उत्तर प्रदेश में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों पर गिरेगी गाज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 अक्तूबर 2019

उत्तर प्रदेश में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों पर गिरेगी गाज

nrc-in-uttarpradesh
लखनऊ 01 अक्तूबर, उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्ट्रेशन (एनआरसी) का ड्राफ्ट जारी करने का काम राज्य पुलिस ने शुरू कर दिया है और इसके लिये मंगलवार को सभी जिलों के पुलिस कप्तानों, आईजी, डीआईजी रेंज व एडीजी जोन को पत्र भेजकर इस पर निर्देश जारी कर दिये गये हैं । आधिकारिक सूत्रों के अनुसार एनआरसी के लिए राज्य पुलिस मुख्यालय ने जो मसौदा तैयार किया है उसमें सभी जिलों के बाहरी छोर पर स्थित रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, रोड के किनारे व उसके आसपास नई बस्तियों की पहचान की जाएगी जहां बांग्लादेशी व अन्य विदेशी नागरिक अवैध रूप से शरण लेते हैं। सतर्कता के साथ सत्यापन के इस कार्य की वीडियो रिकॉर्डिंग कराई जाएगी। जांच में अगर संबंधित व्यक्ति अपना पता अन्य राज्यों, जिलों में बताता है तो समयबद्घ तरीके से उसका सत्यापन कराया जायेगा । पुलिस यह भी पता लगाएगी कि विदेशी नागरिकों ने अपने प्रवास को नियमित करने के लिए कौन-कौन से फर्जी अभिलेख व सुविधाएं ली हैं। इसमें राशन कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, शस्त्र लाइसेंस, पासपोर्ट व आधार कार्ड हो सकते हैं। इन फर्जी अभिलेखों व सुविधाओं के बारे में जांच पूरी होने पर उनके निरस्तीकरण की कार्रवाई होगी और यह सुविधाएं मुहैया कराने वाले बिचौलियों व विभागीय कर्मचारियों पर कार्रवाई होगी। सूत्रों ने बताया कि अवैध रूप से रहने वाले लोगों की ऊंगलियों के निशान लिये जायेंगे और उन्हें फिंगर प्रिंट ब्यूरो को सत्यापन के लिये भेजा जायेगा ।सूत्रों का कहना है कि ऐसे सभी लोगों को बाहर निकाला जायेगा जो अवैध रूप से राज्य में रह रहे हैं । सूची में ऐसे भी नाम हो सकते हैं जो किसी जिले के फरार अपराधी हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...