बिहार : विरोध के बीच कार्डिनल ऑस्वाल्ड ग्रेसियस को लिखे खत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 जनवरी 2020

बिहार : विरोध के बीच कार्डिनल ऑस्वाल्ड ग्रेसियस को लिखे खत

कार्डिनल ऑस्वाल्ड  ग्रेसियस,मुम्बई।

विषय:-दो टी.वी.कलाकार,भारती सिंह,फराह खान द्वारा एक कामेडी सिरियल में सम्मानित शब्द हल्लेलूया (आल्लेलुया) का गंदा तथा अपमानजनक अर्थ पेश कर मज़ाक उड़ाने के संदर्भ में सार्वजनिक तौर पर  टी.वी. पर आकर संयुक्त रूप से माफी मांगने तथा इनके टी.वी.सिरियल को बन्द कराने के संदर्भ में।

मान्यवर,
letter-for-excuse
कुछ दिन पहले एक कामेडी सिरियल में भारती सिंह द्वारा सम्मानित शब्द हाल्लेलुया(आल्लेलुया) का गन्दा एवं अपमानजनक अर्थ पेश कर, मजाक उड़ाकर समस्त ईसाई समुदाय को चोट पहुंचाया गया है तथा फरहा खान जिन्होंने इस सिरियल का ऐन्करिंग कर साथ दिया है,गुनाहगार हैं।देश के ईसाई समुदाय की यह मांग है कि इन गुनाहगारों को निष्पक्ष तौर पर कानूनी सजा तो मिलनी चाहिये।परंतु सार्वजनिक तौर पर जिस तरह उन्होंने टी.वी.के माध्यम से मजाक उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ा है,उसी प्रकार टी.वी.पर आकर दोनों महिला सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगे तथा फरहा खान के टी.वी. कामेडी सिरियल के संचालन पर स्थायी रूप से रोक लगायी जाए।क्योंकि ऐसी मानसिकता के लोग भविष्य में किसी भी धर्म के धार्मिक भावना के साथ खिलवाड़ कर सकते हैं।

प्राप्त जाकारी के अनुसार फरहा खान तथा रवीना टंडन आपसे मुलाकात कर माफी मांगने गई थी तथा आपको शायद लिखित तौर पर माफीनामा पेश किया है।धर्मगुरु होने के नाते आप उन्हें माफ भी कर दें।परंतु क्या सिर्फ आपसे माफी मांगना सारे ईसाई समुदाय से माफी मांगना उचित माना जाएगा ? नहीं।यह समस्त ईसाई समुदाय से अन्याय होगा।हमारा धर्म माफ करने की बात कहता है।परंतु आज के दौर में अगर सिर्फ आपसे माफी माँग लेने से ही काम चल जाएगा,तो भविष में अन्य ज्यादा लोगों द्वारा इस तरह तथा इससे भी बड़ा ईसाई धर्म का मज़ाक उड़ाना प्रारम्भ हो जाएगा तथा सिर्फ धार्मिक गुरु से माफी माँगकर समस्त ईसाई समुदाय को बेवकुफ बनाते रहेंगे।हमारे ईसाई समुदाय का एक बड़ा वर्ग इससे संतुष्ट नहीं है।हमारे प्रभु येसु निर्दोष होते हुए भी सूली पर चढ़ाए  गए थे।तो कम से कम आज के आधुनिक युग में दोषी होने के नाते टी.वी. पर सार्वजनिक माफी तो इन्हें मागनी ही चाहिये।सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात यह है कि सुनियोजित शब्दों के जरिये मजाक उड़ा ईसाईयों को चोट पहुँचाने वाली असली गुनाह्गार भारती सिंह तो गूल खिलाकर विदेश में हैं।उसकी तरफ से कोई दूसरा  माफी मांगे,यह भारती सिंह को पर्दे के पीछे रखने वाली मंशा दिखती है।जो उचित नहीं है।अत:उसे भी स्वयं सार्वजनिक तौर पर टी.वी. के जरिये माफी मांगने की आवश्यकता  है।अगर ऐसा नहीं होने दिया जाता है,तो ईसाई समुदाय को नजरन्दाज कर ईसाई समुदाय का माखौल उड़ाने वाली बात मानी जाएगी।ज्ञात हो कि धर्म के नाम पर अयाजक ईसाई ही ज्यादातर बदसलुकी के शिकार होते हैं।

अत:आपसे आग्रह है कि ईसाई समुदाय की आवाज़ एवं माँग इन गुनाहगारों तथा सम्बन्धित माध्यम तक जल्द से जल्द अवश्य पहुंचाए कि ईसाई समुदाय चाह्ती है कि सार्वजनिक तौर पर टी.वी.के जरिये परमेश्वर (प्रभु येसु) तथा समस्त ईसाई समुदाय,जिनका मन बूरी तरह आहात हुआ है,से माफी मांगें।कानून अपना कार्य करे।
धन्यवाद।


एस.के.लॉरेंस
महा सचिव
अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ,पटना।
मो.7992485084,9430284400.

कोई टिप्पणी नहीं: