन्हीं विशेषताओं के लिए एक उत्सव है "ग्रामरंग"। "गो रुर्बन" का हमेशा प्रयास रहा है, शहरों और गाँवों के युवाओं को एक साथ जोड़ने का।  गो रुर्बन द्वारा आयोजित शिविर और कार्यक्रम प्रतिभागियों को ग्रामीण जीवन शैली का एक अंतर्दृष्टि और ग्रामीणों के प्रति संवेदनशीलता विकसित करने का प्रयास करता है। शहरी जीवन शैली में ग्रामीण योगदान को ध्यान में रखने और ग्रामीण और शहरी दोनों के संयोजन के रूप में 'रुर्बंन' का अर्थ पूर्ण करने का प्रयास करता रहा है। इस बार एकता परिषद, युवा एवम भूमि एशिया, मानव जीवन विकास समिति कटनी के साथ मिलकर "ग्रामरंग " महोत्सव करने की कोशिश कर रहा है। एकता परिषद और मानव जीवन विकास समिति पिछले कई सालों से गाँवों के विकास के लिए काम कर रहे हैं। ग्रामरंग का प्रयास है, सभी किसानों और कारीगरों को एक बाज़ार उपलब्ध कराना। जहाँ सभी वस्तुओं और उत्पादों को उचित मूल्य प्राप्त हो सकें। इस उत्सव में गाँव से जुड़े व्यवसायों, संस्कृतियों और अलग अलग पहलुओं को दिखाने के लिए "युवा की दृष्टि, गाँव की मिट्टी" चित्र प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है। मध्यप्रदेश के भौगोलिक जगहों पर खींचें गये तस्वीरों के माध्यम से भूमि और युवाओं के साझेदारी को दर्शाया गया है। गाँव में होने वाले व्यवसायों को युवाओं के अलग अलग दृष्टिकोण से दिखाया गया है। साथ ही छायाचित्र प्रतियोगिता में चयनित प्रथम 30 छायाचित्रों को 3 दिवसीय प्रदर्शनी "युवा की दृष्टि, गाँव की मिट्टी" में शामिल किया जाएगा। 12 जनवरी की शाम होने वाला ओपन माइक का उद्देश्य स्थानीय बोलियों को एक मंच देना है। जहाँ आज के युवा गाँव की आम बोलचाल की भाषा में कवितायें और गीत को मंच से पूरी दुनिया के सामने रखे। 13 जनवरी को फैशन शो "भारत की संतान" के जरिए गाँव की वेश भूषा को दिखाएंगे।  इस कार्यक्रम का उद्घाटन 11 जनवरी को शाम 4 बजे श्री राजगोपाल पी व्ही, संस्थापक एकता परिषद,  श्री जीतू पटवारी, "उच्च शिक्षा ,युवा एवम खेल मंत्री मध्यप्रदेश, श्री कुणाल चौधरी विधायक काला पीपल, रणसिंह परमार अध्यक्ष एकता परिषद करेंगे। 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...