टाटा स्टील के कर्मचारी ने की आत्महत्या, परिजनों ने मुआवजे के बाद अंतिम संस्कार करने की बात कही - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 27 फ़रवरी 2020

टाटा स्टील के कर्मचारी ने की आत्महत्या, परिजनों ने मुआवजे के बाद अंतिम संस्कार करने की बात कही

जमशेदपुर में के टाटा स्टील परिसर में एक कर्मचारी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. वहीं परिजनों का कहना है कि टाटा स्टील जब तक बकाये का भुगतान और मुआवजा नहीं देती तब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा.
tata-steel-worker-comit-sucide
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) टाटा स्टील परिसर में मंगलवार की सुबह बागबेड़ा निवासी उमेश पांडेय ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. आत्महत्या के मामले में नया मोड़ सामने आया है. मृतक के परिजनों का कहना है कि टाटा स्टील जब तक बकाया भुगतान और मुआवजा नहीं देती तब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा. बुधवार को मृतक के परिजनों ने बिष्टुपुर थाना में टाटा स्टील कंपनी में कार्यरत अधिकारियों के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई थी. टाटा स्टील में कार्यरत अकाउंटेंट उमेश पर 6 महीने से 9 लाख रुपए के कंटेनर खरीदने का दबाव बना रहा था. मृतक के परिजनों ने बताया तकरीबन पच्चीस लाख तक की राशि टाटा स्टील के अधिकारियों के पास बकाया है. जिस बिल का अब तक भुगतान नहीं किया गया है. परिजनों का कहना है कि कंपनी के अधिकारियों ने उमेश पांडे को आत्महत्या के लिए प्रेरित किया है. उमेश तकरीबन 20 वर्षों से टाटा स्टील में ठेकेदार के रूप में कार्य कर रहा था. 6 महीना पहले से टाटा स्टील से बकाया राशि नहीं दी गई थी, जिसके कारण उमेश ने मंगलवार की सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...