बिहार : सुप्रीम कोर्ट के आदेश को सबको स्वीकार करना चाहिए : नीतीश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 नवंबर 2019

बिहार : सुप्रीम कोर्ट के आदेश को सबको स्वीकार करना चाहिए : नीतीश

accept-sc-verdict-nitish
पटना, 09 नवम्बर (आर्यावर्त संवाददाता) वाल्मीकिनगर से पटना लौटने के  क्रम में पटना एयरपोर्ट पर  अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमलोगों का शुरू से ही अयोध्या के मसले पर यह विचार रहा है कि या तो इस समस्या का हल आपसी सहमति से हो, या न्यायालय के आदेश से हो। उन्होंने कहा कि अब तो सुप्रीम कोर्ट का आदेश है, सबको इसे स्वीकार करना चाहिए और स्वागत करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मसले का जो समाधान है, इसे मानते हुए सबको एक दूसरे के प्रति सम्मान का भाव रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने जो फैसला दिया है उसे पूरे तौर पर सबको स्वीकार करना चाहिए। यह समाज में प्रेम और भाईचारा बनाये रखने के लिए बहुत उपयोगी हाेगा यही मेरा अपना विचार है। उन्होंने कहा  कि आज का सुप्रीम कोर्ट का फैसला एकमत से आया हुआ फैसला है और यह पूरी तरह से  स्पष्ट भी है। सरकार को भी कुछ जिम्मेदारी दी गई है। हर पक्ष को गौर से सुनने के बाद जो कुछ भी फैसला आया है हम सबको, पूरे देश के लोगों के, इसे सम्मान के साथ स्वीकार करना चाहिए और इस मसले पर आगे अब किसी तरह का कोई विवाद नहीं होना चाहिए। यही मेरा व्यक्तिगत तौर पर आग्रह लोगों से है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...