विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 16 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 16 सितंबर 2019

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 16 सितंबर

अतिवर्षा से प्रभावित फसलों के नुकसान का जल्दी होगा सर्वे- शशांक भार्गव

विदिशा:- विधायक शशांक भार्गव ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पिछले दिनों हुई अतिवर्षा से विदिशा जिले के किसानों की फसलों को भी नुकसान हुआ है। इस संबंध में विधायक शशांक भार्गव ने विदिशा जिले में कृषकों की खडी फसलों को अतिवर्षा एवं बाढ से जो क्षति हुई है, जिसके संबंध में म.प्र. के मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने म.प्र. के सभी कलेक्टरों को निर्देश दिये है कि बिना किसी विलम्ब के किसानों की फसलों को हुई क्षति का प्रारंभिक आंकलन करे, जिससे कि किसानों को यथाशीघ्र क्षतिपूर्ति का भुगतान किया जा सके एवं रवि फसलों के लिये कृषकों को खाद्य की आवश्यकता के संबंध में भी कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये इसी क्रम में आज प्रभारी सचिव श्री जे.एन.कन्सोटिया एवं जिला कलेक्टर नेे विदिशा जिले में अतिवर्षा एवं बाढ़ से खेतों में खडी फसल को जो क्षति हुई है, उसका सर्वे कर यथाशीघ्र किसानो राहत प्रदान किये जाने को लेकर बैठक का आयोजन किया गया। उन्हांेने बताया कि वर्षा समाप्त होते ही रास्ते खुलने के बाद किसानों की फसलों का नुकसानी सर्वे कराया जायेगा। विधायक भार्गव ने कहा कि क्षेत्र के कई ग्रामों का दौरा किया जिसमें किसानों की खासतौर से सोयाबीन, उडद की फसल को काफी अधिक क्षति हुई है। उन्होने कहा कि आपदा के समय हमारी सरकार पूरी तरह से किसानों के साथ है, जिले के हर पीडित किसान को उसकी फसल को हुई क्षति के संबंध में राहत राशि प्रदान की जायेगी।  

सर्वे में वाजिब छूटे ना और अपात्र शामिल ना हो-प्रभारी सचिव

vidisha news
सामाजिक न्याय एवं निःशक्त कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव एवं जिले के प्रभारी सचिव श्री जेएन कंसोटिया ने आज विदिशा के नवीन कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में बैठक आहूत कर राजस्व सहित अन्य विभागों के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए है कि अनवरत वर्षा एवं जलभराव से हुई क्षति के सर्वे में कोई भी बाजिव छूटे ना वही अपात्र शामिल ना हो का पूरा ध्यान रखकर सर्वे कार्य को अंतिम रूप दिया जाए।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया ने आज जिले में क्रियान्वित योजनाओं के साथ-साथ बाढ आपदा प्रबंधन के तहत क्रियान्वित किए गए कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि बाढ के कारण जो सड़के क्षतिग्रस्त हुई है उनकी मरम्मत के लिए संबंधित विभाग विशेष पहल कर मरम्मत कार्य शीघ्र पूर्ण कराएं।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया को कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने अवगत कराया कि जिले में औसत से अधिक वर्षा दर्ज की जा चुकी है। अत्यधिक वर्षा, जलभराव से 24 जनहानि हुई है जिसमे से 17 मृतकों के परिजनों को आरबीसी के प्रावधानो के तहत 68 लाख रूपए की मदद जारी की गई है वही 32 पशु हानि के प्रकरण पंजीबद्व किए गए है जिसमें से 12 निराकृत कर 33 हजार रूपए की राशि पशुपालकों को प्रदाय की गई है। जिले में आंशिक पूर्ण मकान, कुंआ एवं अन्य सामग्री क्षति के कुल 5370 प्रकरण अभी तक पंजीबद्व किए गए है जिसमें से 2911 प्रकरणों का निराकरण कर एक करोड़ 73 लाख की राशि वितरित की जा चुकी है। विदिशा जिले के कुल 118 गांव प्रभावित हुए है बाढ़ से प्रभावित 1110 व्यक्तियों को राहत शिविरों में ठहराया गया था।  समीक्षा बैठक में वर्षाकाल के दौरान क्षतिग्रस्त हुई सड़कों एवं पुल पुलियों के संबंध में जानकारी संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा प्रस्तुत की गई। ततसंबंध में प्रभारी सचिव के द्वारा निर्देश दिए गए है कि आवागमन सुचारू रूप से संचालित हो सकें इसके लिए आवश्यक मरम्मत कार्य शीघ्रतिशीघ्र पूर्ण कराया जाए।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि अनवरत वर्षा एवं जलभराव से निर्मित स्थिति का मानव जीवन पर खासकर स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर ना पडे़ का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने स्वास्थ्य उपचार केम्पों का आयोजन उन क्षेत्रों में विशेष तौर पर आयोजित करने के निर्देश देते हुए कहा कि टीकाकरण जैसे कार्य से वंचित ना हो का भी पूरा ध्यान रखा जाए। इस दौरान प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केसी अहिरवार ने जिले में औषधियों के भण्डारण के अलावा डाक्टरोें एवं स्वास्थ्य अमला की तैनाती खासकर राहत शिविरों में किए गए प्रबंधों के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में मलेरिया एवं स्वास्थ्य विभाग का अमला संयुक्त रूप से कार्यवाहियों का सम्पादन कर रहा है आमजनों के स्वास्थ्य का परीक्षण कर यदि कही मलेरिया के लक्षण पा जा रहे है तो संबंधित पीड़ित को विशेष रोगोपचार की व्यवस्था का क्रियान्वयन किया जा रहा है। प्रभारी सचिव ने जिले में संस्थागत प्रसव पर बल देते हुए कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग तथा स्वास्थ्य विभाग संयुक्त रूप से रणनीति तय कर संस्थागत प्रसव में वृद्वि करें। इस दौरान बताया गया कि जिले में 80 प्रतिशत संस्थागत प्रसव हो रहे है ततसंबंध में उनके द्वारा कितने हितग्राहियों को जननी सुरक्षा का लाभ लिया गया है। उन्होंने बताया कि यदि किसी बीपीएल परिवार की घर में डिलेवरी हो जाती है तो उस परिवार को भी पांच सौ रूपए अतिरिक्त देने का प्रावधान है।  उन्होंने राष्ट्रीय पोषण माह के दौरान आयोजित होने वाली गतिविधियां, खाद्य विभाग के माध्यम से वितरित होने वाली पात्रतापर्चियां, राजस्व कार्यो के तहत मुख्यतः सीमांकन, बंटवारा, नामांतरण एवं आपदा राशि, प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को दी जाने वाली राशि की समीक्षा करते हुए , वन अधिकार अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त आवेदन जो निरस्त किए गए है कि पुनः एसडीएम स्तर पर समीक्षा करने के निर्देश दिए है।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया ने वन संरक्षक बैठक में अनुपस्थित रहने पर उनके खिलाफ कार्यवाही करने हेतु प्रस्ताव शासन को प्रेषित करने के निर्देश कलेक्टर को दिए। उक्त बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल, अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह के अलावा विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं अनुविभागीय राजस्व अधिकारी मौजूद थे।  

रैकिंग सुधार में उत्कृष्ट कार्य हेतु पुरस्कृत 

vidisha news
आकांक्षीय जिला कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में जमीनी स्तर पर स्वास्थ्य एवं पोषण सुविधाओं को सुधारने के लिए आदर्श ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण (वीएचएसएनडी) का आयोजन किया जा रहा है। जिले के 40 ग्रामों में उक्त मॉडल के रूप में क्रियान्वित किया जा रहा है। प्रभारी सचिव श्री जेएन कंसोटिया ने रैकिंग सुधार के कार्य में उत्कृष्ट कार्य करने वालो को प्रमाण पत्र प्रदाय कर पुरस्कृत किया। ग्राम भाटनी में स्तनपान पर विशेष जोर देकर पोषण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने पर ग्राम भाटनी की एएनएम श्रीमती भावना गवाले को, आशाकार्यकर्ता श्रीमती कविता मीना एवं आंगनबाडी कार्यकर्ता श्रीमती ममता मीना को पुरस्कृत किया है।

नवनिर्मित जिला चिकित्सालय का जायजा

vidisha news
जिले के प्रभारी सचिव श्री जेएन कंसोटिया ने आज नवनिर्मित जिला चिकित्सालय भवन के विभिन्न कक्षो का मौके पर जाकर जायजा लिया और मरीजो के लिए किए जा रहे प्रबंधों की जानकारियां प्राप्त की।  इस अवसर पर कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल, एसडीएम श्री प्रवीण प्रजापति, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केसी अहिरवार भी साथ मौजूद थे। सिविल सर्जन सह अधीक्षक डॉ संजय खरे ने नवनिर्मित जिला चिकित्सालय भवन के विभिन्न कक्षो के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी से प्रभारी सचिव को अवगत कराया।

क्षतिग्रस्त फसल का जायजा

vidisha news
सामाजिक न्याय एवं निःशक्त कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव एवं जिले के प्रभारी सचिव श्री जेएन कंसोटिया ने आज ग्राम धतूरिया में पहुंचकर क्षतिग्रस्त फसलों का जायजा लिया। उन्होंने कलेक्टर श्री केव्ही सिंह से कहा कि ऐसे क्षेत्र जहां जलभराव कम है और उन क्षेत्रो में सर्वे संभव है तो शीघ्रतिशीघ्र सर्वे कार्य पूरा कराया जाए। कलेक्टर श्री केव्ही सिंह ने प्रभारी सचिव को अवगत कराया कि जिले में क्षतिग्रस्त फसलो के सर्वे हेतु ग्राम स्तर पर टीमों का गठन किया गया है जिसमें राजस्व, कृषि एवं ग्रामीण विकास विभाग के अमले को शामिल किया गया है। वर्षारूपी जल निकासी होते ही सर्वे कार्य का क्रियान्वयन युद्व गति से किया जाएगा।  ग्राम धतूरिया में क्षतिग्रस्त फसल के अवलोकन के दौरान पीड़ित कृषक श्री प्रताप सिंह लोधी के खेत में उड़द फसल का जायजा लिया और क्षतिग्रस्त फसल के संबंध में उन्होंने आश्वस्त कराया कि शीघ्र ही सर्वे दल खेत में आएगा और रिपोर्ट तैयार कर प्रस्तुत करेगा। कृषक प्रताप सिंह लोधी ने बताया कि 33 बीघा अर्थात सात हेक्टेयर में उडद फसल बोई थी जो पूर्णतः क्षतिग्रस्त हो गई है। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल, एसडीएम श्री प्रवीण प्रजापति, किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक साथ मौजूद थे।

आंगनबाडी पहुंचकर बच्चों से रू-ब-रू हुए मास्टर साक्षी के इलाज की व्यवस्था हुई

vidisha news
सामाजिक न्याय एवं निःशक्त कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव एवं जिले के प्रभारी सचिव श्री जेएन कंसोटिया ने आज ग्राम अटारीखेजडा की मॉडल आंगनबाडी केन्द्र क्रमांक 152 में अचानक पहुंचकर आंगनबाडी केन्द्र के माध्यम से दी जाने वाली सेवाओं की जानकारी प्राप्त की।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया ने आंगनबाडी केन्द्र में मौजूद महिलाओं एवं उनके बच्चों से संवाद स्थापित कर आंगनबाडी केन्द्र की उपयोगिता एवं महत्वता के संबंध में जानकारी प्राप्त की। आंगनबाडी कार्यकर्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत चालीस हितग्राहियों को एक-एक लाख रूपए राशि के प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है। आंगनबाडी केन्द्र में दर्ज रही सात बच्चियो के द्वारा कक्षा छटवी में प्रवेश लेने पर उन्हें क्रमशः दो-दो हजार रूपए की छात्रवृत्ति प्रदाय की गई है वही प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत बीस हितग्राहियों को प्रथम प्रसव उपरांत पांच-पांच हजार रूपए की आर्थिक सहायता मुहैया कराई गई है।  प्रभारी सचिव श्री कंसोटिया ने आंगनबाडी केन्द्र में एक दुबली पतली बच्ची को देखने पर उसके संबंध में जानकारी ली, तब उन्हें ज्ञात हुआ कि राजकुमार पत्नि रूबी की तीन साल छह माह की बच्ची साक्षी एनआरसी में भर्ती रही जब तक अनुपातिक रूप से वजन सही हो गया था छुट्टी होने के बाद पुनः वजन में गिरावट आने लगी है। प्रभारी सचिव ने मौके पर मौजूद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि बच्ची के इलाज की समुचित प्रबंध किए जाएं और स्वास्थ्य परीक्षण कर इस बात का भी पता लगाया जाए कि कही बच्ची के हृदय में छेद अथवा क्षय रोग से पीड़ित तो नही है। उन्होंने मौके पर मौजूद साक्षी की मां श्रीमती रूबी को समझाईंश देते हुए बताया कि समय पर इलाज शुरू हो जाने से अब हर प्रकार की बीमारी से निजात मिल सकती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...