बेगुसराय : नाट्य कला प्रशिक्षण कार्यशाला एमटीएफ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 11 मार्च 2019

बेगुसराय : नाट्य कला प्रशिक्षण कार्यशाला एमटीएफ

naty-kala-prashikshan-workshop
अरुण कुमार (आर्यावर्त) एमटीएफ यानी मॉडर्न थियेटर फाउण्डेशन के संस्थापक,संचालक वरिष्ठ रंगकर्मी मो०परवेज यूसुफ के द्वारा विगत 05 मार्च 2019 से चलाए जा रहे हैं,जो कि आगामी 15 मार्च 2019 तक चलेगी।इसमें विभिन्न प्रकार के नाट्य विधाओं से संबंधित प्रशिक्षण दिया जा रहा है जो कि पूर्णतः निःशुल्क है इसमें मात्र 20 बच्चों को प्रशिक्षित करने का फैसला लिया गया था किन्तु अभी वर्तमान में 24 बच्चे इस नाट्य कला कार्यशाला में प्रतिभागी हुए हैं।यह कार्यशाला उन विद्यार्थियों (इच्छुकों) के लिये लगाने का फैसला लिया गया है जो भारी रकम खर्च करके बाहर किसी अन्य ऐक्टिंग कोर्स करने में सक्षम नहीं हैं।युसूफ का मानना है कि क्यों नहीं हम उन बच्चों को यहीं प्रशिक्षण दें कि जो किसी अन्य संस्थानों में प्रशिक्षण नहीं ले सकते।इस कार्यशाला में भरत मुनि के नाट्य शास्त्रों का जिक्र करते हुए जीवन में घटनेवाली लगभग प्रत्येक आयामो पर बल देते हुए नव रस के बारे में भी बताया जा रहा है,जिससे बच्चों को किसी भी तरह की नाट्य प्रस्तुति में कोई व्यवधान उत्पन्न नहीं होंगे।देखा जाता है कि मंच पर जाने के बाद अच्छे अच्छों का हाथ पैर कांपने लगता है और जो कला,रंगमंच से जुड़ा होता है वो धड़ल्ले से किसी भी मंच से कुछ बोल सकता है,अभिनय कर सकता है,इस तरह नाट्य प्रशिक्षण से सारे हिचकिचाहट दूर हो जाते हैं और फिर वो लड़का या लड़की अपने जीवन शैली में भी किसी भी स्थिति परिस्थितियों का मुकाबला करने में भी स्वयं सक्षम होते हैं।इस तरह से रंगकर्मियों को तैयार करने से एक स्वास्थ्य समाज के निर्माण का लक्ष्य रखते हुए कार्यशाला लगाया गया है।जिसके दिमाग में रंगकर्म के प्रति लगाव,झुकाव होगा उसके दिमाग में कोई खुराफात जैसी भावना उत्पन्न होने की संभावना नहीं के बराबर होता है।इन्ही सारी बातों को ध्यान में रखते हुए निःशुल्क नाट्य कार्यशाला लगाने का मुख्य उद्देश्य से नाट्य विधा प्रशिक्षण कार्यशाला लगाया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...