भदोही : ‘वेस्ट मार्डन ट्रेंड’ एवार्ड से नवाजे गए प्रहलाद एवं संजय गुप्ता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 19 अगस्त 2019

भदोही : ‘वेस्ट मार्डन ट्रेंड’ एवार्ड से नवाजे गए प्रहलाद एवं संजय गुप्ता

भदोही के कालीन निर्यातकों में खुशी की लहर, लगा बधाईयों का तांता  
craft-award-bhadohi
भदोही (सुरेश गांधी)। पड़ोसी मुल्क चीन कंघाई शिनिंग हाॅल में इक्सीविसन मिनिस्ट्री आफ कामर्स के तत्वावधान में आयोजित इंटरनेशनल कारपेट फेयर: 2019 में भदोही के गोपीगंज निवासी प्रहलाद दास गुप्ता एवं उनके पुत्र संजय गुप्ता को ‘वेस्ट मार्डन ट्रेंड’ एवार्ड से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार चाइना सरकार के कपड़ा मंत्रालय द्वारा दिया गया है। बता दें, प्रहलाद दास गुप्ता एवं संजय गुप्ता वोनिक्स रग्स ग्लोबल ओवरसीज के प्रबंधनिदेशक या यूं कहे कर्ताधर्ता है। गत 8 अगस्त को आयोजित इस कारपेट फेसर में टर्की, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, ईरान, नेपाल, भारत सहित कुल 60 देशों के निर्यातक प्रदर्शनी में अपने अपने स्टाॅल लगाएं थे। जिसमें भदोही, पानीपत, दिल्ली, जयपुर, कश्मीर आदि के कुल 40 भारतीय कालीन निर्यातक थे। इसमें भदोही गोपीगंज के मेसर्स: वोनिक्स रग्स ग्लोबल ओवरसीज के प्रबंधक प्रहलाद दास गुप्ता एवं उनके पुत्र संजय गुप्ता को डिजाइन के क्षेत्र में सबसे उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया गया। संजय गुप्ता कालीन निर्यात संवर्धन परिषद सीइपीसी के प्रशासनिक सदस्य भी है। श्री संजय गुप्ता के मुताबिक चाइना सरकार द्वारा यह पुरस्कार हमेशा बेहतर डिजाइन बनाने वाले निर्यातकों को प्रोत्साहित करने के लिए दिया जाता है। इसके पहले यह पुरस्कार उन्हें जर्मनी व अमरिका में आयोजित डोमोटेक्स भी मिल चुका है। संजय गुप्ता ने कहा कि यह स्वस्थ प्रतिस्पर्धा न केवल व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि देश के लिए विभिन्न शिल्प समूहों को विश्व स्तरीय उत्पाद बनाने में लगे लाखों निर्यातकों, कारीगरों और शिल्पकारों की एक ब्रांड छवि के साथ विदेशी मुद्रा अर्जित करने का मार्ग प्रशस्त करती है। उन्होंने कहा कि दुनिया भर में और नए डिजाइन और शैलियों के नवाचार में निर्यातकों की मदद करना सरकार का मकसद है। उन्होंने कहा कि उभरते और नए बाजारों में खोज करने और आगे बढ़ने के लिए सीइपीसी ने हाल ही में कई विदेशी बाजार में शो कराया। श्री प्रहलाद दास गुप्ता ने बताया कि सफलता के लिए खुद को बदलना जरूरी है। क्योंकि सफलता न तो कोई जादू है न कोई रहस्यमयी वस्तु। सफलता तो मूल सिद्धांतों को अपने जीवन में लागू करने का प्राकृतिक परिणाम है। उनका कहना है कि सफल व्यक्ति वह करते हैं, जो उन्हें करना ही है, चाहे उन का मन वैसा करने को चाहे या न चाहे। किसी व्यक्ति को सफलता प्राप्त करने के लिए अपने आपको अच्छी आदतों में ढालने की जरूरत है। सफलता प्राप्त करने के लिए स्वयं को प्रोत्साहित करना एक अत्यंत आवश्यक नियम है। दूसरों को प्रोत्साहित करने वाले व्यक्तियों का साथ तो आपको कभी-कभी ही मिलता है। इनाम से अभिप्राय अपने आप को साधारण तौर पर दिए जाने वाले मेडल या ऐसी किसी चीज से नहीं है, बल्कि आप अपने आप को अपनी किसी छोटी या बड़ी उपलब्धि पर गहरे लंबे सांस लेकर भी पुरस्कृत कर सकते हैं। आप अपने प्यारों के साथ थोड़ा सा गुणवत्ता वाला समय गुजार कर स्वयं को भी खुश कर सकते हैं और अपने प्रिय जनों को भी। श्री संजय गुप्ता एवं प्रहलाददास गुप्ता द्वारा यह सर्वोच्च पुरस्कार हासिल करने पर कारपेट इक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल के चेयरमैन सिद्धनाथ सिंह, सीनियर प्रशासनिक सदस्य उमेश कुमार गुप्ता मुन्ना, राजेन्द्र मिश्र, संजय गुप्ता, घनश्याम शुक्ला, रवि पाटौदिया, ओपी गुप्ता, धरमप्रकाश गुप्ता, संजय मल्होत्रा, श्यामनारायण यादव, रामचंद्र यादव, विमल बरनवाल, आलोक बरनवाल, रुपेश बरनवाल, सारिक अंसारी, शमीम अंसारी, पंकज बरनवाल, शाहिद हुसैन अंसारी, भरत मौर्या, मुमताज आलम, अशोक अग्रवाल, रियाजुल हसनैन अंसारी, निशांत बरनवाल, बसंत चांडक, राजीव गुप्ता, सीइपीसी के ईडी संजय कुमार आदि ने बधाई दी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...