बिहार : राष्ट्रीय सहारा हिंदी दैनिक के पत्रकार रमेश श्रीवास्तव का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 22 अप्रैल 2020

बिहार : राष्ट्रीय सहारा हिंदी दैनिक के पत्रकार रमेश श्रीवास्तव का निधन

यह कहकर श्रद्धांजलि दिएदकमला कांत पाण्डेय ने सादर नमन एवं विनम्र । वरिष्ठ पत्रकार आलोक मिश्रा ने नमन दिया और कहा कि वे बहुत ही निकट के थे।विजय शंकर पाण्डेय ने विनम्र श्रद्धांजलि दी। रवि सत्यार्थी ने ॐ शांति ! विनम्र श्रद्धांजलि!! अरूण कुमार तिवारी, आलोक कुमार के साथ नवाब आलम ने वाकई बहुत एक प्रखर प्रतिभाशाली पत्रकार के साथ साथ एक अच्छे इंसान थे
bihar-journalist-ramesh-srivastav-passes-away
पटना,21 अप्रैल। राष्ट्रीय सहारा हिंदी दैनिक के पत्रकार रमेश श्रीवास्तव का निधन हो गया। वे लम्बे समय से असाध्य रोग कैंसर से पीड़ित थे। पिछले एक साल से ज्यादा समय से ही उक्त गंभीर बीमारी से बीमार चल रहे थे। उनका इलाज पटना स्थित महावीर कैंसर संस्थान मे चल रहा था। उनके माता-पिता का निधन नब्बे के दशक में ही हो गया था। वह अपने पीछे पत्नी और एक पुत्र- एक पुत्री समेत भरापूरा परिवार छोङ गये।  समकालीन  तापमान के पत्रकार कमला कान्त पाण्डेय का कहना है कि अब तक कदम दर कदम साथ चलने वाले रमेश श्रीवास्तव का सशरीर साथ और सान्निध्य अब कभी भविष्य मे नही मिल पायेगा । खासकर दानापुर के पत्रकार मित्रों के लिए यह बहुत ही दुखद और सदमा भरा समाचार है ।  आगे कहा कि रमेश जी तीन भाइयांे मे दूसरे नंबर पर थे । वह काफी मिलनसार, हँसमुख, सहयोगी और सहृदय व्यक्तित्व के धनी व्यक्तियों मे से एक रहे हैं । सुझ-बुझ के साथ चलने के कारण आज तक कुल मिलाकर पत्रकारिता के क्षेत्र मे उनकी अलग पहचान बन गई थी । खाँटी भोजपुरिया होने के बावजूद हिन्दी, भोजपुरी और मगही  भाषा पर पकङ बना रखा था ।बोल चाल मे इन तीनो भाषाओं के इस्तेमाल करने मे उनकी कोई सानी नही है ।  आगे उन्होंने कहा कि रमेश श्रीवास्तव के साथ मेरा जान-पहचान 1988 में हुआ। इसका श्रेय दानापुर , सुल्तानपुर निवासी अभी प्रभात खबर के वरिष्ठ पत्रकार संजय कुमार को जाता है । उसने ही समाचार संकलन के दौरान रमेश जी से मुलाकात कराया और तब से लेकर आज तक यह क्रम चलता आ रहा। इस अवधि के दौरान आमतौर पर लोगों , पत्रकार वार्ता या पत्रकार मित्रो से मिलने के अवसर पर दूसरी तरफ रहने के बावजूद पास मे मुस्कान विखेरने की अनुभूति कराया करते थे । यह उनके खास गुणों मे शुमार रहा है । एक बार फिर दिवंगत पत्रकार रमेश श्रीवास्तव को पत्रकार संजय कुमार और मेरे तरफ से सादर नमन और विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ईश्वर से प्रार्थना है कि परिवार के सदस्यों को धैर्य धारण करने की क्षमता प्रदान करे । यह कहकर श्रद्धांजलि दिएदकमला कांत पाण्डेय ने सादर नमन एवं विनम्र । वरिष्ठ पत्रकार आलोक मिश्रा ने नमन दिया और कहा कि वे बहुत ही निकट के थे।विजय शंकर पाण्डेय ने विनम्र श्रद्धांजलि दी। रवि सत्यार्थी ने ॐ शांति ! विनम्र श्रद्धांजलि!! अरूण कुमार तिवारी, आलोक कुमार के साथ नवाब आलम ने वाकई बहुत एक प्रखर प्रतिभाशाली पत्रकार के साथ साथ एक अच्छे इंसान थे।मेरे भी बहुत करीबी मित्र थे,उनकी कमी हमेशा खलती रहेगी।श्री चैधरी ने उनका मेरे साथ भी बहूत मधुर सम्बन्ध रहा ,वे पूर्णिया मेरे घर भी आये थे,उनके निधन की खबर से मर्माहत हूँ,, विनम्र श्रद्धांजलि, नमन।पकंज वात्सल नमन, ईश्वर उनकी आत्मा को चिर शांति प्रदान करें

कोई टिप्पणी नहीं: