‘वेल प्लेड सर, आप जहां भी हैं और सिखाते रहें ’ : तेंदुलकर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 3 जनवरी 2019

‘वेल प्लेड सर, आप जहां भी हैं और सिखाते रहें ’ : तेंदुलकर

sachin-tribute-to-his-great-coach
नयी दिल्ली, दो जनवरी, अपने बचपन के कोच रमाकांत आचरेकर को भावभीनी श्रृद्धांजलि देते हुए चैम्पियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने कहा ,‘‘ आचरेकर सर की मौजूदगी से स्वर्ग में भी क्रिकेट धन्य हो गया होगा ।’’  आचरेकर का 87 वर्ष की उम्र में बढती उम्र से जुड़ी बीमारियों के कारण आज मुंबई में निधन हो गया । उनके सबसे काबिल शिष्य ने एक बयान में कहा ,‘‘ उनके कई छात्रों की तरह मैने भी क्रिकेट का ककहरा सर के मार्गदर्शन में सीखा ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ मेरी जिंदगी में उनके योगदान को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता । उन्होंने वह नींव बनाई जिस पर मैं खड़ा हूं ।’’  आधुनिक क्रिकेट के महानतम बल्लेबाज तेंदुलकर को आचरेकर सर मुंबई के शिवाजी पार्क में कोचिंग देते थे ।  आचरेकर ने खुद एक ही प्रथम श्रेणी मैच खेला लेकिन तेंदुलकर के कैरियर को संवारने में उनका बड़ा योगदान रहा । वह अपने स्कूटर से उसे स्टेडियम लेकर जाते थे ।  तेंदुलकर ने कहा ,‘‘ पिछले महीने मैं सर से उनके कुछ छात्रों के साथ मिला और हमने कुछ समय साथ बिताया । हमने पुराने दौर को याद करके काफी ठहाके लगाये ।’’  उन्होंने कहा ,‘‘ आचरेकर सर ने हमें सीधा खेलने और जीने का महत्व बताया । हमें अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाने और अपने अनुभव को हमारे साथ बांटने के लिये धन्यवाद सर ।’’ उन्होंने आगे लिखा ,‘‘ वेल प्लेड सर । आप जहां भी हैं, वहां और सिखाते रहें ।’’ 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...