बिहार : महादलित मुसहर समुदाय के उमेश मांझी की बेटी शोभा कुमारी की संदेहास्पद मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 6 मार्च 2019

बिहार : महादलित मुसहर समुदाय के उमेश मांझी की बेटी शोभा कुमारी की संदेहास्पद मौत

पद्मश्री सिस्टर सुधा वर्गीस ने कहा कि मैंने खुद दानापुर एसडीओ साहब से बातचीत कर मसौढ़ी के तारेगना मुसहरी में रहने वाले उमेश मांझी की बेटी शोभा कुमारी की संदेहास्पद मौत पर से पर्दा हटाने के उदे्श्य से पोस्टमार्टम करवाना चाहती थीं तो शोभा कुमारी के पिता उमेश मांझी और उनके परिवार के लोग कहने लगे कि अब तो वह मर गयी हैं तो पोस्टमार्टम करवाकर चीरफाड़ करवाने की जरूरत क्या है?
mahadalit-daughter-died
दानापुर,06 मार्च। महादलित मुसहर समुदाय की लड़कियों को प्रेरणा छात्रावास, लाल कोठी,दानापुर में रखकर पढ़ाया जाता है. इसे एक नोट्रेडेम सोसायटी की सिस्टर के द्वारा चलाया जाता है. इस सिस्टर का नाम सुधा वर्गीस है. इसने नारी गुंजन नामक गैर सरकारी संस्था बना रखी हैं.इसी संस्था से प्रेरणा छात्रावास संचालित है। कई तरह की प्रभावशाली कार्यों के चलते सरकार ने सिस्टर सुधा वर्गीस को पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया है. प्रेरणा छात्रावास में रहकर अध्ययनरत शोभा कुमारी बीमार पड़ी और अधिक तबीयत खराब होने के बाद उसे तत्काल कुर्जी होली फैमिली हाॅस्पीटल में भर्ती कराया गया,जहां इलाज के दौरान वह मर गयी. वह 15 साल की थीं. गुंजन नामक गैर सरकारी संस्था की संस्थापक पद्मश्री सिस्टर सुधा वर्गीस के बारे में कहा जाता है कि उन्हें साइकिल वाली दीदी से लोग जानते है और पहचानते हैं. इसी नाम से विख्यात हैं प्रेरणा छात्रावास की संचालिका. लाल कोठी,दानापुर में सिस्टर सुधा वर्गीस ने कहा कि मैंने खुद दानापुर एसडीओ साहब से बातचीत कर मसौढ़ी के तारेगना मुसहरी में रहने वाले उमेश मांझी की बेटी शोभा कुमारी की संदेहास्पद मौत पर से पर्दा हटाने के उदे्श्य से पोस्टमार्टम करवा चाहती थीं तो शोभा कुमारी के पिता उमेश मांझी और उनके परिवार के लोग कहने लगे कि अब तो वह मर गयी हैं तो पोस्टमार्टम करवाकर चीरफाड़ करवाने की जरूरत क्या है? इसके बाद पोस्टमार्टम नहीं करवाने की स्वीकृति को एक कागज पर लिखा लिया गया,ताकि वक्त पर काम आ सके.

मृतक शोभा कुमारी के पिता उमेश मांझी ने मसौढ़ी थानाध्यक्ष के समक्ष आवेदन लिखकर कानूनी कार्रवाई करने का कर दिया निवेदन इस बीच स्व. शिवलखन मांझी तारेगना मुसहरी वार्ड नम्बर-2 मसौढ़ी, जिला पटना का स्थायी निवासी के पुत्र उमेश मांझी मांझी ने मसौढ़ी थानाध्यक्ष के समक्ष आवेदन लिखकर कानूनी कार्रवाई करने का निवेदन किया है. आवेदन में उमेश मांझी ने लिखा है कि मेरी बेटी शोभा कुमारी उम्र 15 वर्ष. प्रेरणा छात्रावास नारी गुंजन, लाल कोठी,दानापुर,पटना में वर्ग-8 की छात्रा है. कल दिनांक 05.03.2019 को समय लगभग 4ः30 बजे शाम को मेरे घर के पड़ोसी झंडु मांझी पिता स्व. कांग्रेस मांझी तारेगना मुसहरी ने बताया कि उसे मोबाइल पर दानापुर से खबर मिली है कि आपकी बच्ची शोभा कुमारी बीमार है. बीमारी की खबर सुनकर मैं और मेरे परिवार ललिता देवी और पुत्र कुंदन मांझी के साथ प्रेरणा छात्रावास दानापुर पहुंचे. नारी गुंजन परिसर में जाकर पूछने पर प्रेरणा छात्रावास विघालय के द्वारा बताया कि आपकी बेटी शोभा कुमारी का इलाज कुर्जी होली फैमिली हाॅस्पिटल में भर्ती करके किया जा रहा है.यहां से यानी दानापुर से 8 बजे से 9 बजे के रात्रि के बीच कुर्जी में पहुंचे. अस्पताल में जानकारी लिया गया तो अस्पताल के स्टाफ ने बताया कि आपकी बच्ची शोभा कुमारी की मृत्यु हो गयी है.यह सुनकर हमलोग रोने-पीटने लगे. जब अपनी बच्ची को देखना चाहा तो हमे कहा गया कि पहले एक पन्ना पर अपना साइ्रन कर दो. जिस पर पहले से कुछ लिखा हुआ था. साईन नहीं किया तो हमे जाति सूचक शब्द का प्रयोग कर प्रताड़ित किया जाने लगा. हम डर कर पन्ना पर साईन कर दिए. हमे पूर्ण विश्वास है कि हमारी बच्ची को नारी गुंजन संस्था की सुधा वर्गीस तथा विघालय के प्रशासक ने उसे (शोभा कुमारी) को जानबूझ कर मार दिया गया है.अतः उपरोक्त विषय पर तत्काल प्राथमिकी दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाए. जानकारी के अनुसार उमेश मांझी ने जो आवेदन मसौढ़ी थाने में लिखित न्याय करने के लिए दिया गया था उसे मसौढ़ी थानाध्यक्ष ने संबंधित क्षेत्र थाना दानापुर को मामला रेफर कर दिया है. इसकी जांच करने का आदेष डीएम और एसएसपी ने जारी कर दिया है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...