पूर्णिया : एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण में बच्चों को दी गई कृषि की तकनीकी जानकारी, स्वच्छता की दिलाई शपथ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 28 जुलाई 2019

पूर्णिया : एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण में बच्चों को दी गई कृषि की तकनीकी जानकारी, स्वच्छता की दिलाई शपथ

- कृषि शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए वर्तमान सरकार द्वारा कृषि स्नातक शिक्षा अध्यनरत छात्र/छात्राओं को प्रतिमाह - 2000 हजार रूपया छात्रवृति एवं 6000 रूपया वार्षिक रूप से किताब आदि खरीदने के लिए दिया जाता है : प्राचार्य 
technical-education-purnia
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) : मध्य विद्यालय माधोपाड़ा पूर्णिया के छात्र एवं छात्राओं ने भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय का एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण किया। शैक्षणिक भ्रमण का आयोजन महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के प्रभारी डॉ पंकज कुमार यादव कनीय वैज्ञानिक मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विज्ञान विभाग द्वारा किया गया। सभी छात्र छात्राओं को कृषि की तकनीकी जानकारी के साथ साथ प्राचार्य डाॅ पारसनाथ ने स्वच्छता की शपथ दिलाई। शैक्षणिक भ्रमण दल के साथ 30 छात्र छात्राओं के अलावे 7 शिक्षक व शिक्षिकाएं भी शामिल रहे। प्राचार्य ने महाविद्यालय की विभिन्न गतिविधियों के बारे बच्चों को जानकारी दी। जिसमें मुख्य रुप से केंद्र सरकार का संकल्प स्वच्छ भारत अभियान तथा बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ के बारे जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि सफल होने के लिए हमें अपना कार्य केवल भली प्रकार ही नहीं करना है बल्कि इस प्रकार करना होता है कि हम अन्य प्रतियोगियों की अपेक्षा अधिक श्रेष्ठ कार्य करें तभी हम प्रतियोगिता में सफल हो सकते हैं। प्राचार्य ने बताया कि कृषि विषय में आने वाले समय में अपार संभावनाएं हैं। कृषि शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए वर्तमान सरकार द्वारा कृषि स्नातक शिक्षा अध्यनरत छात्र/छात्राओं को प्रतिमाह 2000 हजार रूपया छात्रवृति एवं 6000 रूपया वार्षिक रूप से किताब आदि खरीदने के लिए प्रदान किया जाता है। कृषि की पढ़ाई में अपना भविष्य सुरक्षित कर सकते हैं क्योंकि सरकार द्वारा कृषि की पढाई के लिए आर्थिक मदद दी जा रही है। उन्होंने कहा कि तीसरे कृषि रोड मैप की शुरुआत देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 9 नवंबर 2017 को पटना से की थी। इस अवसर पर मृदा वैज्ञानिक डॉ पंकज कुमार यादव ने बच्चों को पुस्तकालय, राष्ट्रीय सेवा योजना रेड रिबन क्लब, एंटी ड्रग क्लब, कम्प्यूटर लैब, विभिन्न प्रयोगशालाएं तथा अन्य गतिविधियों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। डाॅ जेएन श्रीवास्तव ने कृषि स्नातक प्रवेश की प्रक्रिया के बारे में बताते हुए कहा कि प्रतिवर्ष राज्य स्तर पर प्रवेश के लिए प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर महाविद्यालय के अन्य वैज्ञानिक डाॅ जे प्रसाद, एसपी सिन्हा, डाॅ अनिल कुमार, डाॅ रवि केसरी, डाॅ तपन गोराई, अनुपम कुमारी, डाॅ रूबी साहा, डाॅ सुदय प्रसाद, जयप्रकाश प्रसाद समेत कई अन्य मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...