दरभंगा : महिलाओं के खिलाफ ऐसे जघन्य और डरावने अपराध देखना दुखद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 दिसंबर 2019

दरभंगा : महिलाओं के खिलाफ ऐसे जघन्य और डरावने अपराध देखना दुखद

crime-against-women
दरभंगा,2 दिसम्बर (आर्यावर्त संवाददाता) । महिलाएं सुरक्षित नहीं है। अपने घर से काम पर जा रही थी,26 साल की होनहार डॉक्टर प्रियंका रेड्डी।आधे रास्ते में ही 4 दरिंदों ने उसका गैंगरेप किया और फिर उसे मारकर जला दिया।इस संदर्भ में प्रीति पीटर कहती है कि आखिरकार हम भारतीय किस दिन का इंतज़ार कर रहे हैं?क्यों ऐसी घटनाओं पर हमारा खून नहीं खौलता, अब हमें आरपार की लड़ाई लड़नी ही होगी।  प्रियंका के साथ दरिंदगी करने वाले उन हैवानों को जल्द से जल्द कड़ी से कड़ी सज़ा दी जाए ताकि आगे से ऐसी घटना ना हो।

वेटनरी डॉक्टर की गैंगरेप और जिंदा जला देने की बर्बर घटना:
रंगारेड्डी (तेलंगाना) जिले के शादनगर में महिला वेटनरी डॉक्टर की गैंगरेप और जिंदा जला देने की बर्बर घटना में पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपितों में मोहम्मद पाशा, नवीन, केशवलू और शिवा शामिल है। मृतक महिला प्रियंका रेड्डी महबूबनगर जिले के नवाबपेट मंडल के कोल्लुरु स्थित सरकारी वेटनरी अस्पताल में डॉक्टर थीं। हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या के चारों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। रंगा रेड्डी जिले की स्थानीय अदालत ने यह आदेश दिया। शादनगर बार एसोसिएशन ने भी घटना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। वकीलों ने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या में शामिल चार आरोपियों को किसी भी तरह की कानूनी सहायता नहीं देने का फैसला किया है। पुलिस जांच में पता चला है कि इस जघन्य वारदात के एक आरोपी मोहम्मद आरिफ ने हैवानियत के दौरान पीड़िता का मुंह दबा रखा था ताकि उनकी चीखों को कोई सुन न सके। वह तड़पती रहीं और दरिंदे उनके साथ हैवानियत करते रहे। माना जा रहा है कि सांस नहीं ले पाने के कारण हैदराबाद की इस 'निर्भया' की मौत हो गई।

पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने कहा:
पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने बताया कि हैदराबाद में गुरुवार को महिला चिकित्सक से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की वारदात को पूर्व साजिश के तहत अंजाम दिया गया। बुधवार की शाम को ही चारों आरोपियों ने देखा कि महिला चिकित्सक टोल प्लाजा के पास स्कूटी खड़ी करके कैब से चली गईं। इसके बाद आरोपियों ने साजिश के तहत उनकी स्कूटी से हवा निकाल दी। रात करीब 9 बजे स्कूटी लेने के लिए महिला चिकित्सक वापस लौटीं तो देखा कि एक टायर में हवा नहीं है। इसी दौरान मोहम्मद आरिफ उनके पास मदद के बहाने पहुंचा और उसका एक हेल्पर शिवा स्कूटी को ठीक कराने के बहाने कुछ दूर ले गया। इसके बाद तीनों जबरन महिला चिकित्सक को पास के ही एक खाली प्लॉट में ले गए और जबरन गैंगरेप किया। स्कूटी दूर करने के बाद शिवा लौटा और उसने भी दुष्कर्म किया। इसके बाद आरोपी शव को एक ट्रक पर लादकर हाइवे पर कुछ आगे बढ़े और एक पेट्रोल पंप से पेट्रोल और डीजल खरीदा। रंगारेड्डी जिले के शादनगर में एक सुनसान जगह पर शव को फेंक दिया और पेट्रोल छिड़कर उसमें आग लगा दी।

हैदराबाद रेप और मर्डर केस में बड़ा खुलासा:
आरोपियों ने योजना के तहत वारदात को दिया अंजाम उधर, कोर्ट के आदेश के बाद इन आरोपियों को शादनगर पुलिस थाने से चंचलगुडा जेल पहुंचाया गया। मंडल के एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट ने शादनगर पुलिस थाने में चारों से पूछताछ की। चारों आरोपियों की पहचान मोहम्मद आरिफ, जोलू नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और जोलू शिवा के रूप में हुई है। चारों पेशे से ड्राइवर और खलासी हैं। आरिफ की उम्र 26 साल है, जबकि बाकी आरोपियों की उम्र 20 साल है। गौरतलब है कि 26 वर्षीय एक महिला चिकित्सक का झुलसा हुआ शव गुरुवार को हैदराबाद के पास एक पुलिया के नीचे मिला था। उसे जलाने से पहले उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था।

पुलिस पर बरसाए चप्पल, लाठी चार्ज :
रंगा रेड्डी जिले के शादनगर थाने के बाहर शनिवार की सुबह आक्रोशित लोगों की भीड़ एकत्र हो गई थी। इसी थाने में शुरू में आरोपियों को बंद किया गया था। इस दौरान पुलिस ने लोगों को थाने में घुसने की इजाजत नहीं दी, तो लोगों ने पुलिस पर चप्पल बरसाए। इस दौरान कानून-व्यवस्था बरकरार रखने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा। पुलिस ने बाद में किसी तरह चारो आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच चंचलगुडा केंद्रीय कारागार भेज दिया।

परिजनों से मिले राज्यपाल : 
तेलंगाना की राज्यपाल डॉ. तमिलिसई सुंदरराजन ने भी पीड़ित के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। राज्यपाल ने दोषियों को नहीं बख्शे जाने का भरोसा दिया। राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम सामूहिक दुष्कर्म और मौत की शिकार महिला चिकित्सक के घर पहुंची। टीम ने उनके परिजनों से मुलाकात की और इंसाफ दिलाने का भरोसा दिया।

सामूहिक दुष्कर्म कांड में रोज सुनवाई होगी: राज्यपाल
तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या की शिकार हुई पशु चिकित्सक के परिवार से शमशाबाद स्थित उनके आवास में मिली। उन्होंने परिवार को भरोसा दिलाया कि वह यह सुनिश्चित करने का प्रयास कोशिश करेंगी कि मामले में त्वरित अदालत का गठन किया जाए।  ताकि, परिवार को जल्द से जल्द न्याय मिले।  इसके अलावा मामले की सुनवाई दैनिक आधार पर किया जाएगा। सौंदरराजन ने कहा कि पुलिस को जल्द जांच पूरी करने और आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर करने को कहा जाएगा।

सड़क से सोशल मीडिया तक आक्रोश:
तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक सरकारी महिला चिकित्सक से सामूहिक दुष्कर्म, हत्या और जला देने की दिल दहला देने वाली घटना के विरोध में सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक लोग अपना आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। लोग दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं। शनिवार को संसद के बाहर अनु दुबे नामक युवती ने अकेले ही विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। इसी तरह हैदराबाद में शादनगर पुलिस स्टेशन के बाहर भी महिला चिकित्सक के साथ दुष्कर्म और हत्या के विरोध में जमकर प्रदर्शन हुआ। कुछ लोगों ने आरोपियों को बिना किसी सुनवाई के फांसी पर चढ़ाने या उनका एनकाउंटर करने की मांग की। हैदराबाद में बड़ी संख्या में छात्रों और महिला कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। सोशल मीडिया पर हैदराबाद सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड पर लोगों ने जमकर आक्रोश व्यक्त किया। हैशटैग रिपह्यूमैनिटी,हैशटैग हैंगरेपिस्ट समेत अन्य शीर्षकों के तहत भी यह घटना शनिवार को ट्वीटर का शीर्ष ट्रेंड बनी रही। इस दौरान लोग कानून-व्यवस्था से लेकर पुलिस की कार्यप्रणाली तक पर सवाल उठाते दिखे। 
  
100 नंबर संबंधी मंत्री के सुझाव पर बिफरीं महिलाएं:
तेलंगाना के गृहमंत्री मोहम्मूद महमूद अली के बयान पर तेलंगाना की महिला कार्यकर्ताओं ने नाराजगी जताई है। महिला कार्यकर्ताओं के मुताबिक 100 नंबर डायल करने के बावजूद पुलिस जवाब नहीं देती। महिला कार्यकर्ता संध्या रानी ने कहा,‘आपात परिस्थितयों में बहुत सी महिलाएं 100 नंबर डायल करती हैं, लेकिन कोई जवाब नहीं मिलता। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चि करनी चाहिए। इसके पहले राज्य के गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने ट्वीट किया था, ‘हम इस घटना से दुखी हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि महिला चिकित्सक ने अपनी बहन को फोन किया, 100 नंबर पर नहीं। यदि उसने 100 नंबर पर कॉल किया होता, तो उसे बचाया जा सकता था।’ मंत्री के बयान के मद्देनजर कार्यकर्ताओं ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध पर हर बार लोग किसी न किसी रूप से पीड़िताओं पर ही दोष मढ़ना शुरू कर देते हैं।

नेता और अभिनेता भी कठोर सजा देने की मांग की
भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि महिला चिकित्सक की मौत से आहत हूं, उन्हें श्रद्धांजलि। परिवार के दुख में मैं साथ हूं। बलात्कार और हत्या के दोषियों को कठोर से कठोर दंड मिले। बीजेपी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हैदराबाद में हुई वीभत्स हत्या से स्तब्ध हूं। इस युवती ने क्या झेला है, इस बारे में सोचना मेरी कल्पना से भी परे है। यह घटना संवेदनहीनता और पशुता की पराकाष्ठा है। मेरी संवेदनाएं और प्रार्थना शोक संतप्त परिवार के साथ हैं। बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा कि हैदराबाद की पीड़िता हो, तमिलनाड़ की पीड़िता हो या रांची की समूहिक दुष्कर्म पीड़िता विधि छात्रा हो।  एक समाज के रूप में हमारा पतन हो रहा है,निर्भया केस को सुलझाने में सात साल लगे। एक कड़े कानून की जरूरत है, इस पर रोक लगनी चाहिए। बॉलीवुड अभिनेत्री एशा गुप्ता ने कहा कि हम महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं, लेकिन मर्दों को नहीं सिखाते की कैसे व्यवहार करना चाहिए। हमें पुरुष सश्क्तिकरण शुरू कर देना चाहिए ताकि महिला सशक्तिकरण हो सके। जीवित रहते हुए महिलाओं के खिलाफ ऐसे जघन्य और डरावने अपराध देखना दुखद है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...