फ़िल्मी दुनिया में काम ही पहचान है : राहुल तिवारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 28 जुलाई 2019

फ़िल्मी दुनिया में काम ही पहचान है : राहुल तिवारी

मैं अपना पूरा जीवन फिल्मों को ही देना चाहता हूँ 
work-worship-rahul-tiwari
फिल्म एडिटर  एवं निर्देशक राहुल तिवारी ने मुम्बई फिल्म इंडस्ट्री में बहुत जल्द ही अपनी एक अलग पहचान बना ली है। उनकी बढ़ती लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अब उन्हें देसी फिल्मों में ही नहीं अब वेब सीरीज के माध्यम से देश विदेश में धमाल मचाने जा रहे हैं। वालीवुड में अपनी पहचान कायम रखने के लिए एडिटर राहुल तिवारी दिन रात मेहनत कर रहे हैं। रंगमंच पर बिना रीटेक किये अपने अभिनय से अमिट छाप दर्शकों के दिलों पर छोड़ चुके राहुल तिवारी से वरिष्ठ फिल्म समीक्षक एवं पत्रकार अशोक कुमार निर्भय ने बातचीत करके उनके करियर के बारे में जाना। बातचीत में एडिटर एवं निर्देशक राहुल तिवारी ने बताया कि  दो दशक से बॉलीवुड में फ़िल्म एडिटर हैं, इनकी फ़िल्मों में "सरकार", "बनारस" , नवाज़ुद्दीन सि्दीक़ी की "मियाँ कल आना",इश्माइल दरबार की फ़िल्म "ये कैसा तिगड़म" , कुमुद मिश्रा अभिनीत शार्ट फिल्म "उटपटांग", राजीव सुर्ती अभिनीत "एक्सेप्टेन्स",यशपाल शर्मा की डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म "आमो आखा एक से", ऋषिता भट्ट की "एक्स ज़ोन" आदि में राहुल तिवारी ने ट्रेलर और फ़िल्म एडिट करने का काम किया हैं। राहुल तिवारी ने भाग्य विधाता सीरियल में नेगेटिव कैरेक्टर में भी अपनी प्रतिभा का परिचय दिया है। एक्टर असरानी जी के साथ भी एक कॉमेडी सीरियल में उनके बेटे की भूमिका निभाई थी,राहुल ने अभी तक चार फ़िल्मो में अपना निर्देशन दिया। इनकी फ़िल्में ह्यूमन ट्रैफिकिंग , क़बूल, नो, और अब "13 ट्रीब्युट ऑफ़ लव " जैसी फ़िल्मों का निर्देशन भी किया है जो राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में बहुत सराही गयी थी । राहुल तिवारी  ने  "13 ट्रीब्युट ऑफ़ लव "   फ़िल्म को मामी फ़िल्म फ़ेस्टिवल में शामिल किया था,पर मामी फेस्टीवल के मेम्बरों ने इनकी फ़िल्म "13 ट्रीब्युट ऑफ़ लव "  को बिना देखें ही फ़िल्म चयन क्षेत्र से बाहर कर दिया। इस पक्षपात की लड़ाई हमेशा राहुल लड़ रहे हैं कि मेरी फ़िल्म  "13 ट्रीब्युट ऑफ़ लव "   को बिना देखे ही क्यूँ मामी (मुंबई फ़िल्म फ़ेस्टिवल) से बाहर कर दिया गया।  राहुल फ़िल्म इंडस्ट्री में सक्रीय एडिटर/डायरेक्टर हैं। राहुल तिवारी के फ़िल्मों का काम हमेशा ही बिजी रहता है एक पल की फुर्सत नहीं मिलती। उन्होंने बताया कि मैं अपना पूरा जीवन फिल्मों को ही देना चाहता हूँ। हाल ही में राहुल तिवारी ने  एक नई फ़िल्म की स्क्रिप्ट लिखी है 'अमेरिका कहां है' जिसके लिए कॉर्पोरेट और फ़िल्म प्रोडूसर्स से लगातार मिल रहे हैं और ये 2 स्किप्र्ट वेबसिरिज की भी शूटिंग करने जा रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...