गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए डीटीसी बसों में निशुल्क यात्रा की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 सितंबर 2019

गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए डीटीसी बसों में निशुल्क यात्रा की मांग

demand-for-non-acridited-journalist
नई दिल्ली, 1 सितंबर (आर्यावर्त संवाददाता ) : दिल्ली पत्रकार संघ ने दिल्ली सरकार से मांग की है कि दिल्ली परिवहन निगम की बसों में समाचार पत्रों एवं न्यूज़ चैनल्स में फील्ड व डैस्क पर काम करने वाले गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए भी निशुल्क यात्रा का प्रावधान किया जाए। नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (इंडिया) से संबद्ध दिल्ली पत्रकार संघ की नव निर्वाचित कार्यकारिणी की पहली बैठक में इस आशय का प्रस्ताव पारित किया गया। संगठन ने निर्णय किया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से इस मांग को शीघ्र पूरा करने की अपील की जाएगी। बैठक में डीजेए की नव निर्वाचित कार्यकारिणी के सदस्यों के अलावा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से प्रकाशित हिंदी और अंग्रेजी के समाचार पत्रों, न्यूज़ चैनल्स एवं न्यूज़ एजेंसीज में कार्यरत श्रमजीवी पत्रकार मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली से बड़ी संख्या में अखबार व पत्र-पत्रिकाएं प्रकाशित होते हैं। इन संस्थानों में कार्यरत कुछ पत्रकारों को ही दिल्ली सरकार से मान्यता मिल पाती है जिसके तहत उन्हें दिल्ली परिवहन निगम की बसों में निशुल्क यात्रा करने की सुविधा प्रदान की जाती है जबकि अखबारों में डैस्क व फील्ड में काम करने वाले ऐसे पत्रकारों की संख्या बहुत अधिक है जिन्हें राज्य सरकार से मान्यता प्राप्त नहीं है। ऐसे में वे बसों में निशुल्क यात्रा से वंचित रह जाते हैं।  दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष मनोहर सिंह और महासचिव अमलेश राजू ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि अक्तूबर में जब महिलाओं के लिए दिल्ली परिवहन निगम की बसों में निशुल्क यात्रा का प्रावधान हो तो उसके साथ ही गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों को भी इस सुविधा की घोषणा की जाए। सरकार के इस कदम से दिल्ली से प्रकाशित अखबारों में काम करने वाले उन हजारों पत्रकारों को फायदा होगा, जिन्हें लंबे समय से इस प्रकार की घोषणा की उम्मीद है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...