पूर्वोत्तर में उग्रवाद का पांच वर्षों में कर देंगे सफाया: शाह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 23 दिसंबर 2019

पूर्वोत्तर में उग्रवाद का पांच वर्षों में कर देंगे सफाया: शाह

terorisam-will-finish-in-north-east-amit-shah
नयी दिल्ली, 23 दिसम्बर, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज कहा कि मोदी सरकार पूर्वोत्तर में आतंकवाद, वामपंथी उग्रवाद और विद्रोही गतिविधियों के अगले पांच वर्षों में पूरी तरह से सफाये के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए निरंतर कदम उठाये जा रहे हैं। श्री शाह ने यहां गुप्तचर ब्यूरो के 32 वें शताब्दी एंडॉवमेंट में अपने संबाेधन में कहा कि ब्यूरो राष्ट्रीय सुरक्षा की चुनौतियों से बखूबी निपट रहा है और उसने पूर्वोत्तर में सभी तरह की विद्रोही गतिविधियों में निपटने में प्रभावी भूमिका निभायी है। उसने पांच वर्षों में अनेक आतंकी मॉड्यूल्स का खुलासा किया है। उन्होंने कहा , “ पूर्वोत्तर में आतंकवाद, वाम पंथी उग्रवाद और विद्रोह अगले पांच वर्षों में पूरी तरह समाप्त हो जाए इसके लिए मोदी सरकार निरंतर प्रयासरत है।” गुप्तचर ब्यूरो को सुरक्षा तंत्र का मस्तिष्‍क बताते हुए गृहमंत्री ने कहा कि उसने हमेशा आतंकवाद और नक्सलवाद के प्रति ‘जीरो टोलरेंस’ सुनिश्चित करने में मदद की। इस संदर्भ में उन्‍होंने मानव और हथियारों की तस्‍करी, सीमा पार से घुसपैठ, नकली भारतीय मुद्रा नोट , हवाला लेन-देन, नशीली दवाओं की तस्‍करी के साथ-साथ साइबर खतरों की चुनौतियों की कडि़यों को जोड़ने का उदाहरण दिया। इन चुनौतियों से निपटने के लिए एक विशेष पहल पर बल देते हुए उन्‍होंने साइबर सुरक्षा जैसे विशेष क्षेत्रों में सहयोगी-पेशेवर विशेषज्ञों की जरूरत बतायी। राष्‍ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने विशेष रूप से पचास खरब डॉलर की अर्थव्‍यवस्‍था बनने के राष्‍ट्रीय उद्देश्‍य की पृष्‍ठभूमि में देश की थल तथा समु्द्रीय सीमाओं को सुरक्षित करने पर विशेष जोर दिया। इन चुनौतियों के समाधान की दिशा में काम करने और इनसे निपटने के नए-नए तरीकों की तलाश करने के लिए प्रोत्‍साहित करते हुए उन्‍होंने ब्यूरो के कर्मचारियों को अपने दृष्टिकोण में प्रभावशाली बदलाव लाने को कहा। गृह मंत्री ने कहा , “ वह गुप्तचर ब्यूरो कर्मियों को नमन करते हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बिना थके, चुप चाप काम करते हैं और देश को मज़बूत बनाने में मदद करते हैं।” श्री शाह ने सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों के बीच तालमेल के महत्‍व पर जोर देते हुए राष्‍ट्रीय सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने के लिए समयबद्ध रणनीति के साथ त्वरित खुफिया विश्‍लेषण के लिए कर्मचारियों को प्रेरित किया।  

कोई टिप्पणी नहीं: