पूर्णिया : बाढ़ का पानी घटने के बाद उभरने लगा तबाही का मंजर, - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 21 जुलाई 2019

पूर्णिया : बाढ़ का पानी घटने के बाद उभरने लगा तबाही का मंजर,

आवागमन करने को करनी पड़ेगी मशक्कत, अब है प्रशासनिक कवायद का इंतजार 
after-flood-purnia
अमौर (आर्यावर्त संवाददाता)  : पूर्णिया के अमौर प्रखंड के सभी प्रमुख नदियों का जलस्तर घटने लगा है और क्षेत्र में बाढ़ की स्थिति में सुधार हुआ है। जिससे क्षेत्र के जनसमुदायों ने राहत की सांस ली है लेकिन बाढ़ का पानी घटने के साथ ही क्षेत्र में बाढ़ की तबाही का मंजर उभरने लगा है। बाढ़ की तेजधारा में विष्णुपुर दलमालपुर पीएमजेएसवाई मार्ग पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। इस मार्ग में विष्णुपुर हाट से शहनगांव तक सड़क आधी से अधिक कट गई है। जिस पर लोगों को पांव पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। तीन महीने पूर्व जीर्णोद्धार हुई खरहिया शहनगांव पीएमजेएसवाई सड़क, शशि डॉक्टर के घर से मोंगरा धार पुल तक सड़क पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। इसी मार्ग में फुटानी हाट के समीप सड़क कट कर गहरे खाई में तब्दील हो गया है। जहां बाढ़ की तेजधारा में डूबने से धुरपैली गांव के एक दस वर्षीय बालक टुकटुक कुमार की मौत भी हो चुकी है। गेरूआ कसबा मार्ग में असरना गांव के समीप बाढ़ की तेजधारा में सड़क कट कर गहरे तलाब में परिवर्तित हो गई है। इसी मार्ग में रसेली गांव के समीप भी यह मार्ग कट गया है और डकैता पुल एवं पुलकट्टा धार पुल के डायवर्सन में जलजमाव की स्थिति भयावह होने के कारण इस मार्ग पर यातायात पूरी तरह से ठप है। भवानीपुर पंचायत में एक माह पूर्व जीर्णोद्धार हुए गेरूआ सिहालो मार्ग जगह जगह से कट गया है और सड़क चलने लायक ही नहीं रही। बरबट्टा से सिहालो मार्ग बनगामा गांव के समीप परमान नदी के गर्भ में समाहित हो चुका है और इस मार्ग का अस्तित्व ही समाप्त हो गया है। प्रखंड के निर्माणाधीन सिहालो से हलालपुर मार्ग जिस पर पत्थर रोड़ा व बैडमिसाइल बिछाकर छोड़ दिया गया था। यह मार्ग निर्माण होने से पूर्व ही बाढ़ की भेंट चढ़ गया है और मार्ग किसी लायक ही नहीं रहा है। रंगरैया लालटोली पंचायत के पलसा गांव में कलवर्ट के समीप पीएमजेएसवाई सड़क काफी दूर तक कट गई और मार्ग में गहरा खाई हो जाने से इस मार्ग पर आवागमन अवरूद्ध हो गया है। प्रखंड के ज्ञानडोव, हरिपुर, तालबाड़ी, डौहुआबाड़ी, खाड़ी महीनगांव, हफनिया, नितेन्द्र, मच्छटा, मझुवाहाट, बंगरा मेहंदीपुर, झौवारी, अधांग, तीयरपाड़ा, पोठिया गंगेगी, बाड़ा ईदगाह, बकेनिया बरेली, आमगाछी आदि पंचायतों की भी सभी ग्रामीण सड़कें बाढ़ के प्रकोप क्षतिग्रस्त हो चुकी है। जिस पर आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है और इन सभी पंचायतों का प्रखंड मुख्यालय से सड़क संपर्क भंग हो गया है। क्षेत्र के जनसमुदायों ने अमौर प्रखंड के बाढ़ प्रभावित सभी पंचायतों में अतिशीघ्र सड़क यातायात की सुविधा बहाल करने की दिशा में ठोस पहल करने का अनुरोध जिला प्रशासन से किया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...