मधुबनी : मुख्यमंत्री ने किया मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय का शिलान्यास - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 10 जनवरी 2019

मधुबनी : मुख्यमंत्री ने किया मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय का शिलान्यास


mithila-chikrkala-sansthaan-saurath-foundation
मधुबनी/सौराठ (आर्यावर्त संवाददाता) 10, जनवरी  नीतीश कुमार ने मधुबनी जिला के रहिका प्रखंडान्तर्गत ग्राम-सौराठ में ‘‘मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय‘‘ के प्रस्तावित शिलान्यास एवं कार्यारंभ कार्यक्रम के अवसर पर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत हैलीकाॅप्टर से पोखरौनी गांव स्थित हेलीपैड पर पहुंचे। हैलीकाॅप्टर से उतरने के पश्चात आयुक्त, दरभंगा प्रमंडल, दरभंगा, पुलिस महानिरीक्षक, दरभंगा, पुलिस उपमहानिरीक्षक, दरभंगा, जिला पदाधिकारी, मधुबनी, पुलिस अधीक्षक, मधुबनी द्वारा बुके देकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया गया। उसके बाद मुख्यमंत्री को सलामी दी गई। मुख्यमंत्री हेलीपैड से सड़क मार्ग द्वारा संस्कृत उच्च विद्यालय, सौराठ (मिथिला चित्रकला संस्थान शिलान्यास स्थल) पहुंचे। जहां उनके द्वारा फीता काटकर विभिन्न मिथिला क्राफ्ट के स्टाॅल का निरीक्षण किया गया। पुनः मुख्यमंत्री द्वारा परिसर में सांकेतिक रूप से शुरू किये गये सर्टिफिकेट कोर्स के कक्षा का निरीक्षण किया गया एवं विद्यार्थियों के साथ परिचय किया गया।

mithila-chikrkala-sansthaan-saurath-foundation
मुख्यमंत्री का विद्यार्थियों से परिचय के उपरांत मंच पर आगमन हुआ। वहां  मुख्यमंत्री एवं अन्य गणमान्य लोगों को जिला पदाधिकारी,मधुबनी द्वारा मिथिला पेटिंग एवं पाग-दोपट्टा से स्वागत किया गया।  मुख्यमंत्री का अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा मखाने की माला एवं पुष्प माला से स्वागत किया गया। तत्पष्चात जिला पदाधिकारी,मधुबनी-सह-निदेषक,मिथिला चित्रकला संस्थान,सौराठ के द्वारा  मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए मिथिला चित्रकला,संस्थान के गतिविधियों के संबंध में जानकारी दी गयी।  तत्पष्चात  मुख्यमंत्री,बिहार द्वारा संस्कृत उच्च विद्यालय,सौराठ के प्रांगण में मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय का रिमोट द्वारा मंच से आधारषीला रखी गयी। उपस्थित लोगों द्वारा तालियों द्वारा  मुख्यमंत्री का आभार प्रकट किया गया। तत्पचात श्री विनोद नारायण झा, मंत्री,पी0एच0ई0डी0,बिहार,श्री कपिलदेव कामत, मंत्री,पंचायती राज विभाग,बिहार, श्री महेष्वर प्रसाद हजारी, मंत्री, भवन निर्माण विभाग,बिहार, श्री नंद किषोर यादव, मंत्री, पथ निर्माण विभाग,बिहार, श्री कृष्ण कुमार ऋषि, मंत्री, कला,संस्कृति एवं युवा विभाग,बिहार, श्री संजय झा, सदस्य,राज्य योजना आयोग,बिहार,श्री राम लखण राम रमण, विधान पार्षद,मधुबनी, श्री लक्ष्मेष्वर राय, विधायक,लौकहा द्वारा लोगों को संबोधित किया गया।

mithila-chikrkala-sansthaan-saurath-foundation
मुख्यमंत्री  ने कहा कि मधुबनी के रांटी एवं जितवारपुर मंे वर्ष 2012 में आया था। जहां लोगों की मिथिला पेंटिंग के प्रति लगाव को देखते हुए हमने इसके विस्तार हेतु चित्रकला प्रषिक्षण संस्थान बनानेे का एलान किया। सितंबर 2013 में मंत्रिपरिषद की स्वीकृति भी मिल गयी। जिसमें हमने इसके महत्व को देखते हुए ललित संग्रहालय का भी निर्णय लिया। जिसके लिए इस स्थल का चयन किया गया। इस विषय पर व्यापक परामर्ष कर डी0पी0आर0 तैयार किया गया तथा डिजाइन किया गया। मैं हमेषा इसके निर्माण कार्य प्रारंभ करने के संबंध में संबंधित विभाग से बराबर पूछता रहता था। मिथिला चित्रकला संस्थान का टंेडर भी होगा। विभागीय लोगों द्वारा षिलान्यास करने हेतु कई बार कहा गया। हमने उन्हंे कहा कि षिलान्यास के साथ-साथ कार्यारंभ भी हो,ऐसी व्यवस्था करें। साथ ही यह भी निदेष दिया कि तत्काल किराये के भवन में सर्टिफिकेषन कोर्स तथा डिग्री कोर्स को संचालित किये जाने की व्यवस्था करें। उन्होंने कहा कि चित्रकला संस्थान में सिखाने हेतु आचार्य हेतु राष्ट्रीय स्तर पर सम्मान प्राप्त और उप-आचार्य हेतु राज्य सरकार से पुरस्कृत कलाकार को रखने की व्यवस्था की गयी है। यह चित्रकला संस्थान आर्यभट्ट ज्ञान विष्वविद्यालय से संबद्ध है। प्रायः ऐसा देखा जा रहा है कि मिथिला पेंटिंग में महिलाओं की रूचि विषेषकर अधिक है। चित्रकला संस्थान में भी सर्टिफिकेषन कोर्स में 11 लड़कियों का नामांकन किया गया है। सर्टिफिकेट कोर्स में 6 माह एवं डिग्री कोर्स 3 वर्ष का है। जिसके लिए सर्टिफिकेट कोर्स में नामांकन लेने वाले को 1,000 रूपये आर्थिक सहायता तथा निःषुल्क आवासन एवं भोजन की व्यवस्था की गयी है। एवं डिग्री कोर्स वाले छात्र-छात्राओं के लिए 1500 रूपये एवं निःषुल्क आवासन एवं भोजन की व्यवस्था की गयी है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि भवन निर्माण निगम को निदेष दिया गया है कि वे न्यूनतम समय-सीमा के अंदर अगस्त 2020 तक मिथिला चित्रकला संस्थान एवं  मिथिला ललित संग्रहालय का निर्माण करने को कहा है। प्रबंध निदेषक,भवन निर्माण निगम,बिहार द्वारा मुख्यमंत्री को आष्वस्त किया गया कि वे अगस्त 2020 तक अवष्य निर्माण कार्य पूर्ण करेंगे। उन्होंने कहा कि मिथिला पेंटिंग का देष-विदेष में प्रचार है। उन्हें जापान यात्रा के क्रम में जापान में मिथिला म्युजियम होने की जानकारी मिली थी। उन्होंने कहा कि सांकेतिक तौर पर वर्ग संचालन शुरू कर दिया गया है। मिथिला पेंटिंग से सभी समाज के लोग जुडे है। लड़कियों की इसमें विषेष रूचि है। इस क्षेत्र में आगे बढ़ने से कला का विकास तो होगा ही साथ-साथ आर्थिक रूप से भी महिलाएं सषक्त होंगी। इसे काफी विकसित करने का प्रयास सभी लोग मिलकर करेंगे। उन्होंने कहा कि पटना एयरपोर्ट का विस्तार किया जा रहा है। वहां भी पूरे भवन में दीवारों पर मिथिला पेंटिंग किया जाना है। रेलवे स्टेषन पर भी मिथिला पेंटिंग हेतु वे प्रेरित कर रहे है। मुख्यमंत्री आवास एवं कार्यालयों में भी दीवारों पर मिथिला पेंटिंग की गयी है। जिसे मधुबनी के कलाकारों द्वारा ही किया गया है। पटना में भी सड़क किनारें दिवालों पर मिथिला पेंटिंग की गयी है। हमलोगों का प्रेम और श्रद्धा मिथिला पेंटिंग के प्रति है। उन्होंने कहा कि मिथिला पेंटिंग का विकास आप सब लोगों के सहयोग के बिना संभव नहीं है। वे कहते रहे है कि देष का विकास तब तक नहीं संभव है,जब तक बिहार का विकास नहीं होता है। वैसे ही बिहार का विकास तब तक संभव नहीं है,जब तक मिथिलांचल का विकास संभव नहीं होता है। उन्होंने कहा कि वे यहां से निकलने के उपरांत भारत-नेपाल सीमा से सटे सड़क निर्माण कार्य का निरीक्षण करेंगे।

माननीय मुख्यमंत्री,बिहार ने कहा कि अप्रैल 2018 तक हर गांव में एवं अक्टूबर 2018 तक हर घर में बिजली पहुंचाने का कार्य किया गया है। समाज में सभी जाति,धर्म एवं मजहब के लोग एक-दूसरे के बीच सामाजिक भाईचारे का माहौल बनाये रखें,ताकि बिहार का विकास का होता रहें। एक-दूसरे का सम्मान करें। वे न्याय के साथ विकास,समाज के सभी तबके एवं सभी इलाके का विकास के लक्ष्य पर कार्य करते है। उन्होंने कहा कि सभी अपने बच्चों को अवष्य पढ़ावें। सरकार के द्वारा 12 वीं के बाद भी पढ़ाई जारी रखने हेतु स्टूडंेट क्रेडिट कार्ड की शुरूआत की गयी है। उच्च्तर षिक्षा के लिए 4 लाख रूपये की सहायता साधारण ब्याज पर दी जा रही है। लड़कियों/दिव्यांग एवं ट्रांसजेंडरों को मात्र 1 प्रतिषत ब्याज लगेगा। वह भी यदि पढ़ाई पूरी करने के पष्चात वे राषि लौटाने में असक्षम है,तो उन्हंे राषि लौटाने की आवष्कता नही है। उन्होंने सभी लोगों से स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का लाभ लेने का आग्रह किया। उन्होंने सभी लोगों से बिहार के गौरव को बढ़ाने का आग्रह किया। साथ ही सभी लोगों से अपने-अपने बच्चों को पढ़ाने की अपील की गयी।  इस अवसर पर श्री दीपक कुमार,मुख्य सचिव,बिहार, श्री अमृत लाल मीणा,प्रधान सचिव,पथ निर्माण विभाग,बिहार, श्री रवि मनुभाई,सचिव,कला,संस्कृति एवं युवा विभाग,बिहार, श्री अमित कुमार,प्रबंध निदेषक,भवन निर्माण निगम,बिहार समेत अन्य पदाधिकारीगण एवं जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे। तत्पष्चात माननीय मुख्यमंत्री,बिहार सड़क मार्ग से हेलीपैड पहुंचे एवं पुनः हेलीकाॅप्टर से प्रस्थान किये।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...