बिहार : भाकपा ने आतंकी हमले कि निंदा की, शहीदों को दिया श्रधांजलि - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 मार्च 2019

बिहार : भाकपा ने आतंकी हमले कि निंदा की, शहीदों को दिया श्रधांजलि

cpi-tribute-to-martyrs
पटना (आर्यावर्त संवाददाता) 02 मार्च। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की बिहार राज्य कार्यकारिणी की बैठक कल यहां पार्टी के राज्य कार्यालय में रामचन्द्र सिंह, पूर्व विधायक की अध्यक्षता में हुयी। बैठक में सर्वप्रथम पुलवामा में ओर उसके बाद के आतंकी हमले की निन्दा की गयी और उन हमलों में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। पार्टी की राज्य कार्यकारिणी ने विंग कमांडर अभिनन्दन की भारत वापसी का स्वागत किया है। राज्य कार्यकारिणी ने कहा है कि आतंकी हमलों में शहीद हुए जवानों के परिवारों और आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहे जवानों के पीछे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और समूचा देष खड़ा है। इसके साथ ही राज्य कार्यकारिणी ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद देष के विभिन्न हिस्सों में कष्मीरियों के ऊपर हुए हमले की भी सख्त निन्दा की। भारतीय जनता पार्टी के नेता और संघ परिवार के अन्य संगठन अपने क्षूद्र चुनावी फायदे के लिए देष की एकता को नुकसान पहुँचा रहे है, जबकि आज देष की हालात को देखते हुए मजबूत और व्यापक एकता के साथ-साथ शांति और सौहार्द की भी सख्त जरूरत है।

बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव पर भी विस्तार से विचार विमर्ष हुआ। राज्य कार्यकारिणी ने अपनी पार्टी के पूर्व के संकल्प को दुहराते हुए कहा कि सत्ता से भाजपा को बाहर करने के लिए वामपंथी, सेक्युलर और लोकतांत्रिक दलों और शक्तियों को एकजुट करने का हर संभव प्रयास जारी रहेगा। बिहार में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी छः सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। ये सीटें हैं- बेगूसराय, मधुबनी, बांका, मोतिहारी, खगड़िया और गया। ये सभी सीटें पार्टी के मजबूत संगठन और व्यापक राजनीतिक आधार वाली सीटें है। इन सभी सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ने के लिए तैयार है।  राज्य कार्यकारिणी ने कहा  है कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को करारी षिकस्त देना हमारी प्राथमिकता है। बिहार की जो परिस्थिति है उसमें सभी वामपंथी, सेक्युलर और लोकतांत्रिक दल एकजुट होकर एन.डी.ए. उम्मीदवारों के खिलाफ लड़े तो बिहार में एन.डी.ए. को करारी षिकस्त दी जा सकती है। इसके लिए जरूरी है कि एन.डी.ए. विरोधी वोटों के विखराव को हर हालत में रोका जाय। बिहार में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी एन.डी.ए. विरोधी वोटों के विखराव को रोकने के लिए हर संभव कोषिष कर रही है। इस उद्देष्य को पूरा करने के लिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को अपनी तयषूदा छः सीटों में से कुछ सीटें छोड़नी भी पड़े तो कुछ सीटें छोड़ सकती है।  राज्य कार्यकारिणी ने इस बात पर असंतोष व्यक्त किया कि दो -चार दिनों के बाद ही लोकसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा होनेवाली है मगर अभीतक महागठबंधन और वामपंथी दलों के बीच सीट बंटवारे की प्रक्रिया पूरी नहीं हुयी है। इस काम में सुस्ती चुनाव में नुकसानदेह साबित हो सकती है। महागठबंधन के दो बड़े दल राजद और काँग्रेस इस स्थिति को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। 25 अक्टूबर पटना के गांधी मैदान में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की विषाल रैली को संबोधित करते हुए राजद और कांग्रेस के नेताओं ने बिहार की जनता को आष्वस्त किया था कि भाजपा को हराने के लिए सभी वामपंथी , सेक्युलर और लोकतांत्रिक दल आपस में मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेगे। किसी वजह  से अगर ऐसा नहीं हुआ तो राजद और कांग्रेस बिहार की जनता के सामने उसके लिए जवाबदेह होगी। राज्य कार्यकारिणी ने राजद और कांग्रेस से अपील की है कि वे महागठबंधन और वामदलों के नेताओं के साथ शीघ्र बैठक करे और सम्मानजनक सीटों के बंटवारे की काम पूरा करे ताकि एनडीए विरोधी सभी दल अपनी-अपनी सीटों पर मुस्तैदी से चुनाव कार्य में लग सके। सीटों के बंटवारे के काम में बहुत बिलम्ब हो चुका है और अगर अधिक विलम्ब होगा तो विपक्षी दलों को नुकसान होगा और इसीक पूरी जवाबदेही राजद और कांग्रेस की होगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...