मधुबनी : सड़क सुरक्षा समिति के द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 12 जनवरी 2020

मधुबनी : सड़क सुरक्षा समिति के द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन

blood-donation-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) 31वां सड़क सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम के तहत आज दूसरे दिन दिनांक 12 जनवरी 2020 को जिला सड़क सुरक्षा समिति के द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का उद्घाटन अनुमंडल पदाधिकारी एवं जिला परिवहन पदाधिकारी के द्वारा किया गया। जिला परिवहन पदाधिकारी ने कहा कि बिहार में सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान को लेकर मधुबनी जिला प्रशासन के द्वारा किये गए प्रयासों के वजह से राज्य स्तर पर जिला को नामित किया गया। जिला सड़क सुरक्षा समिति का प्रयास है कि लोगों के भीतर सड़क सुरक्षा के प्रति स्वतः जागरूकता आये। इस ध्येय से पूरे सप्ताह भर अनेको तरह के जागरूकता कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। इसी क्रम में आज सदर अस्पताल के ब्लड बैंक में 32 रक्तदानियों ने रक्तदान किया। कल दिनांक 13 जनवरी को निजी बस स्टैंड में नेत्र जांच शिविर एवं स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन हो रहा है जिसमें सभी वाहन चालक को निःशुल्क चश्मा एवं दवा भी दिया जाएगा। दिनांक 17 जनवरी को वाटसन स्कूल में फ्रेंडशिप/फैंसी क्रिकेट मैच का भी आयोजन है।  सदर अनुमंडल पदाधिकारी ने कहा कि विभिन्न तरह के दुर्घटना एवं बीमारी में खून की आवश्यकता होती है। इसलिए बेहद जरूरी है कि नियमित अंतराल पर स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन हो।  रक्तदान शिविर में मुकेश कुमार, प्रशांत कुमार, अनिल कुमार, रतीश कुमार, प्रभाकर ठाकुर, रोहित कुमार, चंद्रभूषण सिंह, अभिजीत कुमार, प्रवीण कुमार तिवारी, अविनाश कुमार चौधरी, अभिषेक कुमार, रवि शंकर ठाकुर, राघव कुमार गिरी, अमरेंद्र ठाकुर, चंद्रमा कुमार, संजीव कुमार, संजीव किशोर मिश्रा, देव राज, कृष्णा कुमार आदि ने रक्तदान किया। सहयोगी के रूप में कैलाश भारद्वाज, मुकेश पंजियार, विक्रम कुमार, पुष्पक कुमार सिंह ने सराहनीय योगदान दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: