बेगूसराय : अमित हत्याकांड ,जमीनी विवाद या गैंगवार में हुए मतभेद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 सितंबर 2019

बेगूसराय : अमित हत्याकांड ,जमीनी विवाद या गैंगवार में हुए मतभेद

amit-murder-begusaray
अरुण कुमार (आर्यावर्त) बेगूसराय जिले के तेघड़ा प्रखण्ड के फुलवड़िया 03 वार्ड संख्या 05 में बीते दिनों बेखौफ अपराधियों ने मोटरसाइकिल से आकर अपने दरवाजे पर बैठे एक युवक अमित कुमार पिता ईश्वरचंद को गोलियों से भूनकर चला गया,जिसकी मौत इलाज के दौरान हो गई।कुछ लोगों के अनुसार इस हत्या के पीछे जमीनी विवाद बताया जा रहा है तो कुछ इसे गैंगवार घटना की संज्ञा दे रहे हैं। पीड़ित पिता ने अपने ही पड़ोसी अनिल सिंह उनके पुत्र मनोज सिंह और भतीजे बंटी कुमार  के साथ कई अज्ञात लोगों को आरोपी बनाकर मामला दर्ज कराई है।पुलिस ने कार्यवाही करते हुए नामजद दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।इसके बाद भी क्षेत्र में हो रही चर्चा के अनुसार मामला जमीनी विवाद का है या फिर मृतक के भाई के साथियों द्वारा लूट खसोट के माल की बंटवारे को लेकर की गई, हत्या की चर्चा इस बावत भी जोरों पर है ।पुलिस भी दोनों बातों पर अनुसंधान शुरू कर दिया है।बताया जाता है कि मृतक और उनके भाई भी आपराधिक मामले में चर्चित रहे हैं।जिसको लेकर आम जनों में हत्या के कारणों को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं कर रहे हैं।आखिर हत्या का कारण क्या हो सकता है?यह अभी विवादास्पद ही है।अब ये तो अनुसंधान का विषय है कि हत्या जमीनी विवाद या आपसी विवाद या फिर गैंगवार मतभेद का है।जबकि मृतक के परिजनों के अनुसार घटना से 15 दिन पहले से जेल में  बंद एक अपराधी के द्वारा जेल से निकलते ही हत्या कर देने की धमकी मिलती रही है।जो बंटी कुमार का परम मित्र गणेशराम बताया जाता है।या फिर  फुलवड़िया गंज पर का,फुलवरिया के  आपराधिक गतिविधियों में एक साथ चलने वाले दोनों भाई के साथियों ने ही गोली मारकर अमित कुमार की हत्या कर दी।और दूसरे भाई के भाग जाने के कारण जान बच गई।इन सारी बातों को लेकर पुलिस प्रशासन भी सघन अनुसंधान में जुट गई है।आखिर हत्या का कारण गैंगवार,जमीनी विवाद या फिर आपसी विवाद है।चर्चा यह भी जोरों पर है कि अगर गैंगवार में अमित की हत्या हुई है तो अमित के दूसरे भाई को भी खतरा है,ये भी उन गैंगवारों के निशाने पर होगा या फिर जमीनी विवाद को लेकर पैसों के बलपर अपराधियों को जो कि (पेशेवर) पैसों के खातिर हत्या आदि जघन्य अपराध करने से भी बाज नहीं आता उसके जरिये अमित की हत्या करवाई गई हो। इन सारी बातों के उभरकर सामने आने से  पुलिस भी समझ चुकी है कि मामला संदिग्ध है।फुलवड़िया थानाध्यक्ष ज्योति कुमार के कथनानुसार निर्दोष को जेल भेजना भी पाप ही होगा।आखिर हत्या के पीछे क्या कारण हो सकता है इसकी सघन जाँच की आवश्यकता है,और पुलिस पूरी लगन से सघन जाँच में जुट गई है।ईश्वरचंद्र ने मुकदमा दायर किया था जिसमें आरोपी के दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दी गई है।अन्य की गिरफ्तारी के लिए भी छापामारी जारी है।एवं हत्या के कारणों की सही जानकारी के लिए अनुसंधान भी किया जा रहा है।अब आगे अनुसंधान के बाद ही खुलासा होना सम्भव है कि बास्तव में मामला क्या है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...