अयोध्या विवाद में मध्यस्थता पर शुक्रवार को आदेश सुनायेगा सुप्रीम कोर्ट - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

अयोध्या विवाद में मध्यस्थता पर शुक्रवार को आदेश सुनायेगा सुप्रीम कोर्ट

ayodhya-dispute-supreme-court-order-on-mediation-on-friday
नयी दिल्ली, 07 मार्च, उच्चतम न्यायालय अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को मध्यस्थता के जरिये सुलझाए जाने के मसले पर शुक्रवार को फैसला सुनायेगा। शीर्ष अदालत के अतिरिक्त रजिस्ट्रार (सूची) की ओर से आज शाम जारी नोटिस में इस बाबत जानकारी दी गयी।  मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ कल इस बारे में आदेश जारी करेगी कि अयोध्या विवाद का निपटारा मध्यस्थता के जरिये किया जायेगा या नहीं। संविधान पीठ ने कल वृहद सुनवाई के बाद इस मसले पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। गौरतलब है कि संविधान पीठ के समक्ष मध्यस्थता के मसले पर कल सुनवाई हुई थी, जिसमें दोनों हिन्दू पक्षकारों- निर्मोही अखाड़ा और रामलला विराजमान के वकीलों ने इस विवाद को मध्यस्थता के जरिये सुलझाए जाने के प्रयास का विरोध किया था। उनका कहना था कि यह मसला पूरी तरह भूमि विवाद का है और इसे मध्यस्थता के जरिये नहीं सुलझाया जाना चाहिए। मुस्लिम पक्षकार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने हालांकि मध्यस्थता का विरोध नहीं किया था। शीर्ष अदालत ने हिन्दू पक्षकारों की ओर से मध्यस्थता से इन्कार किये जाने पर आश्चर्य जताया था। न्यायालय ने कहा था कि अतीत पर उसका कोई वश नहीं, लेकिन वह बेहतर भविष्य की कोशिश जरूर कर सकता है। संविधान पीठ ने इसके साथ ही अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था कि अयोध्या विवाद का निपटारा मध्यस्थता के जरिये हो या नहीं। संविधान पीठ में न्यायमूर्ति गोेगोई के अलावा, न्यायमूर्ति एस ए बाबडे , न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर शामिल हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...