पूर्णिया : असर बेअसर...प्रशासन का आदेश, फिर भी नहीं थम रहा डीजे शोर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 मई 2019

पूर्णिया : असर बेअसर...प्रशासन का आदेश, फिर भी नहीं थम रहा डीजे शोर

- बारात में डीजे के धुन पर थिरक रहे लोग, कार्रवाई के नाम पर की जाती है महज खानापूर्ति 
dj-in-city-purnia
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) : डीजे पर रोक लगाए जाने के बावजूद जिला प्रशासन के आदेश की खुलकर धज्जियां उड़ती नजर आ रही है। शादी के मौके पर डीजे का जमकर प्रयोग किया जा रहा है। लगन के इस मौसम में अधिकांश शादियों में डीजे का धड़ल्ले से प्रयोग किया जा रहा हैं और बारात के साथ ही अन्य विधि विधानों में भी इसके धून पर लोग सड़कों पर झूमते नजर आ रहे हैं। वहीं डीजे के शोरगुल से आसपास के लोग परेशानी झेलने के साथ ही अपनी नींद खो रहे हैं। लोग प्रशासन के शिथिल रवैये को लेकर कोसते नजर आते हैं। पिछले महीने जिला प्रशासन ने डीजे पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया। इसे लेकर आदेश जारी करते हुए डीजे बजने पर उसे जब्त करने का आदेश भी दिया था। कुछ दिनों के लिए जिले में डीजे का शोर थमा था और कार्रवाई भी थी। लेकिन पुन: अब शादी विवाह में बेरोकटोक डीजे बज रहा है। प्रतिबंध के बाद भी रात दस बजे के बाद डीजे व साउंड का शोर थम नहीं रहा है। प्रशासन के आदेश को दरकिनार कर वैवाहिक कार्यक्रम में जमकर डीजे बजाए जा रहे हैं। ध्वनि प्रदूषण पर नियंत्रण को लेकर अधिकारियों के दावों की धज्जियां उड़ रही हैं। वैवाहिक समारोह में रोक के बाद भी डीजे बज रहा है। प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस विभाग के सामने ये सब कुछ हो रहा है बावजूद इसके मौन साधे हुए हैं। 

...ध्वनि प्रदूषण के मानक का भी नहीं रखते ख्याल : 
सरकार की ओर से रात व दिन में ध्वनि प्रदूषण का मानक तय किया गया है। ताकि ध्वनि प्रदूषण से आम आवाम को दिक्कत न हो। सरकार के स्पष्ट आदेश के बाद भी दिन व रात में काफी तेज आवाज में डीजे बजाया जा रहा है। डीजे व बैंड बाजा मानक से अधिक ध्वनि प्रदूषण कर रहे हैं। मई महीने में शुभ मुहूर्त के चलते शादियों की भरमार है। जिससे डीजे का भी ज्यादा शोरगुल नजर आ रहा है। 

...एसडीपीओ ने कहा होगी कार्रवाई : 
इस संबंध में एसडीपीओ आनंद कुमार पांडेय ने बताया कि डीजे पर पूर्णता रोक लगा दिया था। बावजूद यदि डीजे बज रहा है तो वैसे डीजे संचालकों पर निश्चित तौर पर कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में सभी थानाध्यक्षों को निर्देश दिया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...