पूर्णिया : पुल निर्माण में घोर अनियमितता, ग्रामीणों में आक्रोश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 जुलाई 2019

पूर्णिया : पुल निर्माण में घोर अनियमितता, ग्रामीणों में आक्रोश

corruption-in-bridge-construction-purnia
अमौर : प्रखंड के गेरूवा कसबा मार्ग में विगत 06 साल से आरंभ पुलकट्टा घार पुल का निर्माण कार्य में घोर अनियमितता बरती जा रही है। जिससे क्षेत्र के ग्रामीण आक्रोशित हैं। इस संबंध में स्थानीय ग्रामीण पूर्व विधायक प्रतिनिधि मो मुस्तफा, पूर्व मुखिया मोतीलाल विश्वास वर्तमान पंचायत मुखिया सुधीर लाल कर्मकार, पूर्व समिति अनिल कुमार विश्वास, समिति सदस्य असमेरून, वार्ड सदस्य तहमीद व शाहरा प्रबुद्ध नागरिकों में मो जाहिद, मो आलम, शुकदेव गुप्ता, राजेंद्र प्रसाद सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने रोष प्रकट करते हुए कहा है कि पुलकट्टा धार पुल का निर्माण घटिया स्तर का हो रहा है। गुणवत्ता मानक की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। इस पुल निर्माण में कई पाइलिंग की ढ़लाई 12 मीटर पर की गई है जबकि निॆर्धारित मापदंड के अनुसार पाइलिंग की ढ़लाई 24 मीटर पर की जानी है। पुल का निर्माण कार्य दिन के उजाले में करने की जगह रात के अंधरे में किया जाता है ताकि घटिया निर्माण पर ग्रामीणों की नजर नहीं पड़ सके। संवेदक ने पाइलिंग ढ़लाई, कैप ढलाई, सॉफ्ट पाया ढ़लाई, हमर हेड ढ़लाई में सीमेंट की मात्रा कम, रेत की मात्रा अधिक और घटिया सामग्री का इस्तेमाल कर पुल का निर्माण कर रहा है। जिस कारण हमर हेड ढ़लाई के बाद उसमें लगे तमाम लोहे की सरिया साइड से बाहर निकल गया है। जो घटिया निर्माण का नमूना पेश कर रहा है और ग्रामीण कार्य विभाग की निगरानी का पोल खोल कर रख दिया है। ग्रामीणों ने बताया कि इस पुल का शिलान्यास 01 मार्च 2014 में हुआ था और पुल निर्माण पूर्ण की अंतिम तिथि 28 फरवरी 2015 निर्धारित की गई थी। पुल निर्माण की प्राक्कलित राशि 7.94 करोड़ है। इस पुल निर्माण का संवेदक इंडियन प्रोग्रेसिव कंस्ट्रक्शन देवघर है और कार्यकारी एजेंसी ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बायसी पूर्णिया है। इस पुल का निर्माण कार्य प्रारंभ होने के 06 साल से अधिक की अवधि गुजरने के बाद भी पुल का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो पाया है और पुल का निर्माण कार्य अधर में लटका हुआ है। इसी मार्ग में अन्य तीन पुलों का निर्माण कार्य भी विगत 06 साल से लंबित है। इसमें डकैता धार, रसेली घाट एवं बम्माधार पुल मुख्य रूप से शामिल है। इन सभी पुलों का संवेदक भी इंडियन प्रोग्रेसिव कंस्ट्रक्शन है। 

...मुख्यमंत्री ने संवेदक को ब्लैक लिस्टेड किए जाने का जारी किया आदेश :
विगत वर्षों में जिला मुख्यालय में आयोजित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की समीक्षात्मक बैठक में संवेदक इंडियन प्रोग्रेसिव कंस्ट्रक्शन देवघर द्वारा अमौर प्रखंड में गेरूवा कसबा मार्ग में आरंभ की गई। पुलकट्टा धार पुल, डकैता धार पुल, रसेली घाट पुल, बम्मा धार एवं खाड़ी पुल के निर्माण में लापरवाही बरतने तथा विगत कई सालों से पुल का निर्माण कार्य लंबित रखने की बात सामने आई। जिस पर मुख्यमंत्री ने उक्त संवेदक को ब्लैक लिस्टेट कर उनके विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करने, लंबित सभी पुलों का अंतिम नापी कर उसका डीपीआर तैयार करने और रिटेंडर निकाल कर सभी पुलों का निर्माण कार्य पूरा करने का आदेश ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता को दिया था। 

...संवेदक ने रिसाइन कर दोबारा लिया सभी पुलों का कॉन्ट्रेक्ट :
मुख्यमंत्री द्वारा जारी आदेश से भयभीत होकर उक्त संवेदक ने वर्ष 2018 में न्यायालय में रिसाइन कर 06 माह के अंदर सभी पुलों निर्माण कार्य पूर्ण करने का एग्रीमेंट कर निर्माण कार्य प्रारंभ करने का आदेश प्राप्त कर पुलकट्टा धार पुल सहित अन्य पुलों पर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया। लेकिन निर्माण कार्य में घोर में शिथिलता व अनियमितता बरती जा रही है जो जांच का विषय है।

...ग्रामीणों ने ग्रामीण कार्य विभाग व जिला प्रशासन को दिया आवेदन :
इस संबंध में सैकड़ों ग्रामीणों एवं पंचायत प्रतिनिधियों के संयुक्त हस्ताक्षरयुक्त एक आवेदन पत्र कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बायसी को दिया गया है। जिसकी प्रतिलिपि अनुमंडल पदाधिकारी बायसी एवं जिलाधिकारी पूर्णिया को भी प्रेषित की गई है। जिसमें पुल निर्माण में बरती जा रही अनियमितओं की जांच कर आवश्यक कार्रवाई किए जाने तथा गुणवत्ता मानक के अनुरूप पुल का निर्माण कार्य कराए जाने कि दिशा में साकारात्मक पहल करने का अनुरोध किया गया। 

...गुणवत्ता मानक पर कोई समझौता नहीं होगा, जांचोपरांत होगी कार्रवाई : 
ग्रामीणों की शिकायतों पर पुलकट्टा धार पुल निर्माण में संवेदक द्वारा बरती जा रही अनियमितता की शीघ्र जांच की जाएगी और जांचोपरांत आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। संवेदक को हर हाल में डीपीआर गुणवत्ता मानक के अनुरूप पुल का निर्माण करना होगा। इसमें कहीं कोई समझौता नहीं होगा। : गिरजानंद सिंह, सहायक कार्यपालक अभियंता, ग्रामीण कार्य विभाग पूर्णिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...