भारतीय व चीनी सेनाओं ने बातचीत के जरिए सुलझाया पेंगोंग गतिरोध - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 सितंबर 2019

भारतीय व चीनी सेनाओं ने बातचीत के जरिए सुलझाया पेंगोंग गतिरोध

india-china-solve-penpong-issue
नयी दिल्ली, 12 सितंबर, भारत और चीन के सैनिकों के बीच बुधवार को पूर्वी लद्दाख में पेंगोंग झील के तट पर धक्का-मुक्की हुई थी लेकिन सैन्य सूत्रों ने बताया कि इस मसले को बातचीत के जरिए जल्द ही सुलझा लिया गया। सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया कि इलाके में भारतीय सैनिकों की गश्त पर चीन के सैनिकों ने आपत्ति जताई थी लेकिन भारतीय सैनिकों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया और दोनों देशों के सैनिकों के बीच धक्का-मुक्की हुई। उन्होंने बताया कि सुबह की इस घटना के बाद दोनों पक्षों ने और सैनिकों को बुला लिया। शाम तक दोनों पक्षों के बीच गतिरोध कायम रहा। हालांकि दोनों पक्षों के बीच प्रतिनिधि स्तर की बातचीत के बाद देर शाम इस विवाद को हल कर लिया गया।  यह घटना ऐसे समय हुयी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए चीनी राष्ट्रपति शी चिनपिंग अगले महीने भारत की यात्रा पर आने वाले हैं। सूत्रों ने बताया कि कल प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत के बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद सुलझ गया।  सूत्रों के मुताबिक इस घटना का कारण भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर भिन्न भिन्न नजरिया है । एक सूत्र ने बताया कि इस तरह की घटनाओं के समाधान के लिए एक तय तंत्र है। इस घटना के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि यह गौर करना महत्वपूर्ण है कि मामले का कितनी जल्दी हल कर लिया गया। उन्होंने कहा, ‘‘मामला सुलझ गया है। मैं समझता हूं कि यह गौर करना जरूरी है कि इस तरह के मुद्दों को हल करने के लिए भारत और चीन के बीच मौजूदा तंत्र हैं।’’  कुमार ने कहा, ‘‘यह गौर करना भी महत्वपूर्ण है कि मामला कितनी जल्दी सुलझ गया। इसका मतलब है कि भारत और चीन के बीच जो तंत्र मौजूद है, वह बहुत अच्छी तरह से काम कर रहा है।’’  भारत और चीन के बीच करीब 4,000 किमी लंबी सीमा है जिसका एक बड़ा हिस्सा विवादित है। जम्मू-कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में दोनों देश एलएसी द्वारा अलग किए गए हैं। अगस्त 2017 में, भारतीय सेना ने पेंगोंग के किनारे चीनी घुसपैठ को नाकाम कर दिया था। चीनी सैनिकों के एक समूह ने दो क्षेत्रों में भारतीय इलाके में प्रवेश करने की कोशिश की थी। इस दौरान दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पत्थर फेंके थे। घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...