हाकी : भारत ने विश्व चैंपियन बेल्जियम को दी शिकस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 फ़रवरी 2020

हाकी : भारत ने विश्व चैंपियन बेल्जियम को दी शिकस्त

india-beat-belgium
भुवनेश्वर, 08 फरवरी, मेजबान भारत ने सनसनीखेज प्रदर्शन करते हुए विश्व चैंपियन और विश्व की नंबर एक टीम बेल्जियम को एफआईएच प्रो लीग हॉकी के मुकाबले में शनिवार को 2-1 से हराकर टूर्नामेंट में अपनी दूसरी जीत दर्ज की। यहां कलिंगा स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में भारत ने विश्व और यूरोपियन चैंपियन टीम को लगातार दबाव में रख शानदार जीत दर्ज की। भारत की तरफ से मनदीप सिंह ने दूसरे मिनट में और रमनदीप सिंह ने 46वें मिनट में गोल किये जबकि बेल्जियम का एकमात्र गोल गॉथियर बोकार्ड ने 33वें मिनट में किया। टोक्यो ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई कर चुके भारत की तीन मैचों में यह दूसरी जीत है और वह आठ अंकों के साथ तालिका में दूसरे स्थान पर आ गया है। विश्व की पांचवें नंबर की टीम भारत इस टूर्नामेंट में पहली बार खेल रहा है और उसने टूर्नामेंट में शानदार शुरुआत करते हुए विश्व की तीसरे नंबर की टीम हॉलैंड को इसी स्टेडियम में पहले मुकाबले में 5-2 से हराया था।दूसरे मैच में निर्धारित समय में स्कोर 3-3 से बराबर रहा था लेकिन भारत ने पेनल्टी शूट आउट में 3-1 से जीत हासिल की थी। टूर्नामेंट में निर्धारित समय पर मैच ड्रा रहने पर एक अंक मिलता है और शूट आउट में जीतने पर एक बोनस अंक भी मिलता है जिससे टीम के दो अंक हो जाते हैं। भारत को हॉलैंड के खिलाफ दूसरे मैच से दो अंक मिले थे। इसी कलिंगा स्टेडियम में दो साल पहले 2018 में विश्व चैंपियन बनने वाले बेल्जियम की पांच मैचों में यह पहली हार है लेकिन वह 11 अंकों के साथ तालिका में शीर्ष स्थान पर बना हुआ है। भारतीय टीम अब रविवार को बेल्जियम से दूसरा मैच खेलेगी। भारतीय गोलकीपर कृष्ण पाठक को प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। पाठक ने मैच के बाद कहा, “हमने अच्छी शुरुआत की और कड़ी मेहनत से मैच में अपनी लय को बनाये रखा। हमने अच्छा डिफेन्स दिखया खासतौर पर पेनल्टी कार्नर पर।” बेल्जियम के पास आखिरी सेकंडों में बराबरी का मौका आया था जब उसे पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन भारत ने इसे बचा लिया। पाठक ने पहले और तीसरे क्वार्टर में गोलकीपिंग की जिम्मेदारी संभाली जबकि पीआर श्रीजेश ने दूसरे और चौथे क्वार्टर में गोलकीपिंग संभाली। श्रीजेश ने आखिर सेकंडों में बेल्जियम के पेनल्टी कार्नर को बचाया। विश्व चैंपियन बेल्जियम ने मैच में हालांकि दबदबा बनाया और भारतीय गोल पर 24 शॉट लिए जबकि भारत ने बेल्जियम के गोल पर छह शॉट लिए लेकिन भारत ने अपने मौकों को भुनाया। भारत ने दूसरे ही मिनट में बढ़त बना ली। भारत के काउंटर अटैक पर दिलप्रीत ने शॉट लिया जिसे मनदीप ने डिफलेक्ट कर गोल में पहुंचा दिया। बोकार्ड ने 33 वें मिनट में पेनल्टी कार्नर पर गोल कर बेल्जियम को बराबरी दिला दी लेकिन 46वें मिनट में मिले पेनल्टी कार्नर पर भारत के शॉट को एक डिफेंडर ने रोका और गेंद रमनदीप के पास आयी जिस पर उन्होंने गोल करने में कोई गलती नहीं की। भारत ने इस एक गोल की बढ़त को अंत तक कायम रखते हुए शानदार जीत हासिल कर ली। 

कोई टिप्पणी नहीं: