बिहार : पटना में गिरिराज सिंह का भावनात्मक भाषण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

बिहार : पटना में गिरिराज सिंह का भावनात्मक भाषण

giriraj-singh-speech
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) बीजेपी एनआरआई सेल की और से पटना में एनआरबी कन्वेंशन कार्यक्रम में बेगूसराय सांसद माननीय श्री गिरिराज सिंह शामिल हुए।सांसद महोदय काफी संवेदनात्मक लहजे में कहा कि जब बिहार के रहने वाले लोगों को बाहर में देखता हूं कि वह अपनी भाषा छोड़कर हिन्दी और अंग्रेजी में बात करते हैं तो बड़ा दुख होता है।गिरिराज सिंह ने कहा कि बिहार के लोग देश हो या विदेश हो हर जगह हर क्षेत्र में अपना जलवा दिखा रहे हैं।मेहनत से अच्छे मुकाम पर पहुंचे हुए हैं।

इस बात को मॉरिशस से सीख लेने की आवश्यकता है।
गिरिराज ने कहा कि जब कभी भी बिहार से बाहर दौड़े पर होता हूँ और  बिहार से बाहर रहनेवाले बिहार के लोगों को देखता हूँ तो काफी दुख होता है,दुख इस बात से नहीं होता है कि आज बिहार के लोग बाहर कामाई करने आते हैं बल्कि दुख इस बात से होता है कि बिहार के मिथिला,भोजपुर,अंगिका क्षेत्र के साथ साथ और भी कई अलग-अलग जिलों के लोग अपनी भाषा नहीं बोलते हैं।अगर आपकी भाषा रहेगी तो आपकी पहचान बनी रहेगी। इसका ज्वलंत उदाहरण आज भी मॉरीशस हैं।मॉरीशस से लोगों को सीखने की जरूरत हैं।अगर आप बिहार के बाहर जाते हैं तो बिहार की संस्कृति, पहनावा और भाषा को कायम रखें क्योंकि यही हमारी पहचान है।

हमारा बिहार बदलता बिहार
गिरिराज सिंह ने कहा कि बिहार के कई जिलों में मेडिकल कॉलेज खोला गया है।अब पहले वाला बिहार नहीं रह गया है,बिहार बदल रहा है।ऐसे में मैं आपलोग भी इस बदलेते बिहार में शामिल होने की गुजारिश करता हूँ कि बिहार के विकास के लिए आप भी कुछ करें। इस दौरान गिरिराज सिंग ने भारत माता की जयकार लगाते हुए आम लोगों से भी जयकार के नारे  लगवाए।इस कार्यक्रम में और भी कई बीजेपी के वरिष्ठ नेता शामिल थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...