बेगूसराय : जीडी कॉलेज में मंगलवार को एआईएसएफ का राज्य कन्वेंशन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 अप्रैल 2019

बेगूसराय : जीडी कॉलेज में मंगलवार को एआईएसएफ का राज्य कन्वेंशन

"बेगूसराय के जीडी कॉलेज में मंगलवार को एआईएसएफ का राज्य कन्वेंशन आयोजित हुआ, जिसमे बतौर मुख्य अतिथि कन्हैया कुमार ने शिरकत किया"
aisf-convention-begusaray
अरुण कुमार (आर्यावर्त) इस अवसर पर कन्हैया कुमार ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य में छात्रों को फिर से अपनी भूमिका निभाने के लिए कमर कसनी होगी।मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद हर तबके के साथ विश्वासघात किया है।मैं भी चौकीदार कहने वाले को मैं हूँ बेरोजगार से जवाब देना होगा।उन्होंने कहा कि मैं भी कन्हैया,तू भी कन्हैया का नारा देते हुए हर बेरोजगार नौजवान को इस बार चौकीदार को बेरोजगार करने का अभियान चलाना होगा।वहीं गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी ने कहा कि हमारा एजेंडा समाजवाद है और उनका फांसीवाद।कन्हैया का जीतना,हर उस आम आदमी की  जीत होगी जिनको संघर्ष में यकीन होगा। युवा विधायक ने कहा कि मोदी जी और अमित शाह जब प्रचार करने आपके यहां आएं तो जरूर पूछिएगा कि गुजरात में जब बिहार और यूपी के लोगों पर हमला हो रहा था वे खामोश क्यों थे।मेवानी ने कहा कि हमलोग अंबानी-अडानी की दलाली करने वालों,छूआछूत- जातिवाद से आजादी चाहते हैं जबकि वे लोग कुछ खास लोगों के लिए सब कुछ बनाना चाहते हैं।संगठन के राष्ट्रीय सचिव सुशील कुमार ने एआईएसएफ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य कन्हैया कुमार की जीत सुनिश्चित करने के लिए "हर घर दस्तक" अभियान चलाने का आह्वान किया।आगत अतिथियों का स्वागत जिलाध्यक्ष सजग सिंह एवं जिला सचिव किशोर कुमार मौजूद थे।धन्यवाद ज्ञापन शंभू देवा ने किया।हर तरफ चुनावी बिगुल बज चुकी है।प्रत्याशी जन जन से तो मिल नहीं पायेंगे किन्तु खास व्यवस्था के तहत खास मंच पर मंचासीन हो अपने हिसाब से आपके लिए मन भावन बातों से लुभाने का प्रयास अवश्य करेंगे।वादे करना और निभाना दोनों एक जटिल समस्या है,फिर भी योगायोग्य को चुनना हमसब का परम कर्तव्य है स्वविवेक को इस्तेमाल करते हुए अपना सांसद प्रतिनिधि चुनने में चुकें नहीं।ऐसा महोत्सव 05 वर्ष में एक बार आता है और एकबार ही आये ऐसी सोच रखते हुए हमें अपना मतदान करना है।मतदान करें अवश्य।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...