स्वीडन और भारत आतंकवाद से निपटने में सहयोग करेंगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 दिसंबर 2019

स्वीडन और भारत आतंकवाद से निपटने में सहयोग करेंगे

sweden-and-india-will-cooperate-in-combating-terrorism
नयी दिल्ली 02 दिसम्बर, भारत और स्वीडन ने आतंकवाद सहित भविष्य की विभिन्न चुनाैतियों से मिलकर निपटने का संकल्प व्यक्त किया है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की यात्रा पर आये स्वीडन के सम्राट कार्ल गुस्ताफ 16 वें और साम्राज्ञी सिलविया से आज यहां शिष्टमंडल स्तर की वार्ता की। दोनों नेताओं ने परस्पर महत्व के द्विपक्षीय , क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर परस्पर सहयोग बढाने का संकल्प व्यक्त किया।विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस मुलाकात के बाद टि्वट में कहा कि भारत और स्वीडन ने भविष्य की विभिन्न चुनौतियों से निपटने के लिए सहयोग पर जोर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी और सम्राट गुस्ताफ ने नवाचार नीति के बारे में भारत-स्वीडन उच्च स्तरीय नीति संवाद की भी अध्यक्षता की।सम्राट गुस्ताफ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के निमंत्रण पर छह दिन की यात्रा पर सोमवार सुबह यहां पहुंचे। वह तीसरी बार भारत यात्रा पर आये हैं।इससे पहले दिन में विदेश मंत्री डा एस जयशंकर ने भी श्री गुस्ताफ से मुलाकात की। डा जयशंकर ने मुलाकात के दौरान भारत-स्वीडन के बीच विभिन्न क्षेत्रों में बढते सहयोग को और मजबूत बनाने तथा इनका विस्तार करने के प्रति भारत की वचनबद्धता दोहरायी। उन्होंने अपने स्वीडन में समकक्ष एन लिंडे के साथ शाम को विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से बातचीत की। बाद में डा जयशंकर ने टि्वट कर कहा कि उन दोनों ने आतंकवाद विशेष रूप से सीमा पार आतंकवाद की चुनौती पर चर्चा की।उन्होंने जोर देकर कहा कि जीवन का अधिकार सबसे बुनियादी मानवाधिकार है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...