सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 22 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 22 दिसंबर 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 22 दिसंबर

खेल संस्कृति के क्षेत्र में छिपी प्रतिभा को अवसर मिलेगा-स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी
खेलो से शारीरिक स्वस्थता और भविष्य निर्माण - आवास मंत्री श्री सिंह65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता की ओवरआल चेम्पियन महाराष्ट्र

sehore news
65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता विदिशा जिला मुख्यालय पर 17 दिसम्बर से 22 दिसम्बर तक आयोजित की गई थी। आज प्रतियोगिता के समापन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने कहा क मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने प्रदेश में खेलों एवं संस्कृति के क्षेत्र में छिपी प्रतिभा को अवसर देने के लिए विशेष प्रयास किए है। ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को खेलों में रूचि अनुसार सामग्रिया उपलब्ध कराने हेतु पहली बार 70 करोड़ की राशि स्कूल शिक्षा विभाग के द्वारा सिर्फ खेलों की सामग्री क्रय करने हेतु प्रदाय की गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के प्रत्येक प्राथमिक शाला को पांच हजार, मीडिल को दस हजार, हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूल को 25-25 हजार रूपए की राशि जारी की गई है।  स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि विदिशा जिले में पिछले एक माह में लगातार दो राष्ट्रीय प्रतियोगिता आयोजित करने का गौरव हासिल हुआ है। प्रतियोगिता के दौरान विदिशा जिला में ऐसे लगता है कि पूरा देश समाहित हो गया है। उन्होंने कहा कि आज खेलो के माध्यम से युवाजन अपना भविष्य का निर्माण कर रहे है।  प्रदेश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए जो नवाचार किए जा रहे है कि प्रशंसा चहुंओर हो रही है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य है जहां ऑनलाइन आवेदन प्राप्त कर ट्रांसर्फर स्वेच्छानुसार करने वाला राज्य बना है। उन्होंने शिक्षकों के उत्थान हेतु किए गए कार्यो को रेखांकित करते हुए कहा कि अब शिक्षकों की बारी है कि अध्ययनरत विद्यार्थियों को उच्च श्रेणी गुणवत्तायुक्त अध्यापन कार्य कराकर उनके जीवन कौशल को विकसित करें। शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए प्रदेश में उमंग मॉडल संचालित किया जा रहा है इसकी पीछे की मंशा को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि विद्यार्थी जीवन में ही उन्हें कौशल और समस्याओं का समाधान कैसे प्राप्त करें से अवगत कराना है।  मध्यप्रदेश शिक्षा के क्षेत्र में लगातार उन्नति कर रहा है। प्रदेश में बेहतर शिक्षा के तमाम प्रबंध सुनिश्चित किए गए है। इसी प्रकार प्रदेश में खेलो को बढावा देने के लिए प्राथमिक स्तर पर भी सुविधाएं मुहैया कराने की पहल की गई है।  नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्वन सिंह ने कहा कि खेल हमारे जीवन के लिए अति आवश्यक है। जहां हमें शारीरिक सौष्ठव एवं अनुशासन पालन करने की प्रेरणा देते है। प्रदेश में खेल-खेल के माध्यम से शैक्षणिक गतिविधियों का क्रियान्वयन करने के नवाचार का रेखांकन उनके द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी देश-प्रदेश के भविष्य निर्माता है और शारीरिक स्वस्थता, बौद्विक विकास के लिए जीवन में खेल आवश्यक है। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा को अति महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि बुनियादी शिक्षा जीवन भर भुलाई नही जा सकती। नींव मजबूत हो जाने पर शिक्षारूपी इमारत बुलंदियों पर रहती है।  नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने विदिशा विधायक के द्वारा की गई मांगो की पूर्ति के संबंध में कहा कि फ्लाईओवर से नई लेग निकालने हेतु डीपीआर मिलते ही स्वीकृति प्रदाय की जाएगी। उन्होंने हलाली से पाइपों के माध्यम से विदिशा तक जलापूर्ति के लिए आवश्यक राशि शीघ्र मुहैया कराए जाने से आश्वस्त कराया। इसी प्रकार नगरपालिका के लिए एक उपयंत्री एवं एक सहायक उपयंत्री की पूर्ति हेतु भी आश्वस्त कराया।  नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने कहा कि जल का अधिकार के तहत निकाय क्षेत्र के रहवासियों को प्रतिदिन निर्धारित मात्रा में जल की आपूर्ति हो इसके लिए आवश्यक राशि भी मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने मेट्रो के भविष्य में विस्तार पर सांची को नए प्रोजेक्ट में शामिल करने पर भी सहमति व्यक्त की है।  कार्यक्रम में विदिशा विधायक श्री शशांक भार्गव ने कहा कि खेल मानव जीवन के लिए अतिआवश्यक है। बच्चों में अभी से खेल की भावना जागृत होने से शारीरिक स्वच्छता को बल मिलता है उन्होंने स्कूली छात्रों के लिए खेल सामग्री मुहैया कराए जाने हेतु दिए गए सुझाव को अमल में लाने पर स्कूल शिक्षा मंत्री के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए विदिशा नगर के विकास हेतु प्रमुख तीन मांगो की ओर नगरीय विकास मंत्री का ध्यान आकर्षित कराया। कार्यक्रम को पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी ने भी सम्बोधित किया।
पुरस्कार 
अतिथियों के द्वारा 65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता के गर्ल्स एवं बॉयज आयु वर्ग के  विजेताओं को मेडल, शील्ड, प्रशंसा पत्र प्रदाय कर सम्मानित किया। गर्ल्स एवं बॉयज की पृथक-पृथक 35 किलोग्राम से लेकर 78 किलोग्राम तक की कुल 13 वेट आधार की प्रतियोगिताओं के विजेताओं को क्रमशः गोल्ड, सिल्वर एवं ब्राउज मेडल प्रदाय किए है।  65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता की ओवर आल चेम्पियन 60 पाइंट हासिल कर महाराष्ट्र रही। वही प्रतियोगिता के दौरान बेस्ट डिसिप्लिन प्रदर्शन करने वाले सिक्किम राज्य को सम्मानित किया गया है। प्रतियोगिता में बॉयज वर्ग के तहत कुल 29 पाइंट लेकर प्रथम तथा 14 पाइंट हासिल कर उत्तरप्रदेश द्वितीय स्थान पर रहा। जबकि 12 पाइंट प्राप्त करने वाली गुजरात की टीम तृतीय स्थान पर रही है। इसी प्रकार गर्ल्स आयु वर्ग की विभिन्न प्रतियोगिताओं में 31 पाइंट लेकर महाराष्ट्र प्रथम स्थान, 12 पाहंट लेकर केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वितीय स्थान पर तथा दस पाइंट हासिल करने वाला आंध्रप्रदेश राज्य तृतीय स्थान पर रहा है।  

सांस्कृतिक कार्यक्रम 
65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता के समापन अवसर पर शैक्षणिक संस्थाओं के विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी प्रस्तुतियां प्रस्तुत की गई थी जिसमें मुख्य रूप से वात्सल्य हायर सेकेण्डरी स्कूल एवं साकेत हायर सेकेण्डरी स्कूल की प्रस्तुतियों को दर्शक एवं अतिथिगण एकटक देखते रहें। 

समापन की घोषणा
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने 65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता के समापन की घोषणा की। इससे पहले उन्होंने खेल ध्वज को नीचे किया और समापन के लिए निर्धारित प्रपत्र में घोषणा की।  65वीं राष्ट्रीय शालेय ताईक्वांडो प्रतियोगिता का आयोजन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर केशवनगर टीलाखेडी के प्रागंण में किया गया था समापन समारोह में कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा, जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल के अलावा पूर्व विधायक श्रीमती पानबाई, पूर्व जनपद अध्यक्ष श्री रंधीर सिंह के अलावा श्री मनोज कपूर, श्री राकेश कटारे, श्री वीरेन्द्र पीतलिया, श्री नरेन्द्र रघुवंशी, श्री अनुज लोधी, श्री दीवान किरार तथा गणमान्य नागरिक, प्रतियोगिता में शामिल खिलाड़ी, कोच, दर्शकगण, पत्रकार मौजूद थे। कार्यक्रम की उपलब्धियों को जिला शिक्षा अधिकारी ने रेखांकित किया। 

परिचय सम्मेलन में 56 के संबंध तय हुए  शिक्षा पर विशेष जोर-स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी
विधायक ने पांच लाख की राशि देने की घोषणा की 
sehore news
संत शिरोमणि रविदास समाज संघ द्वारा जालोरी गार्डन में रविवार को अखिल भारतीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने कहा कि भारत रत्न भीमराव अम्बेड़कर के द्वारा जो मार्ग बताया गया है उसमें सबसे पहले शिक्षित होना अनिवार्य है। हम स्वंय शिक्षित हो और आने वाली पीढ़ी के लिए बेहतर शैक्षणिक माहौल दें। उन्होंने सामाजिक एकता और संगठन के लिए एकजुट होकर रहने की सीख दी।  स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि राज्य सरकार के द्वारा हर वर्ग के उत्थान हेतु योजनाएं संचालित की जा रही है जिसका लाभ लेकर स्वंय स्वरोजगारी बनकर अन्य को रोजगार देने में सक्षम हो सकते है। शिक्षा के लिए प्रदेश में किए जा रहे प्रबंधो को भी उन्होंने रेखांकित किया। मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य है जहां कर्मचारियों के स्थानांतरण हेतु ऑन लाइन आवेदन आमंत्रित किए गए थे। इस प्रक्रिया से स्कूल शिक्षा विभाग के चालीस हजार से अधिक शिक्षकगण अपने पारिवारिकजनों के नजदीक स्थानांतरित होकर पहुंचे है।  डॉ चौधरी ने कहा कि सामाजिक उत्थान के लिए जो भी सुझाव शासन को दिए जाएंगे। उन्हें लागू कराने में हर संभव प्रयास करूंगा। युवक-युवतियो के द्वारा दिए गए परिचय को उन्होंने आधुनिकता की प्रथम कड़ी बताते हुए कहा कि अब बेटा-बेटी एक बराबर है ठीक वैसे ही अब बेटी और बहू भी एक बराबर है।  विधायक श्री शशांक भार्गव ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन अब हर समाज में हो रहे है। निश्चित ही इस प्रकार के सम्मेलन जागृति के प्रतीक है। उन्होंने रविदास धर्मशाला के निर्माण हेतु पांच लाख रूपए की राशि देने की घोषणा की है। कार्यक्रम को पूर्व मंत्री श्री लालसिंह आर्य, तथा विशेष अतिथि बासौदा विधायक श्रीमती लीना जैन ने भी सम्बोधित किया।  जालोरी गार्डन में सम्पन्न हुए परिचय सम्मेलन की जानकारी देते हुए आयोजन समिति में अध्यक्ष श्री शिवराज सिंह सूर्यवंशी ने बताया कि लगभग चार हजार सामाजिक परिवारिकजनों ने सहभागिता निभाई है। परिचय सम्मेलन में 56 लोगो के द्वारा संबंध तय करने हेतु सहमति व्यक्त की गई है। कार्यक्रम को संत शिरोमणि रविदास समाज संघ के जिलाध्यक्ष श्री छोटे लाल संभरवाल ने भी सम्बोधित किया। वही अतिथियों को संघ की ओर से स्मृति चिन्ह भी भेंट किए। इस अवसर पर सामाजिक संघ के पदाधिकारी एवं युवक-युवतियों के अभिभावक मौजूद थे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...