गोरखपुर जेल को मिला रेडियो स्टेशन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 नवंबर 2019

गोरखपुर जेल को मिला रेडियो स्टेशन

redio-station-in-gorakhpur-jail
गोरखपुर, 30 नवंबर,  जिला जेल के अधिकारियों ने शनिवार को यहां एक रेडियो स्टेशन शुरू किया। यह राज्य में इस तरह का 25वां स्टेशन है। जेल अधीक्षक राम धनी ने बताया कि रेडियो स्टेशन का संचालन जेल में रहने वाले कैदी स्वयं करेंगे।  उन्होंने ने कहा कि यह रेडियो स्टेशन जेल के अंतःवासियों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका देगा। जेल परिसर में खुशनुमा और शांतिपूर्ण माहौल सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया है ताकि कारागार वास्तविक अर्थों में सुधार गृह की तरह बने।  जिला कारागारों में रेडियो स्टेशनों के राज्य संयोजक एवं कारागार सुधारकर्ता प्रदीप रघुनंदन ने बताया कि ऐसा पहला रेडियो स्टेशन मैनपुरी जेल में शुरू किया गया था और यह अच्छा चला। सरकार ने राज्य की सभी जिला जिलों के लिए इसे मंजूरी दी है।  रघुनंदन ने बताया कि राज्य में इस तरह का यह 25वां रेडियो स्टेशन है। इस स्टेशन से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम केवल जेल के अंतः वासी सुन सकेंगे । उन्होंने कहा कि शनिवार के कार्यक्रम का संचालन उन्होंने स्वयं किया था कल से जेल के अंतः वासी ही इसका संचालन करेंगे। अंतः वासियों के एक दल को इस उद्देश्य से प्रशिक्षित किया गया है।  हमारे समूह में अभी कोई महिला अंतः वासी नहीं है लेकिन हम दो तीन महिला अंतःवासियों से बातचीत कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि वे हमारे समूह का हिस्सा बनेगी।  रेडियो कार्यक्रमों के बारे में रघुनंदन ने बताया कि कार्यक्रम एक घंटे का दोपहर 3:00 से 4:00 बजे के बीच होगा। तीन कार्यक्रम होंगे। पहला कार्यक्रम राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय समाचारों का होगा इसमें जेल के समाचार भी दिखाई जाएंगे। दूसरा कार्यक्रम 10 गीतों का होगा जो अंतः वासियों के अनुरोध पर बजाए जाएंगे। तीसरा कार्यक्रम अंतःवासियों को उनकी प्रतिभा दिखाने का होगा । 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...