बिहार : कैरियर काउंसलिंग एण्ड गाइडेंस और हिंदी भाषा की महत्ता विषय पर छात्रों को दी जानकारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 24 सितंबर 2019

बिहार : कैरियर काउंसलिंग एण्ड गाइडेंस और हिंदी भाषा की महत्ता विषय पर छात्रों को दी जानकारी

कैरियर काउंसलिंग एण्ड गाइडेंस इडेंस विषय की मुख्य वक्ता सुश्री गाइडेंस एडलीन ने विषय पर प्रकाश डाला और बच्चों को विस्तार से इसके बारे में बताया। करियर काउंसलिंग क्या है? इसकी आवश्यकता क्यों है? करियर की चुनाव में क्या क्या सावधानी बरतनी चाहिए?
counseling-for-hindi-language
बगहा,24  सितम्बर। विधिक साक्षरता क्लब के द्वारा जिले के चार उच्च विद्यालयों विपिन उच्च विधालय बेतिया, राज इंटर बेतिया, रेलवे प्रवेशिका उच्च विद्यालय नरकटियागंज और डी एम एकादमी बगहा में कैरियर काउंसलिंग एन्ड गाइडेंस और हिंदी भाषा की महत्ता विषय पर छात्रों को जानकारी दिया गया। विपिन उच्च विद्यालय बेतिया में आयोजित कार्यक्रम में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी लेखा और योजना श्रीमती सुनीता सुमन, प्रधानाध्यापिका सुधा रानी, राज्य साधनसेवी मेरी एडलीन, नोडल शिक्षक राकेश डिक्रूज, शिक्षक अनिल कुमार, दीपेंद्र लाल दास, राजीव पाठक और मुस्तुफा सर ने बच्चों को संबोधित किया। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने बच्चों को कन्या उत्थान, स्टूडेंट्स क्रेडिट कार्ड और छात्रवृत्ति के बारे मे विस्तार से बताया। उन्होंने कहा सरकार सारी सुविधाओं को उपलब्ध करा रही है ऐसे में छात्रों का कर्तव्य है कि वे पढ़े और अपने जीवन मे आगे बढ़े। कैरियर काउंसलिंग एन्ड गाइडेंस विषय की मुख्य वक्ता सुश्री मेरी एडलीन ने विषय पर प्रकाश डाला और बच्चों को विस्तार से इसके बारे में बताया। करियर काउंसलिंग क्या है? इसकी आवश्यकता क्यों है? करियर की चुनाव में क्या क्या सावधानी बरतनी चाहिए? इसके फायदे क्या है? सुश्री ने कहा नवम दशम की पढ़ाई समाप्त करने के बाद बच्चें आगे की पढ़ाई, विषयों और करियर की चुनाव के लिए असमंजस में पड़ जाते है। वे किन विषयों का चयन करें, किस क्षेत्र मे अपना करियर बनाये इन सब बातों से वे परेशानी महसूस करते है। मेरी एडलीन ने छात्रों को करियर का चुनाव के लिए टिप्स देते हुए कहा आप अपनी रूचि पसंद, क्षमता, योग्यता आदि की सबसे पहले पहचान करें। करियर की चुनाव के लिए चार कोच, मार्गदर्शक, से संपर्क करें- स्वयं खुद से, अभिभावक, शिक्षक और मित्र। इन चारों व्यक्ति से विचार विमर्श कर अपने आगे की। करियर का चयन करें। आज के युग में करियर के कई विकल्प है, डॉक्टर, इंजीनियर, आई ए एस, शिक्षक के अलावा भी अब फैशन डिजाइनर, खेल, गायन, चित्रांकन, नृत्य जैसे कई करियर है। आप अपनी रुचि, योग्यता के अनुसार इसका चयन करें। वही हिंदी विषय के वक्ता दीपेंद्र लाल ने छात्रों को हिंदी की महत्ता, भाषा और लिपि आदि पर विस्तार से चर्चा किये। बच्चों को हिंदी शुद्ध शुद्ध लिखने, बोलने पर बल देते हुए कहा हमारे देश की राजभाषा हिंदी है। इसकी महत्ता हमे समझनी चाहिए। नोडल शिक्षक राकेश डिक्रूज ने विधिक साक्षरता क्लब के द्वारा चलाये जा रहे जागरूकता कार्यक्रम पर प्रकाश डाला।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...