बिहार : कुर्जी चर्च परिसर में सीएए,एनसीआर और एनपीआर का विरोध में हस्ताक्षर अभियान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 मार्च 2020

बिहार : कुर्जी चर्च परिसर में सीएए,एनसीआर और एनपीआर का विरोध में हस्ताक्षर अभियान

कुर्जी चर्च परिसर में सीएए,एनसीआर और एनपीआर का विरोध में हस्ताक्षर अभियान चल ही रहा था कि यूनाइटेड क्रिश्चियन फोरम के संयोजक फादर अमल राज ने संदेश प्रेषित किया कि शांतिप्रिय ईसाई समुदाय के द्वारा कैडल लाइट विरोध रैली स्थगित कर दी गयी..
caa-nrc-npa-protest-kurji
पटना,13 मार्च। राजधानी पटना में बुद्धा स्मृति पार्क के पास ईसाई समुदाय मोमबत्ती जलाकर सीएए, एनसीआर और एनपीआर का विरोध 14 मार्च को करने वाले थे। यूनाइटेड क्रिश्चियन फोरम के संयोजक फादर अमल राज के प्रेषित संदेश के अनुसार शांतिप्रिय ईसाई समुदाय के कैडल लाइट विरोध रैली स्थगित कर दी गयी है। भारतीय संविधान के बुनियादी ढांचे को तोड़ने-मड़ोरने की कोशिश दिनों-दिन गहरी होती जा रही है।जो कार्य आजादी के 73 सालों में कभी किसी व्यक्ति से नहीं पूछा गया कि कैसे इस देश का नागरिक है; उसका प्रमाणिक दस्तावेज दिखाएं।सरकार द्वारा पारित संशोधित सीएए,एनआरसी और एनआरपी देश को खतरे में दिया है।इन तीनों का एक दूसरे से संबंध में है।अब ईसाई कलीसिया भी एनआरसी और एनपीआर का विरोध करने 14 मार्च को सड़क पर उतरने का मन बना लिया है। ईसाई समुदाय राजधानी पटना में बुद्धा स्मृति पार्क के पास मोमबत्ती जलाकर विरोध करें और मोमबत्ती की रोशनी में देश में शांति,भाई व बहनचारा एवं बंधुत्व की गंगा बहाने लगे। यह इस लिए हुआ कि बिहार सरकाप ने कोरोना-19 के संभावित कोहराम के मद्देनजर स्कूल, कॉलेज, और कोचिंग संस्थानों को 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है। सरकार के आदेश के मुताबिक, सरकारी स्कूल बंद रहने तक छात्रों को मिडडे मील के लिए बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किए जाएंगे। वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हुई बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को यह फैसला लिया। राज्य के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि बिहार में सिनेमा हॉल, पार्क और चिड़ियाघर भी 31 मार्च तक बंद रहेंगे। हालांकि सीबीएसई और आईसीएसई की परीक्षा को नहीं टाला गया है और यह अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के हिसाब से ही होंगे। इसके आलोक में विक्टर फ्रांसिस ने भी अपनी फ़िल्म " गोरिया तोहरे खातिर " जो आने वाले 27 मार्च 2020 को बिहार में रिलीज़ होने वाली थी। लेकिन कोरोना वायरस की वजह से सरकार ने  31 मार्च 2020 तक के लिए  बिहार के सभी सिनेमाघरों को बंद कर दिया है सरकार द्वारा यह बहुत अच्छे कदम उठाए जो हम सब के हित में है ।मैं सरकार द्वारा  लिये गये इस निर्णय का स्वागत करता हूँ। अब हमारी फ़िल्म अपैल माह में सिनेमाघरों से नये अनुबंधन के आधार पर रिलीज़ होगी । हम सब मिलकर इस परिस्थिति से निपटने की कोशिश करें।अपना और अपने परिवार वालों का ख्याल रखें।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...