‘संजॉय घोष मीडिया अवार्ड 2019’ का परिणाम घोषित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 14 जनवरी 2020

‘संजॉय घोष मीडिया अवार्ड 2019’ का परिणाम घोषित

sanjay-ghosh-media-award-2019
नई दिल्ली (संवाददाता) दिल्ली स्थित एनजीओ ‘चरखा विकास संचार नेटवर्क’ ने 'संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2019’ के लिए चयनित प्रतिभागियों के नामों की घोषणा कर दी है। इस संबंध में संस्था के मुख्य कार्यकारी मारियो नोरोन्हा ने बताया कि सभी प्रतिभागी देश के अलग अलग राज्यों से हैं। चयनित प्रतिभागियों में केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख़ से थेलिएस नोरबू, केंद्रशासित राज्य जम्मू और कश्मीर के सीमावर्ती जिला पुंछ से यूसुफ जमील, उत्तराखंड से नरेंद्र सिंह बिष्ट, राजस्थान से अमित बैजनाथ गर्ग और मेरठ की सुश्री शालू अग्रवाल शामिल हैं। प्रतिभागियों का चयन तीन सदस्या जूरी मेंबर्स द्वारा किया गया है। इसमें वरिष्ठ पत्रकार श्रीमति उषा राय, सुनीता भदौरिया और सुश्री प्रीति मेहरा शामिल थीं।  चयनित प्रतिभागियों को पचास पचास हज़ार रूपए और प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जायेंगे। चुने गए प्रतिभागियों को पांच महीने में सामाजिक सरोकार से जुड़े अपने विषय से संबंधित पांच आलेख लिखने होंगे। प्रतिभागियों को देश के दूर दराज़ के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों विशेषकर महिलाओं से जुड़ी समस्याओं को प्रमुखता से उजागर करनी होगी वहीं उनकी सफलताओं और आत्मनिर्भरता से जुड़ी कहानियों को भी कलमबंद करनी होगी। याद रहे कि इन अवॉर्ड्स के तहत उन पत्रकारों/लेखकों को मंच प्रदान किया जाएगा, जो ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं में छिपी ऐसी प्रतिभाओं को उजागर करने का हौसला रखते हैं, जो मीडिया की नजरों से अब तक दूर रही है। अवॉर्ड का उद्देश्य क्षेत्रीय भाषा के प्रकाशनों, छोटे शहरों के पत्रकारों और लेखन में रुचि रखने वालों को प्रोत्साहित करना है।  याद रहे कि यह अवार्ड चरखा के संस्थापक संजॉय घोष के जज्बे से प्रेरित है, जिसमें उन्होंने मीडिया के रचनात्मक उपयोग के माध्यम से ग्रामीण हाशिए के समुदायों के सामाजिक और आर्थिक समावेश की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। अवार्ड के माध्यम से लेखकों को ग्रामीण विशेषकर वंचित समुदायों की महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने और विकास की स्थिति को प्रतिबिंबित करने का अवसर प्रदान किया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...