बेगूसराय : पुलिस सप्ताह समारोह रक्तदान शिविर के साथ समापन की ओर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

बेगूसराय : पुलिस सप्ताह समारोह रक्तदान शिविर के साथ समापन की ओर

police-week-blood-donation
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) जिले में विगत 22 फरवरी से चल रहा था बिहार पुलिस सप्ताह जिसका का आज रक्तदान कार्यक्रम के साथ समापन हुआ।बेगूसराय के पुलिस लाइन में आयोजित शिविर में पुलिस कप्तान अवकाश कुमार सहित सैकड़ो पुलिसकर्मियों ने रक्तदान किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ पुलिस कप्तान अवकाश कुमार,मुख्यालय डीएसपी कुंदन कुमार सिंह,सदर डीएसपी राजन कुमार आदि ने रक्तदान कर पुलिस सप्ताह समारोहों का समापन किया। इसके साथ ही जिले भर के पुलिस पदाधिकारियों महिला एवं पुरुष सिपाहियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते हुए रक्तदान किया।रक्तदान को लेकर पुलिस लाइन में उत्सवी माहौल रहा तथा बड़ी संख्या में महिला सिपाहियों ने भी रक्तदान कर यह संदेश दिया कि हम सिर्फ लोगों की अपनी कार्यशैली से सुरक्षा ही नहीं कर सकते हैं बल्कि अपने खून से भी उनके जीवन की रक्षा कर सकते हैं।रक्तदान में सबसे ज्यादा महिला सिपाही ने बड़े ही उत्साह पूर्वक हिस्सा लिया। पुलिस कप्तान अवकाश कुमार ने कहा कि पुलिस की वर्दी पहनते ही हमारा जीवन जनता की सेवा में समर्पित हो चुका होता है। हम जनता के हर सुख.दुख में साथ रहते हैं,और फिर रक्तदान भी जनसेवा की एक बहुत बड़ी महान शक्ति है। हमारे खून से किसी की जिंदगी बचेगी इससे बड़ा कोई सुख संसार में नहीं है। इन लोगों ने समय.समय पर रक्तदान करने का संकल्प भी लिया।वही पुलिस कप्तान अवकाश कुमार ने यह भी बताया कि पुलिस सप्ताह के तहत इस महादान कार्यक्रम का आयोजन कियाा गया है।आगे भी साल में दो बार पुलिस द्वारा रक्तदान शिविर आयोजित किया जाएगा।लोगों में यह मिथ्या भ्रम रहता है कि खून देने से कमजोरी आ जाती है। इस भ्रम को दूर करनेे की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि खून देनेेे से दो फायदे ही मिलते हैं।एक तो जरूरतमंद को तुरंत खून मिल जाता है और दूसरा कि रक्तदान वाले कार्ड से देश में कहींं भी खून लेकर अपने परिचितों और परिजनोंं की आवश्यकता पड़ने पर उनकी भी जान बचाई जा सकती है। खास करके उन्होंने यह भी कहा कि सिपाही हमेशा शहादत देते आए हैं लेकिन आज सिपाहियों के द्वारा जो रक्त दान दिया गया दूसरे को जिंदगी बचा सकते हैं।इस दान रुपी कार्य से बड़ा कोई कार्य नहीं हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...