पृथ्वी पकंज शॉ डोपिंग नियमों के मुताबिक 15 सितंबर से ट्रेनिंग पर लौट सकते हैं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 5 सितंबर 2019

पृथ्वी पकंज शॉ डोपिंग नियमों के मुताबिक 15 सितंबर से ट्रेनिंग पर लौट सकते हैं

शॉ नियमों के मुताबिक 15 सितंबर से ट्रेनिंग पर लौट सकते हैं। बयान में कहा गया है, ‘बीसीसीआई एडीआर के अनुच्छेद 10.11.2 के मुताबिक क्रिकेट खिलाड़ी निलंबन के आखिरी दो महीनों या एक तिहाई हिस्से में टीम के साथ या क्लब में अभ्यास के लिए लौट सकता है। इसलिए शॉ सितंबर में ट्रेनिंग पर वापस आ सकते हैं।’ 
prithvi-shaw-may-return-practice
मुंबई। युवा क्रिकेटर पृथ्वी पकंज शॉ डोपिंग का दोषी है। उन्हें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने 8 महीने के लिए सस्पेंड कर दिया है। वह 15 नवंबर, 2019 तक क्रिकेट से दूर रहेंगे। इसका मतलब है कि वह दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ घरेलू सीरीज में नहीं खेल पाएंगे। अक्टूबर-नवम्बर में तीन टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका और नवम्बर में दो टेस्ट मैच बांग्लादेश के साथ घर में नहीं खेल पाएंगे।

8 महीने का समय मार्च 2019 से शुरू 
वेस्ट इंडीज के खिलाफ 2018 में 2 टेस्ट मैच खेलने वाले 19 वर्षीय शॉ रिपोर्टों के अनुसार अपने कूल्हे की चोट का उपचार करा रहे हैं।बीसीसीआई के अनुसार, उनका सैयद मुश्ताक अली टी20 टूर्नमेंट के दौरान डोपिंग परीक्षण किया गया और उन्हें ‘टरबुटैलाइन’ के सेवन का दोषी पाया गया। शॉ के अलावा दो अन्य घरेलू खिलाड़ियों विदर्भ के अक्षय दुलारवर और राजस्थान के दिव्य गजराज को भी क्रिकेट बोर्ड की डोपिंग रोधी संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया गया। शॉ को 8 महीने के लिए निलंबित किया गया है जो 16 मार्च 2019 से 15 नवंबर 2019 तक प्रभावी रहेगा। इसका मतलब है कि वह  दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ घरेलू सीरीज में नहीं खेल पाएंगे।  बीसीसीआई ने कहा, ‘मुंबई क्रिकेट संघ के साथ पंजीकृत पृथ्वी शॉ को डोपिंग में पकड़े जाने के कारण निलंबित कर दिया गया है। शॉ ने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया। यह पदार्थ आमतौर पर खांसी की दवा में पाया जाता है।’ इसमें कहा गया है, ‘शॉ ने उल्लंघन के आरोप को स्वीकार किया और कहा कि उन्होंने अनजाने में ऐसा किया, क्योंकि उन्होंने खांसी के लिए ‘कफ सिरप’ लिया था। बीसीसीआई ने उनके स्पष्टीकरण को स्वीकार करके उन पर 8 महीने का प्रतिबंध लगाया।’  पृथ्वी का इमोशनल मेसेज, बोले टूट गया हूं बयान में कहा गया है, ‘बीसीसीआई एडीआर के अनुच्छेद 10.10.3 के मुताबिक शॉ 16 जुलाई को लगाए गए अस्थाई निलंबन को पूरा करेंगे। इसके अलावा चूंकि शॉ ने अपनी गलती मानी है, ऐसे में बीसीसीआई एडीआर के अनुच्छेद 10.10.2 के मुताबिक यह प्रावधान है कि उनके निलंबन का समय तब से गिना जाए जब उन्होंने सैम्पल (22 फरवरी 2019) दिया था।’ बयान के मुताबिक, ‘हालांकि बीसीसीआई एडीआर के अनुच्छेद 10.10.2 के मुताबिक शॉ को उनके ऊपर लगे निलंबन का आधा हिस्सा गुजारना होगा, इसलिए उनका 8 महीने का निलंबन 16 मार्च 2019 से शुरू होगा जो 15 नवंबर 2019 की रात में खत्म होगा।’  शॉ नियमों के मुताबिक 15 सितंबर से ट्रेनिंग पर लौट सकते हैं। बयान में कहा गया है, ‘बीसीसीआई एडीआर के अनुच्छेद 10.11.2 के मुताबिक क्रिकेट खिलाड़ी निलंबन के आखिरी दो महीनों या एक तिहाई हिस्से में टीम के साथ या क्लब में अभ्यास के लिए लौट सकता है। इसलिए शॉ सितंबर में ट्रेनिंग पर वापस आ सकते हैं।’  उल्लेखनीय है कि पृथ्वी ने आखिरी इंटरनैशनल टेस्ट मैच 23 अक्टूबर, 2018 को वेस्ट इंडीज के खिलाफ हैदराबाद में खेला था। उन्होंने अब तक भारत के लिए दो टेस्ट खेले हैं। उनके नाम एक शतक और एक अर्धशतक दर्ज है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...