पूर्णिया : अमर शहीदों की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे बर्दाश्त : गंधर्व आनंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 दिसंबर 2019

पूर्णिया : अमर शहीदों की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे बर्दाश्त : गंधर्व आनंद

- शहर के कुताय साह स्मारक चौक पर हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी व बुजुर्ग समाज के सदस्यों ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की
fight-for-marteyers-statue-gandharv-anand
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) : भोपाल में अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को हटाए जाने व उनकी जगह मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा की प्रतिमा लगाए जाने का मामला गरमाता जा रहा है। शहर के कुताय साह स्मारक चौक पर हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी के सभी सदस्य व बुजुर्ग समाज के अध्यक्ष भोला नाथ आलोक समेत सभी सदस्यों ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार व प्रशासन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की। इस मौके पर तिरंगे झंडे को सलामी देने के बाद सभी सदस्यों ने मध्यप्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा कि देश में अमर शहीदों को विशेष दर्जा प्राप्त है लेकिन राजनीतिक रोटी सेंकने के कारण अमर शहीदों की प्रतिमा को हटाने का प्रयास किया जा रहा है। जो कि निंदनीय है। बुजुर्ग समाज के अध्यक्ष भोलानाथ आलोक ने कहा कि यह स्थिति देश के लिए शुभ नहीं है। राजनीतिक रोटी सेंकना हो तो कई मुद्दे हैं लेकिन अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। सभी सदस्यों ने कमलनाथ सरकार होश में आओ...अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद जिंदाबाद, वीर कुताय साह जिंदाबाद, सुभाषचंद्र बोस जिंदाबाद, महात्मा गांधी जिंदाबाद के नारे लगाकर चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ नहीं करने की मांग की। वहीं हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी के राष्ट्रीय सलाहकार गंधर्व आनंद ने अपने संबोधन में कहा कि जैसा कि हमें ज्ञात हुआ है कि मध्यप्रदेश के भोपाल में लोगों की यात्रा सुविधा के मद्देनजर अमर शहीद एवं महानायक चंद्रशेखर आजाद जी की मूर्ति को वहां से हटा दिया गया था। लोगों की सुविधा को देखते हुए उस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं की गई। यहां तक तो ठीक था लेकिन कुछ समय बाद वहां पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की मूर्ति स्थापित कर दी गई। जिसका अनावरण होना था। जब इस बात की भनक आजाद परिवार को लगी तो उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया। मध्यप्रदेश के उपरोक्त स्थान पर शहीद चंद्रशेखर आजाद के पोते एवं हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमित आजाद वहां उपस्थित हुए और अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री से मुलाकात एवं उन्हें ज्ञापन सौंपने के बाद इसी संदर्भ में दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष पंडित सुजीत आजाद (भतीजे अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद) ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मुलाकात कर भावी आंदोलन के संकेत दिए। श्री आनंद ने कहा कि पूरे देश में विरोध स्वर बुलंद हो रहे हैं। नई दिल्ली स्थित जंतर मंतर पर हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भी मोर्चा खोल दिया है और प्रतिमा हटाए जाने के विरोध में एक दिवसीय उपवास रखा है। अपने संबोधन में श्री आनंद ने कहा कि यदि मध्यप्रदेश सरकार अपने लिए फैसले को वापस नहीं लेती है तो बेशक आगामी दिनों हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी के सदस्य आंदोलन करेंगे। श्री आनंद ने कहा कि यह क्रोध की बात नहीं है बल्कि उपहास की बात है कि हम किस प्रगति के पथ पर चल रहे हैं। अपने धरोहर शहीदों के नाम को मिटाकर राजनीतिक पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर राजनीतिक रोटी सेंकने में लगे हैं। इस समस्या का हल शीघ्र ही ढूंढना होगा। उन्होंने कहा कि समस्या का बखान करना सरल है लेकिन उसे अमलीजामा पहनाना बहुत ही कठिन होता है इस मौके पर भोलानाथ आलोक, गंधर्व आनंद, अवधेश कुमार सिंह, शिवनारायण शर्मा व्यथित, नित्यानंद कुमार, केदारनाथ साह, श्याम लाल पासवान, रंजय कुमार सिंह, संजय कुमार झा, चंदन प्रसाद साह, सुमन कुमार, सोनू सागर, अमित कुमार, शंभु राउत, सद्दाम हुसैन समेत कई अन्य लोग मौजूद रहे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...