वाराणसी : राज्यस्तरीय शैक्षिक कार्यशाला में सम्मानित हुई सोनभद्र की वर्षारानी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2019

वाराणसी : राज्यस्तरीय शैक्षिक कार्यशाला में सम्मानित हुई सोनभद्र की वर्षारानी

‘ज्ञान अविरल प्रवाह का नाम है: बेशिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी
varsha-rani-awarded
वाराणसी (सुरेश गांधी ) । लखनऊ के आरएलबी इण्टरमीडिएट काॅलेज, इन्दिरानगर में बुधवार को राज्य स्तरीय शैक्षिक गुणवत्ता उन्नयन कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में सोनभद्र जिले के माॅडल इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल कलकलीबहरा प्रथम, दुद्धी की प्रधानाध्यापिका एवं नवाचारी शिक्षिका वर्षा रानी को यूपी के बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए स्मृति चिन्ह व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। वर्षारानी को प्रशस्ति पत्र मिलने से शिक्षक एवं शिक्षिकाओं में खुशी की लहर है। लोगों ने कहा वर्षारानी ने सोनभद्र जिले का गौरव बढ़ाया है। बेसिक शिक्षा परिषद के संयुक्त शिक्षा निदेशक गणेश कुमार व सहायक शिक्षा निदेशक अब्दुल मोबीन ने वर्षारानी का उत्साहवर्धन किया है। बता दें, शिक्षा निदेशालय की ओर से लखनऊ में होने वाली मिशन शिक्षण संवाद गुणवत्ता कार्यशाला के लिए सोनभद्र के माॅडल इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल कलकलीबहरा प्रथम, दुद्धी की प्रधानाध्यापिका एवं नवाचारी शिक्षिका वर्षा रानी का चयन किया गया है। कार्यशाला में बेशिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने कहा है कि आने वाले समय में बेसिक शिक्षा के स्कूलों को अभिभावकों की पहली पसंद बनाने का लक्ष्य है। इन स्कूलों को उनकी मजबूरी नहीं बनना चाहिए। हमारी कोशिश है कि योगी सरकार बेसिक शिक्षा के कायाकल्प के लिए जो योजनाएं लाई है, वे सफलतापूर्वक धरातल पर उतर सकें।  श्री द्विवेदी ने कहा कि शैक्षिक गुणवत्ता में अभिनव प्रयोग करने वाले शिक्षकों इस कार्यशाला में संवाद के जरिए चयन किया गया। कार्यशाला में आये अभिनव प्रयोग करने वाले शिक्षकों ने अपने उत्कृष्ट कार्यों को सबसे सांझा किया। जिससे अभिप्रेरित हो शैक्षिक गुणवत्ता को उत्तरोत्तर संवर्धित किया जा सके। श्री द्विवेदी ने शिक्षकों को अभिप्रेरित करते हुए कहा कि ‘ज्ञान अविरल प्रवाह का नाम है। जो शिक्षक अच्छे कार्य कर रहे हैं उन्हें सबके सामने लाना है। इससे समाज को नयी ऊर्जा मिलेगी। यदि उनके ज्ञानरुपी प्रवाह को रोका गया तो उनमें नकारात्मकता उत्पन्न होने लगेगी।‘ श्री द्विवेदी ने समस्त शिक्षकों का मार्गदर्शन करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।  कर्यशाला में माॅडल इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल कलकलीबहरा प्रथम, दुद्धी की प्रधानाध्यापिका एवं नवाचारी शिक्षिका वर्षा रानी ने अपने ‘उत्कृष्ट अभिनव पहल‘, सकारात्मक शैक्षिक परिवेशीय संवर्धन‘ का प्रस्तुतिकरण कर सभागार में मौजूद हरेक के मन को मुग्ध कर दिया। गौरतलब है कि प्रदेश के 75 जनपदों में प्रथम स्थान प्राप्त कर शिक्षिका वर्षा रानी ने न सिर्फ आकांक्षित जनपद सोनभद्र के गौरव को संवर्धित किया है, बल्कि सभामध्य प्रेरणापुंज भी बनी। जिसके लिए उन्होंने अपने स्कूल के समस्त शिक्षकों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में वर्षारानी को ससम्मान प्रमाण-पत्र देकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की गयी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...