जयनगर से जनकपुर रेलखंड के बीच हनुमान मंदिर स्थानांतरित करने का निर्णय - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

जयनगर से जनकपुर रेलखंड के बीच हनुमान मंदिर स्थानांतरित करने का निर्णय

जयनगर से जनकपुर को खुलने वाली अंतर्राष्ट्रीय रेल लाइन के बीच पढ़ने वाली हनुमान मंदिर को स्थानांतरण कराने को लेकर जय नगर प्रशासन व ग्रामीणों के बीच बनी समन्वय
jaynagar-janakpur-railway
जयनगर/मधुबनी  (अनुराग कुमार) पिछले वर्ष 2019 में  जयनगर   नेपाल जनकपुर भाया बरदिबास अंतर्राष्ट्रीय रेलखंड का निर्माण कार्य इरकॉन रेलवे के द्वारा हो चुकी थी 2019 में आई बाढ़ आपदा को लेकर नेपाल क्षेत्र से गुजरने वाली रेल पटरी वह बांध व नीचे का मिट्टी दर्जनों स्थानों से बाढ़ के पानी में बह गई थी तत्पश्चात क्षतिग्रस्त स्थानों को दोबारा से इरकॉन रेलवे के द्वारा मरम्मत करवाया गया उसी क्रम में नेपाल रेलवे स्टेशन के समीप यूनियन  टोल स्थित  वर्षों से हनुमान मंदिर का होने से कार्य में विभिनता आ रही थी उस मंदिर को स्थानांतरित करने को लेकर पूर्व जिला पदाधिकारी शीर्षक कपिल अशोक के आदेशानुसार जयनगर अनुमंडला पदाधिकारी शंकर सरन ओमी  सीओ संतोष कुमार थाना प्रभारी  एसएन सत्यनारायण  सारंग रेल के अधिकारियों पदाधिकारियों ने स्थानीय ग्राम वासियों से समन्वय बनाकर मंदिर स्थानांतरित करने का प्रयास किया था। परंतु  जयनगर ग्राम वासियों के सहयोग व समन्वय को लेकर ग्रामीणों ने दूसरे स्थान पर महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर भूमि पूजन कर बहुत जल्द पुराने मंदिर को नया स्थान पर प्राण प्रतिष्ठा करने को लेकर तैयार हो गए हैं वहीं कार्य नए स्थान पर शुरू कर दिया गया है ऐसा जयनगर अनुमंडल पदाधिकारी शंकर शरण ओमी ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा इस मौके पर जयनगर थाना प्रभारी ,अंचलाधिकारी समेत रेलवे के अधिकारी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं: