बंगाल से काम करने जमशेदपुर आये थे 40 कारीगर, मीडिया के माध्यम से सहायता की लगाई गुहार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

बंगाल से काम करने जमशेदपुर आये थे 40 कारीगर, मीडिया के माध्यम से सहायता की लगाई गुहार

जमशेदपुर के जुगसलाई क्षेत्र में ज्वेलर्स शॉप में काम करने वाले 40 कारीगर लॉकडाउन में फंसे हैं जो इन दिनों परेशानी का सामना कर रहे हैं. ये सभी कारीगर ज्वेलर्स शॉप से ऑर्डर मिलने पर काम करते हैं. वर्तमान में काम बंद होने के कारण इनके सामने खाने की समस्या बन गयी है. इन्होंने मीडिया के माध्यम से सहायता की गुहार लगाई है. 
bangal-labour-appeal-to-media
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  कोरोना को लेकर किये गए लॉकडाउन में जमशेदपुर के जुगसलाई क्षेत्र में काम करने वाले कारीगरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा. ये सभी कारीगर बंगाल के रहने वाले है जो जमशेदपुर में काम करने आए थे. कारीगरों ने बताया है कि लॉकडाउन में काम नहीं है अब पैसा भी खत्म हो गया है. मीडिया के माध्यम से कारीगरों ने प्रशासन से मदद की अपील की है, इधर स्थानीय निकाय ने उन्हें मदद करने का भरोसा दिया है. लॉकडाउन में देश के सभी प्रदेशो में मजदूर काम करने वाले कारीगर फंसे हुए है, जिन्हें लॉकडाउन खुलने का इंतजार है. जमशेदपुर के जुगसलाई क्षेत्र में ज्वेलर्स शॉप में काम करने वाले 40 कारीगर लॉकडाउन में फंसे हैं जो इन दिनों परेशानी का सामना कर रहे हैं. ये सभी कारीगर ज्वेलर्स शॉप से ऑर्डर मिलने पर काम करते है. वर्तमान में काम बंद होने के कारण एंकर सामने खाने की समस्या बन गयी है. कारीगरों की समस्या से स्थानीय निकाय को अवगत कराएं जाने के बाद निकाय द्वारा कारीगरों को मदद करने की बात कही गयी है. इधर, कारीगरों ने बताया है कि सभी 40 कारीगर ज्वेलर्स शॉप से ऑर्डर मिलने पर काम करते हैं. लॉकडाउन में काम बंद है ऐसे में वो अपने घर भी नहीं जा पा रहे हैं. उन्होंने बताया है सामान्य दिनों में महीने में दो तीन दिन के लिए वो घर जाकर पैसा पहुंचाया करते थे, लेकिन अभी यहां और घर की हालत खराब है. उनका अपना पैसा भी खत्म हो गया है मीडिया के माध्यम से कारीगरों ने प्रशासन से मदद की अपील की है.

कोई टिप्पणी नहीं: