भोपाल : एकता परिषद ने महिला अधिकार दिवस मनाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

भोपाल : एकता परिषद ने महिला अधिकार दिवस मनाया

चौरईया के जंगल में हुआ भारी जन जुड़ाव
womens-day-celebrate-by-ekta-parishad
मड़ियादाे। मध्य प्रदेश के साथ जल, जंगल ,जमीन के मुद्दे पर देश दुनिया में काम करने वाले जन संगठन एकता परिषद के बैनर तले पन्ना टाइगर  रिजर्व के बफर जोन में आने वाले ग्राम चौरईया में अंतर्राष्ट्रीय महिला अधिकार दिवस मनाया गया । कार्यक्रम में एकता परिषद के प्रदेश अध्यक्ष सुजात खान बताैर अतिथि मौजूद रहे । कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व सरपंच सुमत रानी आदिवासी ने की । इस संबंध में भूमि अधिकार संघर्ष मोर्चा के प्रांतीय सदस्य लल्लू सिंह आदिवासी , परसू आदिवासी मे बताया कि बैठकें मे 20 ग्रामों के 200 से अधिक सक्रिय मुखिया महिला पुरुष साथियों ने भाग लिया । बैठक में महिला पुरुषों के हक ,अधिकारों , कर्तव्यों , महिला हिंसा , प्राप्त कानूनी अधिकारों एवं समाज में वंचितों की आर्थिक , राजनीतिक ,सामाजिक ,शैक्षणिक स्थिति पर विस्तार से चर्चा की गई । साथ ही वन अधिकार कानून , भू राजस्व कानून,मनरेगा कानून ,शासकीय याेजनाओं तक पहुंच, सुप्रीम कोर्ट के बेदखली संबंधी आदेश, पन्ना टाइगर रिजर्व एवं वन विभाग की तानाशाही, भोपाल बैठक  के निर्णय , सदस्यता अभियान, भूमिअधिकार  संघर्ष मोर्चा गठन ,सहित अनेक मुद्दाें पर बातचीत हुई । साथ ही ग्राम सभा में  वनाधिकार कानून का प्रस्ताव भी पास कराया गया । इस अवसर पर  प्रदेश अध्यक्ष सुजात खान मे  कहा कि महिलाओं को समान अवसर दिए बगैर  सुंदर समाज की परिकल्पना एक मिथ्या है । महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए पुरुषों का योगदान बहुत जरूरी है । श्री खान ने कहा कि भूमि अधिकार के लिए संगठन द्वारा पूरे देश मे विशेष अभियान चलाया जा रहा है ।कार्यक्रम में गेंदा रानी आदिवासी,  पूना बाई बंशकार, चंदा बाई, धनिया बाई , जसोदा बाई, संगीता बाई , शीला बाई ,किशन सिंह , सुंदर सिंह , गौतम भील, जीवनलाल , दुर्गेश भाई , नाेने लाल , बलदाउ यादव, सरजू आदिवासी, लीलाबाई गीता , रानी पंचम आदिवासी सहित बड़ी तादाद मे लाेग माैजूद रहे ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...