गौरांग दोषी ने फिल्‍म ‘हैप्पी एनिवर्सरी’ के लिए नीरज पाठक के साथ मिलाया हाथ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 दिसंबर 2019

गौरांग दोषी ने फिल्‍म ‘हैप्पी एनिवर्सरी’ के लिए नीरज पाठक के साथ मिलाया हाथ

gaurang-doshi-cinema
हाल ही में चीनी निर्देशकों स्टीफन लाम और झांग यिमौ के साथ जुड़ने के बाद अब बॉलीवुड के जानेमाने निर्माता- निर्देशक गौरांग दोषी ने अपनी उपलब्धियों की सूची में एक और अध्याय जोड़ लिया है। अपने अगले प्रोजेक्ट ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘हैप्पी एनिवर्सरी’ के लिए गौरांग, नीरज पाठक के साथ हाथ मिलाने जा रहे हैं। हल्की-फुल्की कॉमेडी और रोमांस से भरपूर यह फैमिली एंटरटेनर दोनों फिल्म निर्माताओं की एक साथ दूसरी फिल्म है। पाठक और दोषी इससे पहले बड़ी हिट ‘आंखें’ में काम कर चुके हैं। इस बारे में बताते हुए गौरांग दोषी कहते हैं “नीरज के लेखन की एक अनूठी शैली और उनका विजन बिल्कुल स्पष्ट है। उनके साथ काम करना हमेशा मेरे लिए खुशी की बात होती है क्योंकि हमारी सोच एक जैसी है इसलिए हमारा को-ऑर्डिनेशन लगभग टेलीपैथिक है। हैप्पी एनिवर्सरी आज के दौर की कहानी है और इसके लिए यह जरूरी था कि पूरी टीम फिल्म को लेकर एक जैसी सोच रखे।”

कई सालों बाद दोषी के साथ काम करने को लेकर खुशी जताते हुए नीरज पाठक कहते हैं, "गौरांग मेरे लिए भाई की तरह हैं और हम पहले भी आँखें में एक साथ काम कर चुके हैं। मैं हमेशा से बतौर निर्देशक उनके साथ काम करना चाहता था। रचनात्मक तौर पर उनका विस्तार हुआ है, वह जानते हैं कि किसी प्रोजेक्ट को कैसे अच्छी तरह फाइनेंस करना है। हैप्पी एनिवर्सरी जैसी एक अच्छी फिल्म बनाने में उन्होंने यह सुनिश्चित किया है कि हमें किसी तरह का कोई समझौता न करना पड़े, हम शूटिंग के दौरान अपना बेस्ट दें।” फिल्म पर बोलते हुए वे कहते हैं, “हैप्पी एनिवर्सरी, रिश्तों को सेलीब्रेट करती फिल्म है, जैसा कि आज के दौर में हो रहा है। समय बदल चुका है और आज हम रिश्तों को अलग तरह से देखने लगे हैं। फिल्म इसी बदलाव पर आधारित है। ” गौरांग दोषी ने आँखें, दीवार: लेट्स ब्रिंग ऑवर हीरोज होम और बवंडर जैसी कमाल की फिल्मों के साथ खुद को साबित किया है। अपने जुनून भरे काम की वजह से उन्होंने चार लिम्का बुक रिकॉर्ड जीतने में भी कामयाबी हासिल की है। अपने पिता स्वर्गीय श्री विनोद दोषी से कम उम्र में ही फिल्म निर्माण की कला गौरांग को विरासत में मिली। श्री विनोद दोषी ने दर्शकों को वीआर पिक्चर्स के बैनर तले सच्चा झूठा, नास्तिक, दिल, बेटा सहित कई हिट फिल्में दीं। अब गौरांग का लक्ष्य अपने नए अवतार गौरांग दोषी प्रोडक्शंस के तहत लीक से हटकर कटेंट को आगे बढ़ाना है और अपने पुराने रिकॉर्ड्स को तोड़ना है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...