सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 5 सितंबर 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 सितंबर

देव,ऋषि,पितृ ऋण से मुक्ती के लिए होता है पितृ पक्ष
पूर्वजों के मोक्ष के लिए परिजन करेंगे सीवन नदी तट पर पितृ तर्पण 
sehore news
सीहेार। देव ऋण ऋषि ऋण और पितृ ऋण का भार मनुष्य पर होता है। पूर्वजों की आत्मशांति के लिए श्रीमद्भागवत गीता पाठ के साथ पूर्वजों की स्मृति में पौधारोपण करना भी शास्त्रोनुकुल है। पूर्वजों के मोक्ष और देव ऋषि पितृ ऋण से मुक्त होने के लिए पुत्रगण सीवन नदी तट पर भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा 13 सितंबर से अश्विन कृष्णपक्ष की अमावस्या 28 सितंबर तक पितृ तर्पण करेंगे। 

पृथ्वी लोक पर आते हैं पूर्वज 
पंडित सुनील शर्मा ने बताया कि पूर्वंज अपने मोक्ष प्राप्ति की कामना के लिए पृथ्वी लोक पर आते हैं। महापर्व में परिजन पितरों के प्रति अपनी श्रद्धा और कृतज्ञता व्यक्त करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध करते है। पूर्वजों को मुखाग्नि दी गई हो उस तिथि को श्राद्ध करना उचित है लेकिन पूर्वजों की तिथि ज्ञात ना होने पर परिजन आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को श्राद्ध कर सकते है। अमावस्या को सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। 

तर्पण पिंडदान का है महत्व 
श्राद्ध कर्म तर्पण पिंडदान दोपहर के समय करना उचित माना गया है पंडित शर्मा के अनुसार श्राद्धकर्म जलाशय या घर में भी किया जा सकता है। दक्षिण दिशा को पितरों की दिशा माना गया है  इसलिए दक्षिण दिशा की ओर मुख करके तर्पण पिंडदान करना धर्मानुसार है। भात, काले तिल और घी का मिश्रण कर पिंडदान किया जा सकता है। दूध, काले तिल, कुश पुष्प और तीर्थ जल से तर्पण किया जाता है। पितृपक्ष में शुद्ध भोजन ब्राह्मणों को ग्रहण करवाकर वस्त्र और दक्षिणा प्रदान करना धर्मानुकुल है गौमाता कौवा श्वान और चीटियों को भोजन कराना भी पितृ मोक्ष के लिए फलदायी है। विश्व में पितरों की मुक्ति के लिए गया तीर्थ को सर्वश्रेष्ठ तीर्थ माना गया है गयाजी में पिंडदान तर्पण करने से सात पीढिय़ों का उद्धार होना शास्त्रों में बताया गया है। 

देश कांग्रेस सेवादल सचिव राकेश राय जिलाध्यक्ष नरेंद्र खंगराले ने किया शिक्षकों का सम्मान 

sehore news
सीहेार। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस पर शिक्षक दिवस की पूर्व सांध्या पर प्रदेश कांग्रेस सेवादल के सचिव राकेश राय, जिला कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष नरेंद ्रखंगराले वरिष्ठ कांग्रेस नेता दर्शन वर्मा,वरिष्ठ पत्रकार केजी बैरागी, युवा कांग्रेस नेता निशांत पिक्की  वर्मा के द्वारा डॉ अम्बेडकर पार्क में शिक्षकोंं का शॉल श्रीफल से सम्मान किया गया।  मुख्य अतिथि राकेश राय ने कहा की सर्वपल्ली राधाकृष्णन बचपन से हीं मैधावी छात्र से तथा वह शिक्षक से आजाद भारत के पहले उपराष्ट्रपति तथा बाद में भारत के राष्ट्रपति बने, महान शिक्षक होने के कारण उनके जन्म दिवस पांच सिंतंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। वह भारतीय संस्कृति के प्रख्यात शिक्षावादी महान दशर्निक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक थे। इन गुणों को कारण भारत सरकार ने उन्हे सर्वोच्य भारत रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया था।  कार्यक्रम में महिला पॉलीटेक्रिक प्राचार्य डीआर वर्मा, एक्सीलेंस प्राचार्य आरके बांगरे, शासकीय स्कूल ढावला राय की प्राचार्य डॉ नुजहत अनीस खान, सहायक शिक्षक विनोद उपाध्याय, नागेश जोशी, कुन्जीलाल सूर्यवंशी,शिक्षिका शौभा तोमर, मीना सक्सेना का जिला कांग्रेस सेनादल अध्यक्ष नरेंद्र खंगराले, क्षेत्रीय पार्षद आरती खंगराले, महिला कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष आशा गुप्ता के द्वारा शिक्षकगणों का शॉल श्रीफल भेंट कर सममान किया। प्रमुख रूप से बबीता माहेशवरी, सुनीता जाटव, मीरा बाई जाटव,धनराज जाटव, राहुल जाटव आदि लोग मौजूद रहे। 

कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने किया सीहोर जिले का भम्रण आर.ए.के. महाविद्यालय में प्रयोगशाला का सूक्ष्मता से किया अवलोकन

sehore news
किसान कल्याण तथा कृषि विकास, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मप्र शासन मंत्री श्री सचिन यादव बुधवार को सीहोर जिले के भम्रण पर रहे। भम्रण के दौरान मंत्री श्री सचिन यादव सर्वप्रथम जिले के आष्टा तहीसल पहुंचे। जहां उन्होंने मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला का अवलोकन किया। इस अवसर पर संबंधित अधिकारी/कर्मचारी एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। मंडी प्रांगण में अपनी फसल बेचने आए कृषिकों से मंत्री श्री यादव ने चर्चा भी की। इसके बाद मंत्री श्री यादव सीहोर पहुंचे। सीहोर में उन्होंने आर.ए.के. कृषि महाविद्यालय में प्रयोगशाला का सूक्ष्मता से अवलोकन किया। साथ ही उन्नत प्रकार के तैयार बीजों की किस्मों का भी अवलोकन कर वैज्ञानिकों से चर्चा की। उन्होंने उपस्थित कृषि विशेषज्ञों से उनके द्वारा किये जा रहे नये-नये प्रयोगों के बारे में भी जाना। तत्पश्चात मंत्री श्री यादव महाविद्यालय के छात्र संघ से मिले और छात्र संघ द्वारा की गई मांगों का निराकरण करने के लिए आश्चत किया। इस मौके पर महाविद्यालय में मंत्री श्री यादव द्वारा कृषकों को र्स्वाइल हेल्थ कार्ड का भी वितरण किया गया। कार्यक्रम के पश्चात मंत्री श्री यादव द्वारा महाविद्यालय परिसर में वृक्षारोपण भी किया गया। तत्पश्चात मंत्री श्री यादव कार्यालय उपसंचालक कृषि पहुंचे जहां प्रयोगशाला में उपस्थित अधिकारियों से किये जा रहे प्रयोगों एवं अन्य विषयों पर चर्चा की।  मंत्री श्री यादव ने विश्राम गृह (क्रिसेन्ट चौराहा) में कलेक्टर श्री अजय गुप्ता एवं पुलिस अधीक्षक श्री शशीन्द्र चौहान से विशेष चर्चा की। इसके बाद मंत्री श्री यादव टाउनहाल पहुंचे जहां उन्होंने ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी संघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया। उन्होंने ने कार्यक्रम में सभी को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि के क्षेत्र में कृषकों के लिए शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ कृषकों को दिलाने में आपका विशेष योगदान रहता है। कार्यक्रम के पश्चात मंत्री श्री यादव अशासकीय महाविद्यालय पहुंचे जहां उन्होंने व्यपारियों से चर्चा की साथ ही वृक्षारोपण किया। कार्यक्रम के दौरान उपसंचालक कृषि श्री एसएस राजपूत सिहत अन्य अधिकारी, जिला पंचायत अध्यक्ष सीहोर श्रीमती उर्मिला मरेठा, श्री हरपाल सिंह ठाकुर, श्री सौभाल सिंह, श्री राहुल यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।   
धारा 144 अन्तर्गत सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक मैसेज पर पूर्ण प्रतिबंध, कलेक्टर ने किए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री अजय गुप्ता द्वारा दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत सोशल मीडिया जैसे व्हाटसएप, फेसबुक आदि के माध्यम से आपत्तिजनक संदेश, चित्रों व वीडियो एव आडियो मैसेज पर पूर्ण प्रतिबंध लगाये जाने के आदेश जारी कर दिए है। जारी आदेशानुसार सोशल मीडिया पर कोई भी व्यक्ति आपत्तिजनक संदेश एवं चित्रो व वीडियो एवं ऑडियो मैसेज प्रकाशित नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति धार्मिक, सामाजिक, व्यक्तिगत रूप से आपत्तिजनक व अश्लील संदेशों को प्रकाशित नहीं करेगा। आदेश का उल्लंघन करने वाले पर भादविसं की धारा 188 के अन्तर्गत कार्यवाही की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होकर आगामी 2 माह तक प्रभावशील रहेगा। 

जिले में अब तक 1148.4 मि.मी. औसत वर्षा

जिले में आज 04 सितंबर, 2019 की प्रात:8 बजे समाप्त पिछले चौबीस घन्टों में 14 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 1148.4 मि.मी औसत बारिश रिकार्ड की जा चुकी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 825.7  मिलीमीटर औसत वर्षा आंकी गई थी। अधीक्षक, भू-अभिलेख से मिली जानकारी के अनुसार पिछले चौबीस घन्टों में  सीहोर में 3.2, श्यामपुर में 7, आष्टा में 5, इछावर में 6, नसरुल्लागंज में 18, बुधनी में 70, रेहटी में 6.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। आंकड़ों के मुताबिक जिले में अभी तक सीहोर में 1382.6, श्यामपुर में 1089, आष्टा में 1174, जावर में 726.9, इछावर में 1077, नसरूल्लागंज में 1274, बुधनी में 1094 तथा रेहटी में 1158.1 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गई है। इस अवधि में गत वर्ष सीहोर में 1185, श्यामपुर में 863, आष्टा में 776, जावर में 662.3, इछावर में 839, नसरूल्लागंज में 552.2, बुधनी में 802 तथा रेहटी में 926 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी।

बीमा कम्पनी की बैठक में निपटे 03 प्रकरण

राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार जिला एंव सत्र न्यायाधीश के मार्गदर्शन में आगामी नेशनल लोक अदालत 14 सितम्बर 2019 को सफल बनाने के सम्बंध में बीमा कम्पनियों के अधिवक्तागण के साथ बैठक आयोजित कर सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एस.के नागौत्रा एंव तृतीय अपर जिला न्यायाधीश सीहोर श्रीमती स्मृतासिंह ठाकुर द्वारा समस्त बीमा कम्पनी के अधिवक्तागण के साथ क्लेम प्रकरणों के निराकरण के सबंध में चर्चा की गई। बैठक में नेशनल इंश्योरेस कम्पनी के 03 प्रकरणों का निराकरण किया गया। शेष कम्पनी ने लोक अदालत के पहले आगामी आयोजित बैठकों में अधिक से अधिक प्रकरणों का निराकरण करने का आश्वासन दिया गया। इस सम्बंध मे बीमा कम्पनी के समस्त अधिवक्तागण ने लोक अदालत को सफल बनाने में सहमति व्यक्त की गई है।

स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत गांव में कराया जाएगा सर्वें 

शहर और नगरीय निकायों की तर्ज पर गांवो को स्वच्छता में नंबर वन पर लाने के लिए शासन-प्रशासन द्वारा खास मुहिम शुरू की गई है। अब गांवो को भी स्वच्छता का खिताब मिलेगा स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण के तहत गांव में सर्वे कराया जाएगा। देश व्यापी स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण क्षेत्रों में 30 सितम्बर-2019 तक यह अभियान के रूप में चलेगा। जिसमें जिले के चुनिंदा ग्रामों में सर्वेक्षण दल द्वारा ग्रामीण स्वच्छता की स्थिति का आंकलन होगा। गांव वाकई में स्वच्छ है या नही, कचरे व दूषित पानी का निपटान सही तरीके से हो रहा है कि नही यह अब ग्रामीण समुदाय अर्थात वहां की जनता तय करेगी। ग्रामीणों द्वारा दिए जाने वाले अभिमत के आधार पर ही यह रैकिंग तय होगी। स्वच्छता की अलख जगाने तीन कैटेगरी मे फीडबैक लिया जाना जिले में शुरू कर दिया गया है। इस अभियान के तहत 2011 की जनसंख्या के आधार पर ग्रामीण क्षेत्र के 5 प्रतिशत लोगो का फीडबैंक लिया जा रहा है। इस अभियान के तहत स्वचछता की हकीकत को जानने के लिए तीन घटकों को शामिल किया गया है। विभागों द्वारा स्वच्छता के प्रति चलाई जा रही सेवाओं व लक्ष्यों के आधार पर 35 प्रतिशत अंक मिलेगें और 30 अंक प्रत्येक अवलोकन के मिलेगे जिसे भारत सरकार से नामांकित एजेंसी के माध्यम से उनकी स्वच्छता टीम तय करेगी।

आदिम छात्रावास में दिया गया वाहक जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम पर प्रशिक्षण

sehore news
आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा संचालित छात्रावास में अधीक्षकों की वाहक जनित नियंत्रण पर एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन छात्रावास परिसर में किया गया। इस अवसर पर मलेरिया डेंगू चिकनगुनिया एवं मस्तिष्क ज्वर के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई साथ ही मच्छरों से होने वाली बीमारियों की उत्पत्ति, उपचार और बचाव के साथ बरती जाने वाली पर्याप्त सावधानियों पर विस्तार से प्रशिक्षण जिला मलेरिया अधिकारी श्रीमती क्षमा बर्वे ने दिया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रभाकर तिवारी ने दिशा निर्देशन तथा जिला संयोजक आदिम जाति कल्याण विभाग श्री हरजीत सिंह के मार्गदर्शन में आयोजित उक्त कार्यशाला के साथ वाहक जनित रोगों से संबंधित जागरूकता प्रदर्शनी के साथ ही फागिंग मशीन, टेमोफास, गम्बूशिया मच्छली, गणेश पंप, नेफसेफ पम्प, लार्वासाइड, इंसेक्टी साइड, प्रायरेथ्रम,रक्त पट्टिका निर्माण, आरडीटी कीट का प्रदर्शन कर सभी पर विस्तार से जानकारी छात्रावास की छात्राओं तथा अधीक्षकों एवं समस्त स्टाफ को दी गई। प्रशिक्षण में कीटनाशक उपचारित मच्छरदानी के उपयोग एवं रखरखाव एवं परिणाम की जानकारी प्रदान की गई। मलेरिया उपचार नीति 2019 के साथ दवाओं की भी विस्तार से जानकारी दी गई तथा प्रचार-प्रसार सामग्री से संबंधित पाम्पलेट का वितरण किया गया।  प्रशिक्षण सह कार्यशाला में जिला मलेरिया अधिकारी श्रीमती क्षमा बर्वे, जिला संयोजक आदिम जाति कल्याण विभाग श्री हरजीत सिंह, छात्रावास अधीक्षिका श्रीमती आशा सेन, श्रीमती रीता दुबे, विनीता अग्रवाल, मनीष अग्रवाल, भूपेन्द्र सिंह, मीना प्रसाद, राजेन्द्र कुमार सहित डिप्टी मीडिया अधिकारी सुश्री उषा अवस्थी, जिला मीडिया सलाहकार शैलेश कुमार, मलेरिया इंस्पेक्टर श्री संतोष नायर, फिल्ड वर्कर श्री देवेन्द्र सेन, श्री अनिल यादव, रवि परमार सहित छात्रावास की छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थी।         

गणेश मंदिर परिसर में लगाई गई स्वास्थ्य योजनाओं की प्रदर्शनी

sehore news
प्राचीन चिंतामन गणेश मंदिर परिसर में आयोजित 10 दिवसीय मेले के अवसर पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा योजनाओं की प्रदर्शनी लगाई गई है। मंदिर में दर्शन करने आ रहे प्रदेश भर के श्रद्धालु प्रदर्शनी में पहुंचकर विभागीय योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर रहें है तथा योजनाओं के पाम्पलेट प्रदर्शनी स्थल से प्राप्त कर रहे है, वहीं फस्र्ट एड के लिए जरूरी दवाओं का स्टाल भी विभाग की ओर से लगाया गया है जिससे बीमार व्यक्ति को स्टाल पर दवाओ का वितरण किया जा रहा है। प्रदर्शनी के लिए उप जिला जिला मीडिया अधिकारी सुश्री उषा अवस्थी को प्रभारी बनाया गया है। दवाओं को वितरित करने के लिए श्यामपुर तथा सीहोर शहरी क्षेत्र के एएनएम तथा एम.पी.डब्ल्यू.की सेवाएं लगाई गई है।                
उपाय ऐप : बिजली संबंधी शिकायतों का समाधान अब और आसान

बिजली फॉल्ट एवं बिल संबंधी शिकायत दर्ज कराने के लिए टोल फ्री नंबर 1912 और 0755-2551222 के साथ ही मोबाइल एप “उपाय (UPAY)’’ पर भी शिकायतें दर्ज होंगी। इस एप से उपभोक्ता अपनी शिकायत सीधे कॉल सेंटर में दर्ज करा सकते हैं। कंपनी के आईटी विभाग द्वारा इस एप के जरिए उपभोक्ताओं को बिजली बिल भुगतान के अलावा विद्युत अवरोध एवं बिलिंग संबंधी शिकायतें दर्ज कराने की सुविधा भी उपलब्ध कराई है। उपाय (UPAY) एप को गूगल प्ले स्टोर से फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है। इस एप को भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर और चंबल संभाग के बिजली उपभोक्ता उपयोग कर सकेंगे। एप में उपभोक्ता बिल में दर्ज आईवीआरएस या उपभोक्ता आईडी नंबर सबमिट करने से उपभोक्ता के कनेक्शन के सभी विवरण स्वतः खुल जाएंगे। यदि बिजली उपभोक्ता की शिकायत अन्य व्यक्ति या अन्य पते की है, तो अन्य व्यक्ति को शिकायत दर्ज कराने के लिए एप में अपने मोबाइल नंबर को दर्ज करना होगा। अपने सभी विवरण दर्ज कराने होंगे।  शिकायत के पते के लिये उपभोक्ता को शहर/क्षेत्र/कॉलोनी एवं मकान नंबर की जानकारी भरनी होगी। इसके बाद अपनी समस्या या मांग के अनुरूप शिकायत की श्रेणी चुनना होगा। ऐसा करने पर समस्या या मांग दर्ज हो जाएगी एवं एसएमएस से शिकायत दर्ज होने की पुष्टि होगी। शिकायत दर्ज होने के बाद अगले कुछ ही समय में कंपनी के कॉल सेंटर से कॉल आएगा। शिकायत वेरिफाई की जाएगी और उसे संबंधित बिजली जोन में फॉरवर्ड कर दिया जाएगा। इस एप के जरिए उपभोक्ता अपनी शिकायत की स्थिति भी जान सकेंगे। उपाय एप के जरिए उपभोक्ता बिजली संबंधी शिकायतें दर्ज करने के साथ ही ऑनलाइन बिजली बिल का भुगतान भी कर सकेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...