दुमका : दिया गया अतिरिक्त दायित्व - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 जुलाई 2019

दुमका : दिया गया अतिरिक्त दायित्व

kayasth-appointment
दुमका (आर्यावर्त संवाददाता) अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के जिला महासचिव को  सदस्यता प्रभारी का दिया गया अतिरिक्त दायित्व, चित्रांषों में प्रसन्नता  अखिल भारतीय कायस्थ महासभा, झारखंड के प्रदेश सदस्यता प्रभारी सुनील श्रीवास्तव के निदेश के आलोक में जिलाध्यक्ष दयानन्द श्रीवास्तव की अध्यक्षता में महासभा की दुमका इकाई की बैठक दिन शनिवार को कमलाबाग काॅलोनी (दुधानी) दुमका में अधिवक्ता सूर्यप्रकाश के आवास पर संपन्न हुई। इस महत्वपूर्ण बैठक में प्रांतीय नेतृत्व के आदेश का पालन करते हुए जिलास्तर पर सदस्यता प्रभारी के मनोनयन के लिये सर्वसम्मति से शिक्षक विनय कुमार (महासचिव, अखिल भारतीय कायस्थ महासभा) के नाम का प्रस्ताव रखा गया जिसपर सदस्यों ने सर्वसम्मति से श्री कुमार के पक्ष मंे अपना समर्थन व्यक्त किया। जिलास्तर पर सदस्या प्रभारी श्री कुमार के कार्यों में अधिवक्ता सूर्यप्रकाश, सत्येन्द्र नारायण प्रसाद,  राजेश सहाय, आलोक कुमार व अंकित कुमार ने अपनी-अपनी आस्था प्रकट की। अधिवक्ता समीर कुमार सिन्हा ने ससमय कार्यो  के मूल्यांकन पर बल दिया तथा आशा व्यक्त की कि श्री कुमार अपने दायित्वों का निर्वहन सही तरीके से करेंगे। इस अवसर पर संगठन के महिला पदधारकों यथा- संगीता प्रकाश व वंदना सिन्हा तथा सामाजिक कार्यों मंे रुचि रखने वाले आनंद कमल सहित सभी चित्रांशों ने नये सदस्यों को बनाने व महासभा के कार्यो को आगे बढ़ाने का समर्थन किया। मालूम हो, संगठन को विस्तारित करने, सामाजिक कार्योें में संगठन की ओर से सहभागिता निभाने तथा चित्रांशों के सर्वांगिण विकास के लिये कटबद्ध श्री कुमार ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि जो दायित्व प्रदेश व जिला नेतृत्व ने उनपर भरोसा करते हुए सौंपा है, पूरी ईमानदारी व प्रतिबद्धता के साथ वे उसपर अमल करेंगे तथा बिना किसी स्वार्थ के अनवरत अपने कार्यों के प्रति समर्पित रहेंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...