बिहार : सत्याग्रह संवाद पदयात्रा का अंतिम पड़ाव तरूमित्र आश्रम दीघा में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 फ़रवरी 2019

बिहार : सत्याग्रह संवाद पदयात्रा का अंतिम पड़ाव तरूमित्र आश्रम दीघा में

satyagrah-samvad-yatra-patna
पटना,18 फरवरी। करीब 255 किमी की दूरी तय करके सत्याग्रही तरूमित्र,दीघा पहुंचे. पश्चिमी चम्पारण जिले में स्थित भितिहरवा गांधी आश्रम से 4 फरवरी को चले थे। बिहार भूमि अधिकार जन जुटान रैली 18 फरवरी को है. सत्याग्रह संवाद पदयात्रा का अंतिम पड़ाव तरूमित्र,दीघा में है.कल सुबह रवाना होंगे बिहार भूमि अधिकार जन जुटान रैली में.

तरुमित्र आश्रम, दीघा
चार फरवरी को भितिहरवा से चले पचास के करीब पदयात्रियों का जत्था आज शाम यहां पहुंचा. एक नीरव शांति और लगभग जंगल-से इस आश्रम के खुले प्रांगण/परिसर में विश्राम करने के बाद वे कल गांधी मैदान की ओर पैदल कूच करेंगे. आश्रम निवासियों ने उनके स्वागत की पूरी तैयारी कर रखी थी. थके पदयात्रियों को पैर धोने के लिए गरम पानी था. फिर चाय नाश्ते के बाद घने पेड़ों से घिरे खुले प्रांगण में दो तीन अलाव जल गये. इस बीच अन्य जिलों के अनेक साथी आ गये- हेमंत, घनश्याम, कौशल गणेश आजाद, उमेश (मुज.) आदि. फिर क्रांति गीतों का सामूहिक गायन हुआ. अभी चर्चित कवि आलोक धन्वा ओजस्वी अंदाज में भारत की आजादी और विश्व इतिहास के प्रेरक प्रसंग सुना रहे हैं.... इसके बाद कविता भी सुनायी ही होगी. पर कह नहीं सकता, क्योंकि तभी मैं वहां से निकल गया. लौटना जरूरी था.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...