बिहार : माले महासचिव ने नीतीश कुमार को लिखा पत्र, हड़ताली शिक्षकों से बात करे सरकार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

बिहार : माले महासचिव ने नीतीश कुमार को लिखा पत्र, हड़ताली शिक्षकों से बात करे सरकार

dipankar-write-letter-to-nitish-for-teachers
पटना 13 अपैल, भाकपा-माले महासचिव कॉ. दीपंकर भट्टाचार्य आज ईमेल के जरिए बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार को शिक्षकों की हड़ताल के संदर्भ में पत्र भेजा है. उन्होंने पत्र में शिक्षक प्रतिनिधियों से वार्ता कर जारी गतिरोध को समाप्त करने का अनुरोध किया है. पत्र में उन्होंने लिखा है कि बिहार के लाखों प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षक लंबे समय से हड़ताल पर हैं. लेकिन हड़ताल शिक्षकों के प्रति सरकार की ‘नो वर्क नो पे’ की नीति के कारण अब तक कई शिक्षकों की मौत हो चुकी है. शिक्षकों का परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच गया है और उनके सामने अन्य दूसरी समस्यायें भी खड़ी हो गई हैं. आज जब पूरा देश कोरोना महमारी और लॉकडाउन से उत्पन्न विकट परिस्थितियों का सामना कर रहा है, ऐसे समय में सबको साथ लेकर चलने की जरूरत है. इस गंभीर चुनौती का सामना हम तभी कर पायेंगे जब हम मिलकर इसके खिलाफ लड़ेंगे. किसी प्रकार के गतिरोध की स्थिति में केवल नुकसान ही होगा. इसलिए बिहार के मुख्यमंत्री को हड़ताली शिक्षकों से अविलंब वार्ता आयोजित कर उनकी जायज मांगों को सुनना चाहिए. स्थिति सामान्य होने तक उन्हें विगत महीने के साथ-साथ इस महीने का वेतन प्रदान करना चाहिए, शिक्षकों पर की गई दंडात्मक कार्रवाइयों को वापस लिया जाना चाहिए और मृतक शिक्षक परिवार के लिए घोषित मुआवजे की राशि को तत्काल उपलब्ध करवाने की गारंटी की जानी चाहिए. उन्होंने उम्मीद जताई कि बिहार के मुख्यमंत्री इस दिशा में सकारात्मक कदम उठायेंगे और इस गतिरोध को समाप्त करने की दिशा में पहल लेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: