पांच अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य कुछ ज्यादा महत्वाकांक्षी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 फ़रवरी 2020

पांच अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य कुछ ज्यादा महत्वाकांक्षी

5-trillion-economy-complicated
कोलकाता, 24 फरवरी,  नीति आयोग की एक अधिकारी ने सोमवार को कहा कि 2024-25 तक भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य कुछ अधिक ही महत्वाकांक्षी लगता है। उन्होंने कहा कि यह लक्ष्य तय करने का मकसद देश के आर्थिक प्रदर्शन के मानदंडों को ऊंचा करना है। नीति आयोग में वित्तीय समावेश पर गठित समिति की चेयरपर्सन बिंदु डालमिया ने कहा, ‘‘फिलहाल 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य एक मंशा है जो कुछ ज्यादा महत्वाकांक्षी लगता है।’’  उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि भारत फिलहाल 5-6 प्रतिशत जीडीपी वृद्धि दर के दायरे में ‘फंसा’ है। डालमिया ने कहा कि 2024 तक 5,000 अरब डॉलर या 2030 तक 10 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने के लिये देश को अगले 10 साल तक बाजार मूल्य पर सालाना 11.5 प्रतिशत की दर से तथा वास्तविक आधार पर 7.5 प्रतिशत की दर से वृद्धि हासिल करनी होगी। फिलहाल अर्थव्यवस्था का आकार 2900 अरब डॉलर है। उन्होंने कहा, ‘‘मौजूदा स्तर से वास्तविक आधार पर करीब 8 प्रतिशत की वृद्धि दर असंभव नहीं है। लेकिन इसे हासिल करना आसान भी नहीं है।’’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...