पूर्णिया : कृषि महाविद्यालय के छात्र छात्राओं ने कर्नाटक, तमिलनाडु व तेलंगाना के चाय बागान का किया भ्रमण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 जुलाई 2019

पूर्णिया : कृषि महाविद्यालय के छात्र छात्राओं ने कर्नाटक, तमिलनाडु व तेलंगाना के चाय बागान का किया भ्रमण

purnia-agri-student-visit-tea-bagan
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय के स्नातक कृषि के कृषि छात्र छात्राओं ने कर्नाटक, तमिलनाडु व तेलंगाना के घने जगलों से होते हुए ऊटी के चाय बागान, टी-फैक्ट्री, चाॅकलेट फैक्ट्री, बोटैनिकल गार्डेन, रोज गार्डेन, हाॅर्टिकल्चर रिसर्च स्टेशन, मृदा जांच प्रयोगशाला एवं अन्य पहाड़ी क्षेत्रों का भ्रमण किया। अखिल भारतीय शैक्षणिक भ्रमण 2019 अंतर्गत यह भ्रमण दल इन क्षेत्रों में नई जानकारी प्राप्त करने के उद्देश्य से भ्रमण पर है। मैसूर से ऊटी भ्रमण के दौरान छात्र छात्राओं के दल को दो भागों में बांटकर घने जंगलों बांदीपुर टाइगर रिजर्व, कर्नाटक, वायनाड़ टाइगर रिजर्व, केरल एवं मुदुमलाई टाइगर रिजर्व, तमिलनाडु के बीच से गुजड़ने के क्रम में छात्र छात्राओं को विभिन्न तरह के जंगली जानवरों एवं जीव जन्तुओं को बहुत ही नजदीक से देखने का मौका मिला। छात्र छात्राएं विभिन्न तरह के जंगली जानवरों एवं जीव जंतुओं को देखकर काफी खुश हो रहे थे। चाय का बागान में चाय की वैज्ञानिक खेती के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसके बाद डोडाबेटा टी-फैक्ट्री, ऊटी में चाय के कच्चे पत्ते के प्रसंस्करण से लेकर पैकेजिंग तक की पूरी प्रक्रिया को देखा और समझा। टी-फैक्ट्री में विभिन्न प्रकार की मशीनों के बारे में जनकारी प्राप्त की। होमवुड चाॅकलेट फैक्ट्री, ऊटी में भी छात्र छात्राओं ने भ्रमणकर फ्रेस चाॅकलेट का खूब आनंद लिया। तमिलनाडु कृषि विवि के हाॅर्टिकल्चर रिसर्च स्टेशन, उधगमंदलाम द्वारा विकसित रोज गार्डेन में कुल 730 विभिन्न रंगों के गुलाब की विभिन्न प्रजातियों कुल 3100 पौधों, टाॅपीयरी, हेज, एज आदि को छात्र छात्राओं ने देख एवं इनके बारे विभिन्न तरह की जानकारियां प्राप्त की। सिढ़ीनुमा खेती को देखा एवं इसके बारे विस्तृत जानकारी प्राप्त की। इसके बाद सहायक निदेशक हाॅर्टिकल्चर के द्वारा विकसित गर्वनमेंट बोटैनिकल गार्डेन, उधगमंदलाम के भ्रमण के दौरान इनफाॅरमल गाडेन बनाने एवं उसको सजावट के लिए विभिन्न प्रकार के मौसमी फूलों, पेड़ पौधों के बारे विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की। इस भ्रमण दल में तृतीय वर्ष के 26 छात्र एवं 17 छात्राएं शामिल हैं। इस भ्रमण दल का नेतृत्व एवं मार्गर्दशन महाविद्यालय के मृदा वैज्ञानिक डाॅ पंकज कुमार यादव एवं मखाना वैज्ञानिक डाॅ अनिल कुमार द्वारा किया जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...