पूर्णिया : बांस बल्ले के सहारे खेत व घरों के ऊपर से दौड़ रही बिजली, हो सकता है बड़ा हादसा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 8 मई 2019

पूर्णिया : बांस बल्ले के सहारे खेत व घरों के ऊपर से दौड़ रही बिजली, हो सकता है बड़ा हादसा

- मामला डिमिया छतरजान पंचायत के वार्ड नंबर 14 आताबुल टोला का- केंद्र व राज्य सरकार के संयुक्त प्रयास से घर घर गली गली व गांव गांव  बिजली पहुंचाई गई है
power-system-purnia-villege
रानीपतरा (आर्यावर्त संवाददाता) : पूर्णिया पूर्व प्रखंड क्षेत्र के डिमिया छतरजान पंचायत स्थिति वार्ड नंबर 14 के आताबुल टोला में आज भी ग्रामीण बांस बल्ले के सहारे बिजली जलाने को मजबूर हैं। हालांकि केंद्र और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयास से उस गांव में बिजली तो पहुंचाई गई है लेकिन पुराने बिजली के पोल एवं जर्जर तार की मदद से बिजली जलाई जा रही है। पोल की दूरी घर से अधिक होने की वजह से तार जमीन में लटकते नजर आ रहे हैं। पुराने पोल कभी भी तेज आंधी तूफान में टूट कर गिर सकते हैं। बिहार सरकार के सात निश्चय के तहत घर घर बिजली पहुंचाना लक्ष्य था और बहुत हद तक उस टोले में बिजली पहुंचा दी गई है। लेकिन वह भी नए बिजली कनेक्शन के तहत दी गई है। जो उपभोक्ता वर्षों से बिजली जलाते आ रहे थे उसे किसी भी प्रकार का लाभ नहीं दिया गया। वे वही पुराने बिजली के जर्जर तार व पोल से बांस बल्ले के सहारे बिजली जला रहे हैं। हल्की सी भी बारिश और तेज हवा चलने पर बिजली कट जाती है। जिससे उपभोक्ता समुचित लाभ नहीं ले पाते हैं। लेकिन कहीं न कहीं बिजली विभाग के सुस्त रवैया एवं प्राइवेट कंपनी को दिए गए टास्क की विफलता के कारण लोग जान जोखिम में डालकर अपने घरों तक बिजली का कनेक्शन ले रहे हैं। 

...क्या कहते हैं ग्रामीण : 
वार्ड सदस्य नूर मोहम्मद कहते हैं पुराने बिजली के पोल एवं तार कभी भी दुर्घटना के गवाह बन सकते हैं। मो इलियास कहते हैं कि मेरी उम्र 65 साल की है इस दरम्यान बहुत सी सरकार बनी और चली भी गई लेकिन हमारे गांव में बिजली की व्यवस्था ठीक नहीं हो सकी। मुख्तार अंसारी कहते हैं लगभग टोलो में नए पोल कवरयुक्त तार लगाए गए हैं सिर्फ हमारा गांव बच गया है। मो अबुल कहते हैं कि कई बार बिजली विभाग को आवेदन दिया लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। मो कादिर कहते हैं सभी जगह तरक्की चरम सीमा पर है लेकिन हमारा गांव अभी भी बहुत सारी सुविधाओं से महरूम है। हमलोग कब तक बांस बल्ले के सहारे बिजली जलाते रहेंगे।

...शिकायत मिलने पर होती है कार्रवाई : 
कुछ जगहों पर बिजली खंभा व तार लगाने का कार्य बाकी रह गया है। जहां से जानकारी मिल रही है वहां त्वरित कार्रवाई की जा रही है। जल्द ही इन पंचायतों में भी बिजली खंभा व तार लगाया जाएगा।  : धीरज सिन्हा, कार्यपालक अभियंता, विद्युत विभाग पूर्णिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...