बिहार : भाकपा-माले के आह्वान को दलित-गरीबों व मजदूरों का मिला व्यापक समर्थन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 12 अप्रैल 2020

बिहार : भाकपा-माले के आह्वान को दलित-गरीबों व मजदूरों का मिला व्यापक समर्थन

केंद्र व राज्य सरकार उनकी भूख का उपाय करे, हर जरूरतमंद तक राशन पहुुंचाने की गारंटी हो
people-support-cpi-ml-protest
पटना 12 अप्रैल भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल, खेग्रामस के महासचिव धीरेन्द्र झा और अखिल भारतीय किसान महासभा के महासचिव कॉ. राजाराम सिंह ने संयुक्त प्रेस बयान जारी करके राशन के सवाल पर भाकपा-माले द्वारा आहूत आज थाली बजाओ अभियान में दलित-गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों, किसानों से लेकर समाज के अन्य कामकाजी हिस्से की हुई जबरदस्ती भागीदारी की ओर केंद्र व राज्य सरकार का ध्यान खींचते हुए कहा है कि भूख से हो रही परेशानियों को अब नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. लॉकडाउन के कारण बड़ी आबादी भूखी है और तरह-तरही की परेशानियां झेल रही है. इसलिए युद्ध स्तर पर राशन का प्रबंध करे. माले नेताओं ने कहा कि हजारों गांवों में खासकर मुसहर टोली में भूख अपना पैर पसार रही है. आज के कार्यक्रम में इस तबके की बड़ी भागीदारी हुई. बच्चों से लेकर बूढों और महिलाओं ने थाली बजाकर राशन की मांग के लिए अपनी आवाज उठाई. भूख के कारण लोगों की लगातार हो रही मौतें बेहद चिंताजनक है.  ग्रामीण इलाकों के अलावा शहरों में भी आज के कॉल का अच्छा प्रभाव दिखा. राजधानी पटना में तकरीबन 50 शहरी गरीब मुहल्लों में लोगों ने थाली बजाई. शहरी गरीबों के साथ-साथ दिहाड़ी मजदूरों की अच्छी भागीदारी रही. यही तबका लॉकडाउन की सबसे अधिक मार झेल रहा है. आगे कहा कि थाली बजाने के साथ-साथ हर जिले में वहां के जिलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी व अन्य पदाधिकारियों के मार्फत हमलोगों ने राशन की मांग करते हुए प्रधानमंत्री को ज्ञापन भी भेजा है. ज्ञापन में हमने कोरोना से लड़ने के सवाल पर सरकार को कई सुझााव दिए हैं और सबके लिए राशन गारंटी की मांग की है.

कोई टिप्पणी नहीं: